Thursday , February 29 2024

सीएम योगी बाढ़ग्रस्त इलाकों का करेंगे दौरा, स्थिति की करेंगे समीक्षा

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को औरैया और इटावा के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। सीएम इन जिलों के अधिकारियों के साथ बैठक कर राहत और बचाव के कार्यों की समीक्षा करेंगे।

बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में स्थिति की समीक्षा

मुख्यमंत्री योगी ने रविवार शाम बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों की स्थिति की समीक्षा की और अब खुद इन इलाकों का दौरा करने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि, बाढ़ पीड़ितों को समय पर राहत सामग्री उपलब्ध कराते हुए उनकी हर सम्भव मदद की जाए।

जल शक्ति मंत्री ने भी प्रभावित इलाकों का किया था हवाई सर्वेक्षण

अपने-अपने जिलों में बाढ़ कण्ट्रोल रूम संचालित करने, बाढ़ की दृष्टि से संवेदनशील स्थलों की मॉनीटरिंग के साथ-साथ नियमित पेट्रोलिंग का काम कराया जाए। सीएम के निर्देश पर जल शक्ति मंत्री महेन्द्र सिंह द्वारा रविवार को इटावा और औरैया का हवाई सर्वेक्षण किया।

राहत सामग्री के पैकेट तैयार कर वितरित किए जाएं

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि, बाढ़ प्रभावित और बाढ़ के दृष्टिगत संवेदनशील स्थलों को चिन्ह्ति करते हुए जरूरत के अनुसार राहत सामग्री के पैकेट तैयार कर वितरित किए जाएं। उन्होंने बाढ़ प्रभावित लोगों को कम्युनिटी किचन के माध्यम से फूड पैकेट उपलब्ध कराने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।

15 जिलों के 257 गांव बाढ़ से प्रभावित

उन्होंने कहा कि, ड्राई राशन किट तैयार कर वितरित की जाएं। बैठक में मुख्यमंत्री को बताया गया कि, 15 जिलों के 257 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 828 बाढ़ शरणालय स्थापित हैं। बाढ़ में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने के लिए 1,133 नाव चलाई जा रही हैं।

बाढ़ पीड़ितों को विगत 24 घण्टे में 1,230 ड्राई राशन किट वितरित की गई हैं, जबकि अभी तक कुल 7,015 राशन किट वितरित की जा चुकी हैं।

एनडीआरएफ की 39 टीमें 22 जिलों में तैनात

मुख्यमंत्री को बताया गया कि, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पीएसी की 39 टीमें प्रदेश के 22 जिलों में तैनात की गई हैं। अब तक 7,24,329 पशुओं का टीकाकरण किया गया है। बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के लिए 409 मेडिकल टीम गठित की गईं हैं।

बचाव एवं राहत काम के लिए ग्राम स्तरीय समितियां गठित की गयी हैं। इन समितियों और नोडल अधिकारियों के समन्वय हेतु प्रत्येक ग्राम में एक-एक वायरलेस सेट युक्त पुलिस कर्मचारी की तैनाती भी की गयी है, जिससे संचार व्यवस्था सुदृढ़ बनी हुई है।

Check Also

वाराणसी: अब रामनगर में होगा शहर के 22 मोहल्लों की जमीन का बैनामा

शहर के 22 मुहल्लों में रहने वाले लोगों को जमीन का बैनामा सहित अन्य दस्तावेज …