Monday , May 20 2024

यूपी में कोरोना कंट्रोल: 62 जिलों में नहीं मिला एक भी केस, 17 जिले कोरोना मुक्त

लखनऊ। यूपी में सीएम योगी (CM yogi) की थ्री टी नीति के कारण अब कोरोना कंट्रोल (corona control) होने लगा है। राज्य में 24 घंटे में हुई टेस्टिंग में सिर्फ 17 नए मरीजों (new patients) की पुष्टि हुई। इसी अवधि में 36 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज (discharge) हुए है।

मिशन 2022: सपा ने जूही सिंह को नियुक्त किया महिला सभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष

62 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं

वहीं सूबे में पिछले 24 घंटे में हुई 1,89, 744 सैम्पल की टेस्टिंग में 62 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया, जबकि 13 जनपदों में इकाई अंक में मरीज पाए गए।

ये 17 जिले कोरोना से हुए मुक्त

प्रदेश के 17 जिले अलीगढ़, अमेठी, बलिया, बांदा, बहराइच, बिजनौर, चित्रकूट, देवरिया, फर्रुखाबाद, फिरोजाबाद, हरदोई, हाथरस, कासगंज, कौशाम्बी, महोबा, संतकबीरनगर और शामली में कोविड का एक भी मरीज शेष नहीं है। यह जिले कोविड संक्रमण से मुक्त हैं।

6 दिन बाद देश में मिले 35 हजार से कम नए केस, रिकवरी रेट 97.46 फीसदी

प्रदेश में रिकवरी रेट 98.6 फीसदी

बता दें कि, प्रदेश में औसतन हर दिन ढाई लाख से अधिक टेस्ट हो रहे हैं, जबकि पॉजिटिविटी दर 0.01 बनी हुई है और रिकवरी दर 98.6 फीसदी है।

सूबे में एक्टिव केस की संख्या 419 है

वर्तमान में प्रदेश में ऐक्टिव कोविड केस की संख्या 419 रह गई है। हालांकि यह सतर्कता और सावधानी बरतने का समय है।

बीजेपी की जन आशीर्वाद यात्रा आज से शुरू, 39 मंत्री 212 लोकसभा क्षेत्रों का करेंगे दौरा

अब तक इतने सैंपल की हुई जांच

थोड़ी सी लापरवाही संक्रमण को बढ़ाने का कारक बन सकती है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, अब तक 6,92,84,717 कोविड सैम्पल की जांच की जा चुकी है।

प्रदेश में 5 करोड़ 74 लाख से ज्यादा वैक्सीन लगी

टीकाकरण की प्रक्रिया को और तेज करने की जरूरत है। उत्तर प्रदेश एक मात्र राज्य है, जहां अब तक 05 करोड़ 74 लाख 39 हजार से अधिक वैक्सीन डोज लगाई जा चुकी है।

आज से खुल गए स्कूल, कोविड प्रोटोकॉल का पालन अनिवार्य

अब तक 92 लाख से अधिक लोगों को टीके की दोनों डोज लगी

वहीं 4 करोड़ 82 लाख 53 हजार से अधिक लोगों ने वैक्सीन की एक डोज प्राप्त कर ली है। प्रदेश में अब तक 92 लाख से अधिक लोग कोविड टीके की दोनों डोज प्राप्त कर चुके हैं। इस स्थिति को और बेहतर करने की आवश्यकता है।

मेडिकल कॉलेजों को साधन संपन्न बनाया जा रहा

इसके साथ ही सरकार के लगातार प्रयासों से मेडिकल कॉलेजों को साधन संपन्न बनाया जा रहा है। सभी केंद्रों पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सहित विभिन्न चिकित्सकीय उपकरण उपलब्ध कराए गए हैं।

मिशन 2022: सपा ने जूही सिंह को नियुक्त किया महिला सभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष

Check Also

वाराणसी: आदि विश्वेश्वर की पूजा अर्चना के दाखिल अर्जेंट वाद पर सुनवाई आज

आदि विश्वेश्वर की पूजा अर्चना के लिए दाखिल अर्जेंट वाद पर रविवार यानी आज सिविल …