Wednesday , April 17 2024

सामूहिक दुष्कर्म का शिकार हुई महिला, पुलिस ने न सुनी तो आरोपितों को खुद घेरने की बनाई योजना..

दावा है कि इस तरह के हैरतअंगेज केस के बारे में आपने पहले नहीं पढ़ा होगा। एक कामकाजी महिला (32) सामूहिक दुष्कर्म का शिकार होती है। चार आरोपित उसे बलात् उठाकर कार में चंडीगढ़ ले जाते हैं और बारी-बारी से दुष्कर्म करते हैं। लौटते समय खरड़ में छोड़कर भाग जाते हैं। वह पुलिस के पास जाती है लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं होती। दो साल बीत जाते हैं। इसके बाद वह खुद आरोपितों को पकड़ने की ठानती है। उनको घेरने की योजना बनाती है।

 

वह उसी स्थान पर मंडराती रहती है, जहां से चारों दुष्कर्मियों ने उसे उठाया था। एक दिन वे चारों एक कार में दिख जाते हैं। महिला दूसरी बार अपने आप आरोपितों के पास पहुंच जाती है। जहां दूसरी बार उसका सामूहिक शारीरिक शोषण तो हुआ। मगर इस बार महिला न केवल चारों के नाम पता करके ले आई। बल्कि उनमें से एक का आधार कार्ड भी चुरा लाई। अब थाना हैबोवाल पुलिस ने चारों के खिलाफ केस दर्ज करके उनकी तलाश शुरू की है।

आरोपितों की पहचान गुरदासपुर निवासी बरजिंदर सिंह, गुरप्रीत सिंह गोपी, सुखदेव सिंह हैप्पी तथा परमजीत सिंह पम्मा के रूप में हुई। पुलिस ने 32 वर्षीय महिला की शिकायत पर उनके खिलाफ केस दर्ज किया।

2020 में हुई थी पहली घटना

अपने बयान में उसने बताया कि वो एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करती है। 2020 में वो किसी काम के लिए जालंधर बाइपास गई थी। वहां एक सफेद रंग की गाड़ी में सवार चार युवक उसे जबरदस्ती अपने साथ उठा कर चंडीगढ़ ले गए। जहां चारों ने एक-एक करके उसके साथ दुष्कर्म किया। उसके बाद वो उसे खरड़ उतार कर फरार हो गए।

 

वापस लौट कर उसने अपने साथ हुई दुराचार संबंधी थाने में तथा पुलिस अधिकारियों के पास शिकायत दी। मगर किसी ने उसकी शिकायत पर गौर नहीं किया। उसके पास आरोपितों का नाम पता नहीं था, केवल उस गाड़ी का नंबर था। जिसमें उसे ले जाया गया था। महिला का आरोप है कि अपनी शिकायत लेकर वो हरेक अधिकारी के पास गई। मगर कहीं कुछ नहीं हुआ। अंत में उसने अपने स्तर पर आरोपितों का पता लगाने की ठान ली और वाे लगातार जालंधर बाइपास जाने लगी।

आरोपितों को जालंधर बाइपास चौक पर पकड़ा

12 जुलाई 2022 को जब वो जालंधर बाइपास चौक पहुंची, तो उसे वही चारों आरोपित वहां नजर आ गए। वो खुद ही उनके पास चली गई। आरोपित उसे गाड़ी नंबर में बैठा कर अपने साथ चंड़ीगढ़ ले गए। जहां उसके साथ दुराचार करने के बाद वापस उसे खरड़ छोड़ कर फरार हो गए। उस दौरान उसने एक आरोपित का आधार कार्ड चोरी कर लिया। जबकि अन्य सभी के नाम पता कर लिए और पुलिस को सौंप दिए।

एसएचओ ने कहा, जल्द गिरफ्तार होंगे आरोपित

थाना हैबोवाल प्रभारी अमृतपाल शर्मा ने कहा कि एफआइआर दर्ज कराने के लिए महिला ने बहुत धक्के खा लिए। इसलिए जब वो उनके पास आई तो इलाका उनका न होते हुए भी उन्होंने उसकी शिकायत पर केस दर्ज कर लिया। अब जांच के दौरान आरोपितों का पता लगा उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा। अगर महिला की शिकायत झूठी निकली तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Check Also

गोरखपुर: मुंबई से हीरे लेकर फरार आरोपी सात साल बाद गोरखपुर से पकड़ा गया

पुलिस ने बताया कि मुंबई से भागने के बाद भोला प्रसाद राजघाट के घंटाघर इलाके …