Saturday , May 18 2024

अलविदा ‘डिस्को किंग’ बप्पी दा : संगीतकार और गायक बप्पी लहरी का 69 साल की उम्र में निधन

मुंबई। 80 और 90 के दशक में भारत में डिस्को संगीत को लोकप्रिय बनाने वाले संगीतकार और गायक बप्पी लाहिड़ी का मंगलवार को मुंबई के क्रिटिकेयर अस्पताल में निधन हो गया। वह 69 वर्ष के थे।

Saint Ravidas Jayanti : पीएम मोदी ने श्री गुरु रविदास विश्राम धाम मंदिर में की पूजा-अर्चना, लोगों से की बातचीत

अस्पताल के निदेशक डॉ दीपक नामजोशी ने बताया कि, लाहिड़ी को एक महीने के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था और सोमवार को उन्हें छुट्टी दे दी गई थी। लेकिन मंगलवार को उनकी तबीयत बिगड़ गई और उनके परिवार ने एक डॉक्टर को उनके घर बुलाया। उन्हें फिर अस्पताल लाया गया। उन्हें कई स्वास्थ्य समस्याएं थीं, जिसकी वजह से उनकी मृत्यु हो गई।

“डिस्को किंग” के रूप में जाने जाते हैं बप्पी दा

बप्पी लाहिड़ी, जिन्हें व्यापक रूप से भारत में “डिस्को किंग” के रूप में जाना जाता है, का जन्म 1952 में पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में शास्त्रीय संगीत में एक समृद्ध परंपरा वाले परिवार में हुआ था।

सीएम मनोहर लाल खट्टर ने दी नूंह को जिला कारागार की सौगात : कहा- घृणा अपराध से करें, अपराधी ने नहीं

19 साल की छोटी उम्र से अपना करियर शुरू किया

उन्होंने 19 साल की छोटी उम्र में एक संगीत निर्देशक के रूप में अपना करियर शुरू किया। उनके पिता, अपरेश लाहिड़ी एक प्रसिद्ध बंगाली गायक थे और उनकी मां, बंसारी लाहिड़ी एक संगीतकार और एक गायिका थीं, जो शास्त्रीय संगीत और श्यामा संगीत में पारंगत थीं।

बप्पी दा ने पार्श्व गायक के रूप में बनाई पहचान

उन्हें बंगाली फिल्म, दादू (1972) में गाना गाने का पहला अवसर मिला था। हालांकि हिंदी फिल्मों में उन्होंने अपनी जगह फिल्म नन्हा शिकारी (1973) से बनाना शुरू किया। ताहिर हुसैन की हिंदी फिल्म, ज़ख्मी (1975) से उन्हें बॉलीवुड में खुदको स्थापित किया और एक पार्श्व गायक के रूप में पहचान बनाई।

UP Election: दो चरणों में जनता ने सीएम योगी की गर्मी निकाल दी है- अखिलेश यादव

बॉलीवुड को दिए हिट गाने

गायक ने हाल ही में आयुष्मान खुराना और जितेंद्र कुमार स्टारर ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ के लिए अपने हिट गाने ‘यार बिना चैन कहां रे’ को ‘अरे प्यार कर ले’ शीर्षक से रीमिक्स किया। यह गीत मूल रूप से अनिल कपूर और अमृता सिंह पर अनिल गांगुली की साहेब में फिल्माया गया था।

1970-80 के दशक के अंत में डिस्को डांसर, नमक हलाल और डांस डांस जैसे साउंडट्रैक के लिए लोकप्रिय, उन्होंने भारतीय सिनेमा के साथ संश्लेषित डिस्को संगीत को बेहतर ढंग से एकीकृत करने में मदद की।

अपर्णा यादव ने हिंदुओं के तिलक लगाने पर ममता बनर्जी को लताड़ा : अपना राज्य संभालने की दी नसीहत

Check Also

श्रीलंका में लॉन्च हुआ यूपीआई, ऑनलाइन पेमेंट के लिए भारतीय सैलानी कर सकेंगे फोनपे

भारत से श्रीलंका जाने वाले पर्यटकों के लिए एक खुशखबरी है। अब श्रीलंका में पेमेंट …