Saturday , April 20 2024

अमेरिका के केंसिंग्टन और एलेघेनी के इलाके में 12 लोगों को गोली लगी..

फिलाडेल्फिया के केंसिंग्टन इलाके में एक बार के बाहर गोलीबारी हुई। यह घटना शनिवार रात को ईस्ट एलेघेनी और केंसिंग्टन एवेन्यू के इलाके में हुई।पुलिस सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि गोली लगने से कई लोगों को गंभीर चोटें आई है।  अमेरिका में गोलीबारी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच शनिवार रात को फिलाडेल्फिया के केंसिंग्टन और एलेघेनी के इलाके में 12 लोगों को गोली मार दी गई है। इसकी जानकारी सीबीएस से जुड़े एक समाचार चैनल ने दी है। पुलिस सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि गोली लगने से कई लोगों को गंभीर चोटें आई है। घायलों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया है। पीड़ितों के बारे में अब तक कोई विस्तार जानकारी नहीं मिल पाई है

अमेरिका में दो हफ्ते पहले भी हुई थी ऐसी घटना

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने उत्तरी कैरोलिना के रैले में हाल ही में हुई बंदूक हिंसा पर अपनी पीड़ा व्यक्त की थी। इस हमले में भी पांच लोगों की मौत हो गई थी और दो लोग घायल हुए थे। बाइडेन ने अपने बयान में कहा था कि ” इस सामूहिक गोलीबारी में मारे गए सभी पीड़ितों के लिए शोक और प्रार्थना की। बाइडेन ने अमेरिका में बड़े पैमाने पर हो रही गोलीबारी की निंदा भी की थी।

बार के बाहर हुई गोलीबारी

फिलाडेल्फिया के केंसिंग्टन इलाके में एक बार के बाहर गोलीबारी हुई। फिलाडेल्फिया स्थानीय समाचार एबीसी के रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना शनिवार रात को ईस्ट एलेघेनी और केंसिंग्टन एवेन्यू के इलाके में हुई। ये अब तक स्पष्ट नहीं हो सका है कि गोलीबारी किस वजह से हुई। बता दें कि अमेरिका में गोलीबारी और गैंगवार जैसी कई घटनाएं सामने आई है। दो हफ्ते पहले भी ऐसी ही गोलीबारी की घटना सामने आई थी।

अमेरिका में बंदूक रखना लीगल

अमेरिका को बंदूक नियंत्रण लागू करने और हथियार खरीदने या रखने वाले को गंभीर रूप से प्रतिबंधित करने की जरूरत है। इस संबंध में अमेरिकी कानून बहुत ढीले और बहुत उदार हैं। इस बीच, एक अमेरिकी संघीय न्यायाधीश ने न्यूयॉर्क में एक नए कानून के प्रमुख हिस्सों को अस्थायी रूप से रद कर दिया, जो पहले बंदूक लाइसेंसिंग को नियंत्रित करता है। अमेरिकी संविधान के अनुसार, वहां के नागरिकों को बंदूक खरीदने का पूरा हक है। अमेरिका में बंदूक रखने के लिए लाइसेंस की जरूरत नहीं पड़ती है। आम नागरिकों से लेकर कोई भी बड़ा नेता अपने पास बहुत आसानी से बंदूक रख सकता है। अमेरिकी नागरिक अपनी मनपसंद का कोई भी बंदूक खरीद सकता है और पूरे हक के साथ अपने पास रख सकता हैं। वहीं भारत में ये कानून बिल्कुल उलट है। भारत में अगर किसी आम नागरिक के पास बंदूक मिला तो वह अपराध की क्षेणी में गिना जाएगा। भारत में अगर किसी को बंदूक अपमने पास रखना है तो उसके लिए लाइसेंस होना बहुत जरूरी है।

Check Also

अमेरिकी राजनयिक ने आम चुनाव को बताया ‘लोकतंत्र का महाकुंभ’

अमेरिकी राजनयिक अतुल कश्यप ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए कहा कि पहले चरण …