Monday , May 27 2024

पानी में डूबे यूपी के कई जिले, 5 लाख से ज्यादा आबादी बाढ़ से प्रभावित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश (uttar pradesh) में बाढ़ (Flood) के हालात दिनों-दिन गंभीर होते जा रहे हैं. हैरान करने वाली बात तो यह है कि, प्रदेश के 5 सबसे ज्यादा बाढ़ प्रभावित जिलों (flood affected districts) में से तीन बुंदेलखंड (Bundelkhand) के हैं.

सीएम धामी बोले- अहम फैसलों को जल्द धरातल पर उतारा जाएगा, युवाओं को मिलेगा रोजगार

बुंदेलखंड के जिलों में बाढ़ से स्थितियां विकट

पूर्वी यूपी और तराई के जिलों में तो हर साल बाढ़ से हाहाकार रहता है लेकिन इस बार बुंदेलखंड के जिलों में बाढ़ से स्थितियां विकट हो गई हैं. जालौन, बांदा और हमीरपुर के दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में है.

5 लाख से ज्यादा आबादी बाढ़ से सीधे प्रभावित

राहत विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश के कुल 23 जिलों में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है. इन 23 जिलों के 1000 से ज्यादा गांव में रहने वाली 5 लाख से ज्यादा आबादी बाढ़ से सीधे प्रभावित हुई है.

अब इन चार जिलों में भी लागू होगा पुलिस कमिश्नरी सिस्टम, सीएम योगी ने दिए निर्देश

मिर्जापुर के 404 गांव में भरा पानी

सबसे ज्यादा असर मिर्जापुर में देखने को मिला है, जहां के 404 गांवों में पानी भरा है. इसके अलावा प्रयागराज में 169, जालौन में 114, बांदा में 79 और हमीरपुर के 76 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं.

खतरे के निशान के ऊपर बह रही ये नदियां

ऐसी स्थिति इसलिए पैदा हुई है क्योंकि प्रदेश की ज्यादातर नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. गंगा नदी बदायूं, प्रयागराज, मिर्जापुर, वाराणसी, गाजीपुर और बलिया में खतरे के निशान के ऊपर बह रही है.

यूपी के डिफेंस कॉरिडोर में बनेंगे ड्रोन, हजारों लोगों को मिलेगा स्थायी रोजगार

इसके अलावा यमुना बांदा और प्रयागराज में खतरे के निशान के ऊपर बह रही है. शारदा नदी लखीमपुर खीरी में खतरे के निशान के ऊपर बह रही है जबकि घाघरा बलिया में खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं.

इन जिलों में NDRF की टीमों को लगाया गया

प्रदेश के 9 जिलों- इटावा, जालौन, बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थ नगर, गोरखपुर, लखनऊ, बलिया, और वाराणसी में तो NDRF की टीमों को लगाया गया है. बाकी जिलों में एसडीआरएफ और पीएसी के जवान लोगों को राहत पहुंचाने का काम कर रहे हैं.

सीएम योगी ने दी नाग पंचमी की शुभकामनाएं, कहा- ये हमारी संस्कृति है

राहत विभाग ने 950 बाढ़ शरणालय बनाए

बाढ़ से प्रभावित जिलों में लोगों को राहत पहुंचाने के लिए राहत विभाग ने 950 बाढ़ शरणालय बनाए हैं. यहां लोगों को भोजन के किट और लंच पैकेट बांटे जा रहे हैं.

तराई के जिलों में बाढ़ के हालात पैदा

नेपाल और उत्तराखंड से बहकर आने वाली नदियों के कारण पूर्वांचल और तराई के जिलों में बाढ़ के हालात पैदा हुए हैं. वहीं दूसरी ओर मध्य प्रदेश से होकर आने वाली नदियों के बढ़े जलस्तर के कारण बुंदेलखंड और पूर्वांचल में स्थितियां विकट हुई हैं.

समाजवादी महिला सभा प्रदेश अध्यक्ष ने बनाया प्लान, हर बूथ पर दो महिलाएं होंगी तैनात

प्रयागराज से लेकर बिहार के जिलों में घुसा गंगा का पानी

बुंदेलखंड से होकर आने वाली लगभग सभी नदियां यमुना में मिलती हैं. इससे यमुना में पानी का स्तर बहुत बढ़ गया है. प्रयागराज में यमुना गंगा से मिलती है. इसीलिए प्रयागराज से लेकर बिहार की सीमा तक के जिलों में गंगा का पानी गांव में घुस रहा है.

48 घंटों में प्रदेश में नहीं हुई ज्यादा बारिश

पिछले 24 से 48 घंटों में प्रदेश में बहुत ज्यादा बारिश नहीं हुई है. ऐसी ही स्थितियां बरकरार रही तो इस बात की संभावना जताई जा रही है कि बाढ़ का पानी धीरे-धीरे उतरने लगेगा.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष का विपक्ष पर वार, कहा- भाजपा पर किसानों का विश्वास बढ़ा

बलिया और बहराइच में 9 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई

पिछले 24 घंटे में बाढ़ ग्रस्त जिलों में गोरखपुर में सबसे ज्यादा 36.1 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. बलिया और बहराइच में 9 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई. अयोध्या में 4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई.

Check Also

यूपी: आज तीन रैलियों को संबोधित करेंगे पीएम मोदी

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण में अब यूपी की 13 सीटें बची हैं। इन सीटों …