Saturday , July 13 2024

उत्तराखंड: शीतकाल के लिए बंद हुए रुद्रनाथ मंदिर के कपाट

चमोली। चतुर्थ केदार रुद्रनाथ के कपाट रविवार को ब्रह्ममुहूर्त में विधि-विधान से बंद कर दिए गए हैं। अब छह माह तक शीतकाल में भगवान रुद्रनाथ की पूजा अर्चना गोपेश्वर के गोपीनाथ मंदिर में होगी।

श्रावस्ती को सीएम योगी ने दी 390 करोड़ की सौगात, बहराइच में भी 144 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास

आराध्य देवता को लोगों ने अनाज का भोग लगाया

भगवान रुद्रनाथ की उत्सव डोली गोपीनाथ मंदिर में पहुंचते ही स्थानीय लोगों ने अपने आराध्य देवता को नए अनाज का भोग लगाया और पूजा-अर्चना की। इस दौरान भोलेनाथ के जयकारों से गोपीनाथ की नगरी गुंजायमान हो उठी।

ग्रामीणों ने की भगवान रुद्रनाथ की पूजा-अर्चना

सुबह आठ बजे भगवान रुद्रनाथ की उत्सव डोली पंचगंगा, पित्रधार, पनार बुग्याल, ल्वींटी बुग्याल होते हुए सगर गांव पहुंची। यहां ग्रामीणों ने भगवान रुद्रनाथ को भोग लगाया और पूजा-अर्चना की।

राजस्थानः पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा का निधन, जयपुर में चल रहा था इलाज

इस दौरान रुद्रनाथ भगवान की पंचमुखी आरती की गई। शाम पांच बजे रुद्रनाथ की उत्सव डोली गोपीनाथ मंदिर परिसर में पहुंची।

यहां करीब एक घंटे तक डोली को भक्तगणों के दर्शनार्थ रखा गया। देर शाम को भगवान रुद्रनाथ की प्रतिमा को गोपीनाथ मंदिर के गर्भगृह में विराजमान कर दिया गया।

शाइन सिटी फर्जीवाड़ा में चौथा आरोपी गिरफ्तार, जयपुर के होटल में नाम बदलकर रह रहा था राजीव

इस मौके पर बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के पूर्व अध्यक्ष अनसूया प्रसाद भट्ट, रुद्रनाथ के पुजारी धर्मेंद्र तिवाड़ी, गोपीनाथ-रुद्रनाथ मंदिर के प्रबंधक आशुतोष भट्ट, रुद्रनाथ मंदिर समिति के सदस्य देवेंद्र सिंह बिष्ट, सतेंद्र सिंह, महेंद्र सिंह रावत, प्रयाग दत्त भट्ट, अरविंद भट्ट, हरीश भट्ट, प्रेम बल्लभ भट्ट, बदरी प्रसाद और मयंक आदि मौजूद थे।

बदरीनाथ में 5000 और केदारनाथ में 11915 ने किए दर्शन

वीकेंड पर बदरीनाथ धाम में यात्रियों का हुजूम उमड़ा पड़ा। बारिश के बाद भी रविवार शाम चार बजे तक धाम में 5002 यात्रियों ने दर्शन किए जबकि शनिवार को चार हजार से अधिक यात्रियों ने भगवान बदरीनाथ के दर्शन किए। जबकि केदारनाथ में 11915 तीर्थयात्रियों बाबा केदार के दर्शन किए।

UP : पुलिस महकमे में बड़ा बदलाव, देर रात 2 IPS और 11 PPS अफसरों के तबादले

वहीं बदरी, केदारनाथ समेत अन्य धामों और पंच केदारों के कपाट बंद होने की तिथियां इस प्रकार है

श्री बदरीनाथ धाम- 20 नवम्बर
श्री केदारनाथ धाम- 6 नवम्बर
श्री गंगोत्री धाम- 5 नवम्बर
श्री यमुनोत्री धाम- 6 नवम्बर
श्री मध्यमहेश्वर- 22 नवम्बर
तुंगनाथ- 30 अक्टूबर

मनीष गुप्ता हत्याकांड : जौनपुर से आखिरी फरार आरोपी SI विजय यादव गिरफ्तार

Check Also

उच्च व मध्य हिमालय क्षेत्र में मौजूद तालों की गहराई और क्षेत्रफल की नहीं जानकारी

रुद्रप्रयाग: प्राकृतिक तालों की गहराई और क्षेत्रफल की माप को लेकर अभी तक शासन व …