Sunday , April 21 2024

छपरा में जहरीली शराब से हुई अब तक 43 लोगों की मौत,पढ़े पूरी ख़बर

बिहार के सारण जिले में जहरीली शराब से गुरुवार को 10 और लोगों की मौत हो गई। मरने वालों की संख्या बढ़कर अब 43 हो गई है। इन सभी की मौत मंगलवार रात से गुरुवार दोपहर के बीच हुई है। विभिन्न अस्पतालों में अभी 20 से 25 लोग और भर्ती हैं, जिनका इलाज किया जा रहा है। वहीं, छपरा शराबकांड की गाज अब पुलिसकर्मियों पर गिरने लगी है। मशरक के थानेदार और चौकीदार को सस्पेंड कर दिया गया है। इसी इलाके में सर्वाधिक मौतें हुई हैं। मढौरा डीएसपी पर भी विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा की गई है।
मरने वालों का आंकड़ा और बढ़ भी सकता है। अस्पतालों में भर्ती पीड़ितों में से कुछ की हालत गंभीर है। जहरीली शराब पीकर मरने वाले लोग इसुआपुर, अमनौर और मढौरा के रहने वाले थे। अमनौर में थाने का घेराव, परिजन ने की आगजनी अमनौर में जहरीली शराब से जान गंवाने वालों के परिजन सड़क पर उतर आए हैं। गुरुवार सुबह उन्होंने पुलिस थाने का घेराव करते हुए रोड जाम कर दिया और आगजनी। वे मुआवजे के साथ दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। विधानसभा में भारी हंगामा बिहार विधानसभा का शीतकालीन सत्र जहरीली शराब से मौतों के वजह से हंगामे की भेंट चढ़ गया है। सदन में लगातार दूसरे दिन बीजेपी विधायकों ने वेल में उतरकर प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद उन्होंने सदन की कार्यवाही से वॉकआउट कर दिया। मढौरा डीएसपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग छपरा के डीएम ने जहरीली शराब से मौतें होने के बाद मढौरा के डीएसपी पर विभागीय कार्रवाई और उनके ट्रांसफर की मांग की है। इस संबंध में डीएम ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर भेजा है। विजय सिन्हा समेत 11 बीजेपी विधायक पहुंचेंगे छपरा बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा समेत 11 बीजेपी विधायक आज छपरा पहुंचेंगे। वे जहरीली शराब से जान गंवाने वाले लोगों के परिजन से मुलाकात करेंगे। इसके अलाव अस्पतालों में भर्ती पीड़ितों से भी बात करेंगे। बीजेपी लगातार नीतीश सरकार को इस मुद्दे पर घेरे हुए है। जहरीली शराब से मौतों को लेकर विधानसभा में भी भारी हंगामा हुआ है। अब तक 17 शवों का पोस्टमार्टम, 30 लोग हिरासत में छपरा में 17 लोगों के शवों का बुधवार को पोस्टमार्टम किया गया। इनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आना बाकी है, लेकिन अधिकतर की जहरीली शराब से ही मौत होने की आशंका है। दूसरी ओर, पुलिस की ओर से जिले के विभिन्न इलाकों में ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है। अवैध शराब तस्करों के ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। पुलिस ने 30 लोगों को हिरासत में लिया है, उनसे पूछताछ की जा रही है।

Check Also

उत्तराखंड: नैनीताल सीट पर 15 साल में सबसे कम मतदान

नैनीताल सीट पर 61.75 प्रतिशत मतदान हुआ। वर्ष-2019 लोकसभा चुनाव से तुलना करें तो इस …