Friday , May 24 2024

चीन ने नेपाल की जमीन पर किया कब्जा, युवाओं ने प्रदर्शन कर लगाए ‘चीन गो बैक’ के नारे

काठमांडू । भारत और नेपाल के पड़ोसी देश चीन ने नेपाल की सैकड़ों हेक्टेयर जमीन पर कब्जा जमा लिया है. जिसको लेकर नेपाल में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

राहुल गांधी ने ‘बापू’ को दी श्रद्धांजलि, मोदी सरकार पर कसा तंज, कही ये बात

युवा ‘चीन गो बैक’ के नारे लगा रहे

राजधानी काठमांडू में सड़कों पर निकले युवा ‘चीन गो बैक’ के नारे लगा रहे हैं. नेपाल में चीन के खिलाफ लोगों का गुस्सा लगातार बढ़ता जा रहा है. लोग जिस नेपाली जमीन पर चीन ने कब्जा कर लिया है, उसे वापस लौटाने की मांग कर रहे हैं.

नेपाल की जमीन पर चीन ने किया इमारतों का निर्माण

चीन ने नेपाल की करीब 150 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा किया है. नेपाली जमीन पर चीनी कब्जा लिमी लप्चा से लेकर हुमला जिले के हिल्सा तक हुआ है. हुमला में चीन ने 10-11 इमारतों को निर्माण कर लिया है.

गांधी जयंती: राजघाट पहुंचकर पीएम मोदी ने बापू को दी श्रद्धांजलि

इमारतें नेपाली सीमा के 2 किमी के अंदर बनी है

सभी इमारतें नेपाली सीमा के 2 किलोमीटर भीतर बनी हुई हैं. हुमला के मुख्य जिला अधिकारी की तरफ से भी चीनी कब्जे की जांच करायी गयी थी.

जांच में चीन की इमारतें बनाने की बात बिल्कुल सही

जांच में पाया गया है कि, नेपाली जमीन पर चीन की इमारतें बनाने की बात बिल्कुल सही है. इसी के बाद नेपाल में चीन गो बैक के नारे लगने शुरू हो गए हैं.

आज का पंचांग और राशिफल : ये राशि वाले रहे सावधान, जानिए कैसा बीतेगा शनिवार ?

चीन के खिलाफ ज़ोर शोर से रैलियां निकाल रहे हैं युवा

चीन के इसी कब्जे के खिलाफ नेपाल में प्रदर्शन हो रहे हैं. खासकर नेपाल के युवा चीन के खिलाफ ज़ोर शोर से रैलियां निकाल रहे हैं.

हुमला में 150 हेक्टेयर से ज्यादा की जमीन पर कब्जा

पिछले साल भारत के साथ गलवना में चीनी सेना की हुई झड़प के फौरन बाद चीन ने नेपाल के हुमला में 150 हेक्टेयर से ज्यादा की जमीन पर कब्जा कर लिया था.

अखिलेश यादव का योगी सरकार पर हमला, कहा- अगर बैलेट पेपर से कराया जाएगा चुनाव.. तो जीतेगी सपा

नेपाल और चीन के बीच कोई सीमा विवाद नहीं

तब नेपाल पर के पी शर्मा ओली की सरकार थी. जब विवाद बढ़ा तो चीनी के दूतावास ने बाकायदा बयान जारी किया और कहा कि, नेपाल और चीन के बीच कोई सीमा विवाद नहीं है.

चीनी कब्जे की जांच के लिए हाई लेवल कमेटी बनायी

इसके बाद जब नेपाल में सरकार बदली, शेर बहादुर देउबा नेपाल के पीएम बने. जिसके बाद उन्होंने इसे लेकर बड़ा कदम उठाया. चीनी कब्जे की जांच के लिए हाई लेवल कमेटी बनायी गयी.

7 अक्टूबर को उत्तराखंड में पीएम मोदी फूंकेंगे चुनावी बिगुल, बाबा केदार के कर सकते हैं दर्शन

चीन के साथ सभी सीमा विवादों पर रिपोर्ट देगी कमेटी

कमेटी बनाने का फैसला खुद शेर बहादुर देउबा ने लिया. चीन के साथ सभी सीमा विवादों पर ये कमेटी रिपोर्ट देगी.

मामले को दबाने की कोशिश कर रहा चीन

चीन ने मामले को दबाने की पूरी कोशिश की, लेकिन ऐसा हो ना सका. यही नहीं चीन ने सीमा पर जो पिलर्स लगे थे, उन्हें भी बदल दिया.

Punjab Crisis: अमरिंदर सिंह को मुखौटे के रूप में इस्तेमाल करना चाहती है BJP- हरीश रावत

नेपाल के लोग अपने इलाके में नहीं जा पा रहे

नेपाली जांच के मुताबिक, नेपाल-चीन बॉर्डर के पिलर नंबर 11 और 12 को चीन ने बदल दिया है, जिससे नेपाल के लोग अपने इलाके में नहीं जा पा रहे हैं.

चीन के खिलाफ लोगों में आक्रोश

चीन की इसी कब्जे वाली नीति के विरोध में नेपाल के युवा सड़कों पर उतर कर उसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.

UP : अब जेलों में बंद कैदियों के लिए मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का इस्तेमाल करना होगा अपराध

Check Also

23 मई का राशिफल

मेष  आज के  दिन की शुरुआत थोड़ा कमजोर रहेगी। आप अपने खर्च लायक धन कमाने …