Friday , May 24 2024

जहांगीरपुरी में हिंसा के बाद बुलडोजर कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक, कहा- बरकरार रखें यथास्थिति

नई दिल्ली। जहांगीरपुरी में हुई हिंसा के बाद एमसीडी की तरफ से अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलाने की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने ब्रेक लगा दी है. कोर्ट ने फिलहाल याथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया है.

विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से की मुलाकात

अब इस मामले पर गुरुवार को फिर से सुनवाई होगी. इससे पहले, जमीयत-उलेमा-ए-हिंद देश के कई राज्यों में चल रहे बुलडोज़र एक्शन के खिलाफ अपनी याचिका पर जल्द सुनवाई की मांग की थी. दुष्यंत दवे ने सबसे पहले इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में रखा.

यथास्थिति बरकरार रखी जाए

उन्होंने कहा कि, अवैध तरीके से कार्रवाई हो रही है और नोटिस भी नहीं दिया. इसके बाद CJI ने कहा कि, फिलहाल यथास्थिति बरकरार रखी जाए.

इकबाल सिंह बोले- SC के आदेश का करेंगे पालन

वहीं दूसरी तरफ, नगर निगम की तरफ से अवैध निर्माण पर बुलडोजर की कार्रवाई को लेकर रोक पर सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद उत्तर दिल्ली नगर निगम के मेयर राजा इकबाल सिंह ने कहा कि वे आदेश का पालन करेंगे.

प्रदेश में पुलिस निरीक्षक पद के 34 अधिकारियों को मिली पुलिस उपाधीक्षक के पद पर प्रोन्नति

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए बताया कि, वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे और उसके हिसाब से एक्शन लेंगे. उन्होंने आगे बताया कि हमने फिलहाल अवैध निर्माण को ढहाने की कार्रवाई रोक दी है.

बुलडोजर को लेकर ओवैसी का हमला

एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने जहांगीरपुरी में अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलाने के फैसले को ‘बीजेपी का गरीबों के खिलाफ जंग का ऐलान बताया है’. साथ ही इस फैसले पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजेरीवाल की भूमिका को संदिग्ध बताया है. असदुद्दीन ओवैसी ने अपने ट्वीट में लिखा है, “बीजेपी ने गरीबों के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है.

कोरोना के मामलों में तेजी के बीच सरकार का बड़ा फैसला : बीमा योजना की अवधि को 180 दिनों के लिए बढ़ाया

बीजेपी अतिक्रमण के नाम पर यूपी और एमपी की तरह दिल्ली में भी घरों को तबाह करने जा रही है. कोई नोटिस नहीं, अदालत जाने का मौका नहीं. बस गरीब मुसलमानों को जिंदा रहने की सजा देना है. अरविंद केजरीवाल को अपनी संदिग्ध भूमिका को स्पष्ट करना चाहिए. क्या उनकी सरकार का पीडब्ल्यूडी इस ‘विध्वंस अभियान’ का हिस्सा है?

निराशाजनक स्थिति – असदुद्दीन ओवैसी

क्या जहांगीरपुरी के लोगों ने उन्हें इस तरह के विश्वासघात और कायरता के लिए ही उन्हें वोट दिया था? उनका बार-बार बचना और ये कहना कि ‘पुलिस हमारे नियंत्रण में नहीं है’ यहां काम नहीं करेगा. अपने ट्वीट के अंत में असदुद्दीन ओवैसी ने लिखा, निराशाजनक स्थिति.”

योगी कैबिनेट में 14 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, इन जिलों में होगा हेलीपोर्ट का निर्माण

इससे पहले, जहांगीरपुरी में मस्जिद के अगल-बगल में उसी रोड पर अतिक्रमण हटाया जा रहा था, जिस सड़क पर हिंसा हुई थी. पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स की बड़ी संख्या में तैनाती की गई है. इसके साथ ही, पूरे इलाके में ड्रोन से नजर रखी जा रही है.

मौके पर पहुंचे स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर दीपेंद्र पाठक ने बताया था कि, एमसीडी का जो भी अतिक्रमण हटाओ अभियान होगा, हम उसमें सहायता करेंगे. हमारा रोल कानून व्यवस्था मेंटेन करना और उसके अनुसार पर्याप्त फोर्स मुहैया कराने का है. हमने आज इस ड्राइव को देखते हुए पर्याप्त इंतजाम किए हैं. किसी भी अनहोनी से निपटने के लिए हमारी पुख्ता तैयारी है.

अब तक नाबालिग समेत 26 लोगों को गिरफ्तार किया

गौरतलब है कि शनिवार को हनुमान जयंती के दिन दिल्ली के जहांगीरपुरी में शोभा यात्रा के दौरान दो समुदाय के बीच हिंसा भड़क उठी थी. इसमें दिल्ली पुलिस के जवानों के साथ आम लोग घायल हुए थे. उसके बाद पुलिस ने अब तक नाबालिग समेत 26 लोगों को गिरफ्तार किया है. पूछताछ में कई अहम सुराग भी हाथ लगे हैं. इसके बाद नॉर्थ दिल्ली नगर निगम की तरफ से चिट्ठी लिखकर जहांगीरपुरी में अवैध निर्माण हटाने की इजाजत मांगी गई थी.

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में ट्रेनिंग सेंटर और स्कूल पर बम धमाका, 8 बच्चों की मौत

Check Also

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पांच दिवसीय दौरे पर पहुंचे अगरतला

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत क्षेत्रीय प्रशिक्षण शिविर में भाग लेंगे के लिए …