Friday , June 14 2024

Andhra Pradesh : देवरगट्टू में बन्नी उत्सव में हिंसा, 60 लोग घायल, 4 की हालत गंभीर

नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश के होलागुंडा मंडल स्थित देवरगट्टू इलाके में दशहरे के दिन मनाए गए बन्नी उत्सव ने हिंसक रूप ले लिया, जिसमें करीब 60 लोग घायल हुए हैं, 4 की हालत चिंताजनक है.

श्रद्धालुओं ने एक दूसरे पर किया हमला

दरअसल, यहां पर भगवान की मूर्ति को अपने साथ ले जाने के लिए छीना झपटी की जाती है, जिसमें श्रद्धालु एक-दूसरे के सिर पर लाठियों से हमला करते हैं.

CWC मीटिंग में सोनिया गांधी की नसीहत, कहा- मैं हूं फुलटाइम अध्यक्ष, मुझसे मीडिया के जरिए बात करने की जरूरत नहीं

भगवान शिव की जीत को याद करने के लिए मनाते है समारोह

माला मल्लेश्वर मंदिर के निकट यह समारोह, एक दानव पर भगवान शिव की जीत को याद करने के लिए मनाया जाता है.

कोरोना के नियमों की उड़ी धज्जियां

इस साल भी दशहरे के दिन आंध्र प्रदेश पुलिस के काफी रोकथाम के बावजूद कोरोना महामारी के नियमों को धज्जियां उड़ाते हुए बड़ी धूमधाम से बन्नी उत्सव मनाया गया.

लगातार तीसरे दिन बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए आपके शहर में क्या हैं कीमतें

रात के करीब 12 बजे माला मल्लेश्वर मंदिर में पूजा करने के बाद यह उत्सव शुरू हुआ. यह उत्सव सुबह तक चला, जो हिंसक रूप ले लिया.

11 गांवों से हजारों लोग इस प्रथा में भाग लेने के लिए आए

देवरगट्टू के आस-पास के करीब 11 गांवों से हजारों लोग इस प्रथा में भाग लेने के लिए आए. इन गांवों के लोग दो भागों में बंट गए थे. फिर भगवान की मूर्ति को अपने साथ ले जाने के लिए छीना झपटी शुरू हुई.

CWC Meeting:कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक जारी, इन मुद्दों पर हो रही है चर्चा ?

फिर एक गुट दूसरे गुट के लोगों पर लाठियां बरसाने लगे. जिसकी वजह से यह उत्सव हिंसक रूप ले लिया, डंडों की चोट लगने से करीब 60 लोग घायल हुए हैं, जिनमें से 4 की हालत गंभीर बताई जा रही है. घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है.

डंडों से एक दूसरे को पीटना माना जाता है रिवाज

दशहरे के मौके पर डंडों से लड़ाई, यानि डंडों से एक दूसरे को पीटना रिवाज माना जाता है. उनके इस रिवाज के अनुसार दो गुट एक दूसरे के सिर पर वार करते हैं.

सीएम योगी ने छत्तीसगढ़ की घटना पर जताया दुख, घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की

50 से ज्यादा लोग घायल

हर साल सिर पर चोट लगने से कई लोग बुरी तरह घायल भी हो जाते हैं. पिछले साल भी सरकार के बैन लगाने के बावजूद बन्नी उत्सव मनाया गया था, करीब 50 लोग घायल हुए थे.

उत्सव में की गई थी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

यह उत्सव में हिंसक रूप न ले ले इसके लिए सरकार की तरफ से इस बार सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई थी. करीब एक हजार पुलिस बल तैनात किया गया.

Lucknow: मोहम्मद शकील नदवी को यूपी समाजवादी अल्पसंख्यक सभा का प्रदेश अध्यक्ष नामित किया

वहीं एक अतिरिक्त एसपी के नेतृत्व में 7 डीएसपी, 23 इंस्पेक्टर, 60 सब इंस्पेक्टर, 164 असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर, हेड कॉन्स्टेबल, 322 कॉन्स्टेबल, 20 महिला पुलिस, 50 विशेष पुलिस बल, तीन प्लाटून आर्म्ड रिजर्व पुलिस, 200 होम गार्ड को तैनात किया गया था.

करीब 20 बेड्स, 108 एम्बुलेंस के साथ करीब 100 लोगों की डॉक्टरों की टीम के साथ फास्ट ऐड चिकित्सा की व्यवस्था भी की गई थी.

छत्तीसगढ़ में ‘लखीमपुर पार्ट-2’ : बेकाबू कार ने लोगों को रौंदा, 4 की मौत, कई घायल

Check Also

लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी होंगे अगले सेना प्रमुख

सरकार ने लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी को अगला सेना प्रमुख नियुक्त किया है। वह मौजूदा …