Thursday , April 18 2024

पाकिस्तान ने तालिबान आतंकवादियों के खिलाफ शुरू किया ये अभियान…

पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बन्नू छावनी जिले में तालिबान आतंकवादियों ने एक केंद्र पर कब्जा कर लिया है। इसके साथ ही कुछ लोगों को तालिबानियों ने बंधक भी बना लिया। बंधक बनाए गए लोगों की सुरक्षित छुड़ाने के लिए पाकिस्तान के सुरक्षा बलों ने मंगलवार को एक बड़ा अभियान शुरू किया। बता दें कि आतंकवाद-रोधी विभाग (CTD) ने रविवार को कुछ आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था और उनसे पुलिस थाने में पूछताछ की जा रही थी। इसी दौरान एक आतंकवादी ने पुलिसकर्मी से एके-47 छीनकर गोलियां चलानी शुरू कर दी।

कई पुलिसकर्मियों बने तालिबान आतंकवादियों के बंधक

पुलिस कर्मियों पर गोलियां चलाते हुए आतंकवादी ने इमारत में रखे गये अन्य आतंकवादियों को मुक्त करा लिया। उनके आजाद होते उन्होंने परिसर को अपने कब्जे में ले लिया और फिर कई पुलिसकर्मियों को बंधक बना लिया। टीटीपी अपने कैदियों को अफगानिस्तान भेजने के लिए सुरक्षित मार्ग की मांग पर अड़े हुए हैं।

बंधकों को छुड़ाने में जुटे सुरक्षा अधिकारी

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि पाकिस्तान के सुरक्षा अधिकारियों ने बन्नू सीटीडी पुलिस स्टेशन परिसर से बंधकों को छुड़ाने के लिए एक बड़ा अभियान शुरू किया है। वहीं डॉन अखबार के मुताबिक, मंगलवार को टीवी पर प्रसारित फुटेज में सीटीडी परिसर से हवा में धुएं का गुबार उठता दिखाई दिया। हालांकि यह तुरंत स्पष्ट नहीं हो पाया था कि बंधकों या तालिबान आतंकवादियों के साथ क्या हुआ। यह ऑपरेशन तब भी शुरू किया गया, जब पाकिस्तान की संघीय सरकार और तालिबान आतंकवादियों के बीच दूसरे दिन भी बातचीत में कोई सफलता नहीं मिली थी।

तनावपूर्ण बनी हुई है स्थिति

बन्नू जिले में मंगलवार को भी स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। क्योंकि पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने सीटीडी परिसर को सभी दिशाओं से घेर लिया है और निवासियों को घर के अंदर रहने के लिए कहा है। जैसे ही गतिरोध जारी हुआ, सुरक्षा अलर्ट जारी कर दिया गया और बन्नू जिले के सभी स्कूल और कॉलेज भी बंद रहे। अधिकारियों ने कहा कि छावनी क्षेत्र और आसपास के क्षेत्रों में मोबाइल सेवाएं भी निलंबित कर दी गईं है। टीटीपी के एक प्रवक्ता मुहम्मद खुरासानी ने सोमवार को कहा कि सीटीडी पुलिस थाने में अपने कैदियों के साथ सुरक्षा अधिकारियों के अमानवीय व्यवहार की खबरों के बाद उन्होंने यह कदम उठाया।  

Check Also

ईरान के हमले के दौरान सऊदी-जॉर्डन ने की इस्राइल की मदद

ईरान से इस्राइल की दूरी 1,000 किमी है और मिसाइल एवं ड्रोन को इस्राइल पहुंचने …