Saturday , July 20 2024

68 साल बाद एयर इंडिया की ‘घर वापसी’, टाटा ने लगाई सबसे ऊंची बोली

नई दिल्ली। टाटा संस ने घाटे में चल रही सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया के लिए बोली जीत ली है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार, अब टाटा ग्रुप एयर इंडिया का नया मालिक होगा।

इन 6 राशियों के लिए बहुत खास रहेगा एक अक्टूबर, बरसेगी भगवान की कृपा, जानिए अपना राशिफल

रिपोर्ट में कहा गया है कि, मंत्रियों के एक पैनल ने एयरलाइन के अधिग्रहण के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। आने वाले दिनों में एक आधिकारिक घोषणा की उम्मीद है।

1932 में टाटा एयरलाइंस के नाम से हुई थी शुरुआत

यानी टाटा के साथ सरकार का सौदा पक्का होने से विमानन कंपनी की 67 साल बाद ‘घर वापसी’ होगी। टाटा समूह ने अक्तूबर 1932 में टाटा एयरलाइंस के नाम से एयर इंडिया की शुरुआत की थी।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने की बैठक, आर्थिक अपराध करने वाले भगोड़े अपराधियों पर कसेगा शिकंजा

वर्ष 1947 में देश की आजादी के बाद एक राष्ट्रीय एयरलाइंस की जरूरत महसूस हुई। ऐसे में भारत सरकार ने एयर इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण कर लिया।

इसके बाद 1953 में भारत सरकार ने एयर कॉर्पोरेशन एक्ट पास किया और फिर टाटा समूह से इस कंपनी में बहुलांश हिस्सेदारी खरीद ली। 

कंपनी पर 60074 करोड़ रुपये का कर्ज

31 मार्च 2019 तक कंपनी पर 60074 करोड़ रुपये का कर्ज था। मार्च 2021 को समाप्त तिमाही में कंपनी के 9500 से 10000 करोड़ रुपये के घाटे में रहने की आशंका है।

आज का पंचांग और राशिफल : ये राशि वाले रहे सावधान, वरना होगी परेशानी, जानें अपना राशिफल ?

एयर इंडिया खरीदने वाली कंपनी को 23,286.5 करोड़ रुपये ही चुकाने होंगे। शेष कर्ज को विशेष उद्देश्य के लिए बनाए गए एयर इंडिया एसेट होल्डिंग्स लिमिटेड को ट्रांसफर कर दिया जाएगा। इसका मतलब है कि बाकी का कर्ज खुद सरकार उठाएगी।

मौजूदा समय में एयर इंडिया 4400 घरेलू उड़ानें

डील के तहत एयर इंडिया का मुंबई में स्थित हेड ऑफिस और दिल्ली का एयरलाइंस हाउस भी शामिल है। मुंबई के ऑफिस का बाजार मूल्य 1,500 करोड़ रुपये से ज्यादा है।

भारत को ‘हिंदू राष्ट्र’ घोषित नहीं किया तो ले लूंगा जल समाधि, जगदगुरु परमहंस ने दी चेतावनी

मौजूदा समय में एयर इंडिया 4400 घरेलू उड़ानें और विदेशों में 1800 लैंडिंग और पार्किंग स्लॉट को कंट्रोल करती है।

रिजर्व प्राइस से करीब 3,000 करोड़ रुपये ज्यादा है टाटा की बोली 

इकॉनोमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, टाटा ग्रुप की बोली सरकार द्वारा तय किए गए रिजर्व प्राइस से करीब 3,000 करोड़ रुपये ज्यादा है। टाटा की बोली स्पाइसजेट के चेयरमैन अजय सिंह द्वारा लगाई गई बोली से लगभग 5,000 करोड़ रुपये अधिक है।

कारोबारी मनीष की पत्नी को मिलेगी सरकारी नौकरी, मीनाक्षी बोलीं- हमें भरोसा.. न्याय दिलाएंगे योगी जी

आगे रिपोर्ट में कहा गया कि, सरकारी सूत्रों ने उन रिपोर्ट्स पर प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया है, जिसमें रिजर्व प्राइस को 15,000-20,000 करोड़ रुपये बताया गया है।

2020 में शुरू हुई थी एयर इंडिया को बेचने की प्रक्रिया 

बता दें कि, एयर इंडिया को बेचने की प्रक्रिया जनवरी 2020 में ही शुरू कर दी गई थी, लेकिन कोरोना महामारी के कारण इसमें लगातार देरी हुई। अप्रैल 2021 में सरकार ने एक बार फिर योग्य कंपनियों से बोली लगाने को कहा। 15 सितंबर बोली लगाने का आखिरी दिन था।

पंजाब : कैप्टन अमरिंदर सिंह बोले- भाजपा में शामिल नहीं हो रहा… लेकिन कांग्रेस छोडूंगा

साल 2020 में भी टाटा ग्रुप ने एयर इंडिया के अधिग्रहण को लेकर रुचि पत्र दिया था। सरकार ने एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओएल) के नियमों में ढील दी थी जिसके बाद कर्ज में डूबे एयर इंडिया को खरीदने में कुछ कंपनियों ने रुचि दिखाई।

नए नियमों के तहत ही कर्ज के प्रावधानों में नरमी बरती गई ताकि स्वामित्व वाली कंपनी को पूरा कर्ज न वहन करना पड़े।

मनीष मर्डर केस : सरकार ने भ्रष्ट पुलिस अफसरों पर एक्शन करने को कहा, सीएम योगी से मिलेगा पीड़ित परिवार

Check Also

29 जून का राशिफल: मिथुन और वृश्चिक राशि वालों को खर्चों पर करना होगा नियंत्रण

मेष दैनिक राशिफल (Aries Daily Horoscope) आज का दिन आपके लिए मिला-जुला रहने वाला है। …