Sunday , July 14 2024

रेप पीड़िता की आत्महत्या मामले में बड़ी कार्रवाई, पूर्व IPS अमिताभ ठाकुर गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी पुलिस (UP Police) ने प्रदेश के पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर (Former IPS Amitabh Thakur) को गिरफ्तार (Arrested) कर लिया है।

रेप पीड़िता की आत्महत्या के मामले में बड़ी कार्रवाई

पुलिस ने अमिताभ ठाकुर पर रेप पीड़िता की आत्महत्या के मामले (Rape Victim Suicide Case) में कार्रवाई की है।

अब सुल्तानपुर का बदलेगा नाम, योगी कैबिनेट में होगा अंतिम फैसला

पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर (Former IPS Amitabh Thakur) ट्वीट कर कहा कि, पुलिस ने बिना कारण बताये और एफ.आई.आर. की कॉपी दिए जबरन हजरतगंज थाने (Hazratganj Police Station) ले जाया जा रहा है।

बता दें कि, रेप पीड़िता की खुदखुशी के मामले में पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर फंस गए हैं। मुख्तार अंसारी के कहने पर अमिताभ ठाकुर ने रेप के आरोपी अतुल राय की मदद में केस बिगाड़ने की कोशिश की थी।

UP : पुलिस ने पूर्व IPS अमिताभ ठाकुर को दोबारा किया हाउस अरेस्ट

अमिताभ ठाकुर और अतुल राय के खिलाफ मुकदमा दर्ज

बता दें कि, SIT की जांच के खुलासे के बाद अमिताभ ठाकुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ। हजरतगंज थाने में अमिताभ ठाकुर और अतुल राय के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ जिसके बाद अमिताभ ठाकुर गिरफ्तार हो गए हैं।

अमिताभ ठाकुर ने पूरा षडयंत्र रचा

पीड़िता ने खुदकुशी के पहले अमिताभ ठाकुर, मुख्तार अंसारी और अतुल राय के रिश्तों का खुलासा किया था। पीड़िता ने आरोप लगाया था कि, अमिताभ ठाकुर ने पूरा षडयंत्र रचा था।

Vaccination: भारत में 50 प्रतिशत आबादी को लग गई कोरोना वैक्सीन की पहली डोज़

पीड़िता ने खुदकुशी ने पहले जारी किया था वीडियो

इसके साथ ही पीड़िता ने नूतन ठाकुर पर भी आरोप लगाया था।पीड़िता ने खुदकुशी के पहले एक वीडियो जारी कर पूरे राज खोले थे।

SIT जांच में भी पीड़िता के आरोप सही निकले

वहीं SIT जांच में भी पीड़िता के आरोप सही निकले। जांच में अमिताभ ठाकुर और नूतन ठाकुर, मुख्तार अंसारी और अतुल राय के साथ करीबी संबंध सामने निकलकर सामने आए।

UP: चुनाव से पहले यूपी सरकार ने खोला पिटारा, कहा- किसानों पर दर्ज मुकदमे लिए जाएंगे वापस

बता दें कि, पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर (Former IPS Amitabh Thakur ) द्वारा नई राजनीतिक पार्टी (New Political Party) बनाने का ऐलान करने के कुछ घंटे बाद लखनऊ पुलिस (Lucknow Police) ने शुक्रवार को दोबारा हाउस अरेस्ट कर लिया.

UP: काशी में रोपवे के पायलट प्रोजेक्ट को मिली हरी झंडी

सरकार को इतना डर क्यों?

इसकी जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट के जारिए दी. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि, मेरे अयोध्या गोरखपुर यात्रा के निकट आते और नयी राजनैतिक पार्टी की घोषणा करते ही फिर नज़रबंद कर दिया गया. अजीबोगरीब स्थिति ! मानो कानून का नहीं व्यक्ति विशेष का राज हो! इतना डर क्यों सरकार?

21 अगस्त को भी अमिताभ ठाकुर को नजरबंद किया था

इससे पहले 21 अगस्त को पुलिस ने अमिताभ ठाकुर को नजरबंद कर दिया था. बता दें कि पिछले दिनों अमिताभ ठाकुर ने सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया था.

UP: 5 करोड़ की सहायता से चंद्रभानु गुप्त कृषि महाविद्यालय बनेगा विश्वविद्यालय: शिवपाल

सीएम योगी के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान

बता दें, इससे पहले अमिताभ ठाकुर ने ट्वीट कर चुनाव लड़ने का ऐलान किया था. उन्होंने लिखा था कि, कई साथी कह रहे हैं कि, आप योगी जी के खिलाफ चुनाव लड़ जाइए. विचार बुरा नहीं है.

UP: सीएम योगी का बड़ा फैसला, कल्याण सिंह के नाम पर होगा लखनऊ कैंसर संस्थान और बुलंदशहर मेडिकल कॉलेज

वैसे मैं भी जानता हूं कि मुझे वोट बहुत ही कम मिलेंगे, नाममात्र के, क्योंकि मुझमें नेताओं वाले गुण नहीं हैं, पर इतना जरूर है कि उस चुनाव में योगी जी से आचार संहिता का पूर्ण पालन जरूर करवा दूंगा.

अमिताभ ठाकुर कौन हैं ?

1992 बैच के आईपीएस अधिकारी रहे अमिताभ ठाकुर मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं. उनका करियर काफी विवादों से घिरा रहा. वह कई जिलों में एसपी रहे.

अब सुल्तानपुर का बदलेगा नाम, योगी कैबिनेट में होगा अंतिम फैसला

अमिताभ ठाकुर नेशनल आरटीआई फोरम के संस्थापक भी रहे हैं. उनकी पत्नी भी एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं. साल 2015 में अमिताभ ठाकुर ने उस वक्त सनसनी फैला दी थी.

जब पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव पर धमकी देने का आरोप लगा दिया था. वह सर्विस में रहते हुए सरकारों के खिलाफ मुखर रहे. इसी साल उन्हें जबरन रिटायर कर दिया है.

Vaccination: भारत में 50 प्रतिशत आबादी को लग गई कोरोना वैक्सीन की पहली डोज़

Check Also

यूपी: राहत के साथ आफत भी लेकर आई बारिश, बिजली गिरने से चार की मौत

पूरे यूपी में करीब-करीब मानसून छा गया है। लगातार बारिश होने से प्रदेश के ज्यादातर …