Thursday , May 23 2024

PM आवास के बाहर उठी हनुमान चालीसा के पाठ की मांग : NCP नेता फहमीदा हसन ने अमित शाह को लिखी चिट्ठी

नई दिल्ली। हनुमान चालीसा को लेकर पैदा हुआ विवाद अब और तूल पकड़ता जा रहा है. इस पर खूब सियासत भी होती हुई दिख रही है. इस मामले को लेकर अब मुंबई से दिल्ली तक सियासी बवाल देखने को मिल रहा है.

जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने ओड़ी गांव पहुंचकर अपनी मां का लिया आशीर्वाद

एक तरफ जहां निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा इस वक्त मुंबई की जेल में बंद हैं तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने केन्द्रीय गृह सचिव अजय भल्ला से मिलकर अपने ऊपर हुए हमले की उन्हें जानकारी दी और महाराष्ट्र के कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े किए.

फहमीदा हसन ने अमित शाह को लिखी चिट्ठी

इस बीच, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की कार्यकर्ता फहमीदा हसन ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखकर प्रधानमंत्री आवास के बाहर हनुमान चालीस के साथ धार्मिक पाठ करने की इजाजत मांगी है.

Lucknow : MSME के कार्यक्रम में शामिल होंगे मंत्री नंद गोपाल नंदी

उन्होंने इस पत्र में लिखा- मैं फहमीदा हसन खान कांदिवली मुंबई महाराष्ट्र आपसे निवेदन करती हूं कि मुझे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आवास के बाहर हनुमान चालीसा, नवकार मंत्र, गुरु ग्रंथ और नोविनो पढ़ने की अनुमति दी जाए. कृप्या दिन और समय मुझे बताएं.

फहमीदा हसन ने कहा कि पीएम मोदी जी के आवास के बाहर सर्वधर्म प्रर्थना करने के लिए इजाजत मांगी है क्योंकि अगर इसी तरीके से हम हिन्दुत्व और जैनिज्म जगा सकें तो यह अच्छी बात है. उन्होंने आगे कहा कि ऐसा करके अगर हमारे देश को कोई फायदा पहुंचा सकता है, जैसे महंगाई कम हो सकती है, बेरोजगारी कम हो सकती है और देश की भूखमरी खत्म हो सकती है तो ऐसा होना चाहिए.

Yogi Government 2.0: योगी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पूरा हुआ 1 महीना, जानिए 30 दिन के 30 बड़े फैसले

गौरतलब है कि ये पूरा विवाद तीन हफ्ते पहले उस वक्त शुरू हुआ था जब महाराष्ट्र के बड़े त्योहार गुरू पर्व के दौरान राज ठाकरे ने सबसे पहले हनुमान चालीसा का जिक्र किया था.

उस दौरान उन्होंने अगर मस्जिदों के ऊपर से लाउडस्पीकर नहीं हटाएंगे, जिससे अजान दी जाती है तो उसके बाद उनके कार्यकर्ता मस्जिदों के सामने हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे. इसके बाद राज ठाकरे ने फिर एक अन्य सभा में 3 मई तक लाउडस्पीकर मस्जिदों से हटाने का अल्टीमेटम दे दिया था.

जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने ओड़ी गांव पहुंचकर अपनी मां का लिया आशीर्वाद

Check Also

सुप्रीम कोर्ट: क्या अब गिरफ्तारी की वैधता की जांच कर सकती है अदालत?

हेमंत सोरेन की तरफ से वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल और अरुणाभ चौधरी सुप्रीम कोर्ट में …