Wednesday , June 19 2024

प्रदेश में रक्षा परितंत्र होगा मजबूत, यूपीडा और एसआईडीएम ने मिलाया हाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश औद्योगिक एक्सप्रेसवे विकास प्राधिकरण  और सोसाइटी ऑफ़ इंडियन डिफेन्स मैन्युफ़ैक्चरर्स के बीच एक एमओयू साइन किया गया है। जिसके अंतर्गत उत्तर प्रदेश को रक्षा उद्योग के गढ़ के रूप में स्थापित करने के लिए विभिन्न एमएसएमई, स्टार्टअप, रक्षा औद्योगिक इकाइयों को इस दिशा में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए प्रेरित किया जायेगा।

निवेशकों को प्रदेश में निवेश करने के लिए करेंगे प्रेरित

इस एमओयू के माध्यम से विदेशी और घरेलू निवेशकों को प्रदेश में निवेश करने के लिए प्रेरित किया जायेगा | साथ ही साथ यूपी डिफेन्स इंडस्ट्रियल कॉरिडोर के सन्दर्भ में कौशल विकास, अधोरचना विकास तथा शैक्षणिक संस्थाओं के महत्वपूर्ण योगदान को भी उल्लेखित किया गया है ।

एक हज़ार करोड़ के निवेश की सम्भावना

इस मौके पर लखनऊ में सीआईआई कार्यालय में अपने विचार व्यक्त करते हुए अवनीश अवस्थी मुख्य कार्यपालक अधिकारी यूपीडा ने बताया कि, इस एमओयू के अंतर्गत एसआईडीएम के माध्यम से इस क्षेत्र में लगभग एक हज़ार करोड़ के निवेश की सम्भावना है | अगले महीने प्रधानमंत्री द्वारा इसके शुभारम्भ किए जाने की उम्मीद है।

UPEIDA के सीईओ श्री अवस्थी ने यह भी उल्लेख किया कि, प्राधिकरण ने भारत डायनेमिक्स लिमिटेड के साथ कॉरिडोर के तहत झांसी में 250 हेक्टेयर भूमि उपलब्ध कराने के लिए समझौता किया है।

इस अवसर पर सुनील मिश्रा महानिदेशक, सोसाइटी ऑफ इंडियन डिफेंस मैन्युफैक्चरर्स और सचिन अग्रवाल अध्यक्ष एसआईडीएम यूपी चैप्टर और मनोज गुप्ता अध्यक्ष, सीआईआई उत्तरी क्षेत्र रक्षा और एयरोस्पेस समिति के साथ उपस्थित रहे ।

यूपीडा-एसआईडीएम रक्षा उद्योग मंच की स्थापना की जाएगी

इस तीन-वर्षीय एमओयू के तहत एक संयुक्त यूपीडा-एसआईडीएम रक्षा उद्योग मंच (उद्योग उत्कर्ष) की स्थापना की जाएगी । इस एमओयू के प्रावधानों में बी2जी बैठकों  के साथ-साथ निवेश की समीक्षा भी शामिल होगी।

SIDM, एक गैर-लाभकारी संगठन है जो भारत में रक्षा उद्योग के विकास और क्षमता निर्माण के लिए एक अधिवक्ता, उत्प्रेरक और सूत्रधार के रूप में सक्रिय भूमिका निभाता है। UPEIDA राज्य में यूपी डिफेंस कॉरिडोर की सुविधा के लिए नियुक्त की गयी नोडल एजेंसी है |

Check Also

यूपी: उपचुनाव के लिए मजबूत प्रत्याशी तलाश रही बसपा

बसपा के लिए उपचुनाव में अपने प्रत्याशी उतारना मजबूरी बन चुका है, क्योंकि आजाद समाज …