Sunday , June 16 2024

कल्याण सिंह: RSS के सदस्य से यूपी के मुख्यमंत्री तक का सफरनामा

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के दिग्गज नेता कल्याण सिंह (Kalyan Singh) ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। कल्याण सिंह के निधन से भारतीय राजनीति (Indian Politics) को गहरा झटका लगा है.

पीएम मोदी ने उनके निधन पर शोक जताया और कहा कि भारतीय राजनीति में कल्याण सिंह की कमी हमेशा खलेगी। कल्याण सिंह ऐसे नेता थे, जिन्होंने आरएसएस में सदस्य बनकर अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। आइये एक नजर डालते हैं उनके राजनीतिक सफर पर….

कल्याण सिंह के निधन से पूरे देश में शोक, PM मोदी और CM योगी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

ऐसा था कल्याण सिंह का राजनीतिक सफरः

  • कल्याण सिंह 1967 में पहली बार उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए चुने गए और 1980 तक इस पद पर रहे.
  • प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए राष्ट्रीय आपातकाल के दौरान 21 महीने के लिए जेल में डाल दिया गया था.
  • जून 1991 में, भाजपा ने विधानसभा चुनाव जीता और कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने
  • उन्होंने 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद विध्वंस की पूर्व संध्या पर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया.
  • नवंबर 1993 में, अलीगढ़ के दो विधानसभा क्षेत्रों, अतरौली और कासगंज से चुनाव लड़ा और दोनों निर्वाचन क्षेत्रों से जीत हासिल की
  • सितंबर 1997 से नवंबर 1999 तक, उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में फिर कार्य किया.
  • फरवरी 1998 में, उनकी सरकार ने राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े लोगों के खिलाफ मामले वापस ले लिए. उन्होंने कहा, “केंद्र में भारतीय जनता पार्टी के सत्ता में आने पर राम मंदिर का निर्माण उसी स्थान पर होगा.” उन्होंने 90 दिनों के भीतर उत्तराखंड राज्य बनाने का वादा किया.
    भारतीय जनता पार्टी के साथ मतभेदों के कारण, उन्होंने पार्टी छोड़ दी और 1999 में राष्ट्रीय क्रांति पार्टी का गठन किया.
  • 2004 में, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अनुरोध पर, वे फिर से भाजपा में शामिल हो गए और अपनी पार्टी का विलय कर दिया.
  • 20 जनवरी 2009 को, उन्होंने भाजपा छोड़ दी और एटा लोकसभा सीट से एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़े और जीत हासिल की.
  • कल्याण सिंह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए और 2009 के लोकसभा चुनावों में सपा के लिए प्रचार किया.
  • 2010 में, उन्होंने समाजवादी पार्टी छोड़ दी, उन्होंने 5 जनवरी 2010 को जन क्रांति पार्टी की स्थापना की
  • 21 जनवरी 2013 को पार्टी को भंग कर दिया गया. 2013 में, वह फिर से भाजपा में शामिल हो गए.
  • 4 सितंबर 2014 को, उन्होंने राजस्थान के राज्यपाल के रूप में शपथ ली और 8 सितंबर 2019 तक सेवा की.
  • 28 जनवरी 2015 को, उन्होंने हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल (अतिरिक्त प्रभार) के रूप में शपथ ली और 12 अगस्त 2015 तक सेवा की.

Kalyan Singh News Live: PM मोदी ने किए कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन, नम आंखों से दी श्रद्धांजलि

सिर्फ 35 की उम्र में MLA बने थे बाबूजी

उत्तर प्रदेश के छोटे-से कस्बे अतरौली से ताल्लुक रखने वाले कल्याण सिंह 35 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने। सियासत में उनका सफर शुरू हुआ तो अपने क्षेत्र के साथ-साथ प्रदेश की राजनीति में भी सक्रिय हो गए। कल्याण सिंह ने अतरौली में ऐसा जलवा कायम किया कि 1967 में पहला चुनाव जीता और 1980 तक उन्हें कोई चुनौती ही नहीं दे सका। जब 1980 के चुनाव में जनता पार्टी टूट गई तो कल्याण सिंह को हार का सामना करना पड़ा।

RSS से शुरू हुआ था सियासी सफर

राजनीतिक एक्सपर्ट कल्याण सिंह को मंडल-कमंडल की राजनीति का प्रयोग बताते हैं। कल्याण सिंह जब स्कूल में थे, उस वक्त ही आरएसएस के सदस्य बन गए थे। वह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से ही जनसंघ में आए। जब जनसंघ का जनता पार्टी में विलय हुआ और 1977 में उत्तर प्रदेश में जनता पार्टी की सरकार बनी तो रामनरेश यादव की सरकार में उन्हें स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया।

1980 में कल्याण पहली बार चुनाव हारे, लेकिन उसी साल छह अप्रैल 1980 को भाजपा का गठन हुआ तो कल्याण सिंह को पार्टी का प्रदेश महामंत्री बना दिया गया। उन्हें प्रदेश पार्टी की कमान भी सौंप दी गई।

बीजेपी की राजनीति में कल्याण सिंह का अक्स
यह कल्याण सिंह की राजनीति थी जिसका अक्स आज बीजेपी की राजनीति में दिखता है। 2013 में अमित शाह जब यूपी के प्रभारी बने तो संगठन से लेकर सियासी रणनीति तक में कल्याण युग के फॉर्म्यूले का अक्स नजर आने लगा। पार्टी ने ओबीसी और हिंदुत्व की रणनीति को फिर से धार दी। संगठन का ढांचा भी बदला। पिछड़ों के भागीदारी संगठन में बढ़ी।

ओबीसी, दलित और महिलाओं के लिए हर स्तर पर अलग से पद सृजित किए गए। 2017 के चुनाव में भी ध्रुवीकरणों के मुद्दों के साथ पिछड़ों को जोड़ने की सोशल इंजीनियरिंग संगठन के चेहरों के चयन लेकर चुनावी अभियान तक साफ दिखी।

कनाडा में फिर से गुलजार होने लगा Ceilis Hotel, कोरोना के चलते अभी तक था बंद

Check Also

16 घंटे काशी में रहेंगे पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री की शपथ लेने के बाद 18 जून को काशी …