Sunday , July 14 2024

लक्षणों की पहचान कर तुरंत करें डिहाइड्रेशन दूर करने के उपाय

डिहाइड्रेशन गर्मियों में होने वाली आम समस्या है। धूप में ज्यादा वक्त बिताने और पर्याप्त मात्रा में पानी न पीने की वजह से यह प्रॉब्लम हो सकती है। चक्कर आना थकान मुंह सूखना यूरिन का रंग पीला होना ये सारे डिहाइड्रेशन के लक्षण हैं। हालांकि पर्याप्त मात्रा में पानी इलेक्ट्रोलाइट से भरपूर ड्रिंक्स और ताज़े फलों के जूस पीने से डिहाइड्रेशन की प्रॉब्लम को दूर किया जा सकता है।

शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए खानपान के साथ पर्याप्त मात्रा में पानी पीना भी जरूरी है। शरीर में पानी की कमी कई तरह की समस्याओं का शिकार बना सकती है। शरीर का दो तिहाई हिस्सा पानी से बना होता है।

गर्मियों में डिहाइड्रेशन एक कॉमन प्रॉब्लम है। तापमान और उमस बढ़ने के चलते शरीर से ज्यादा पसीना निकलता है, जिससे शरीर में पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी हो जाती है और इससे डिहाइड्रेशन की प्रॉब्लम हो जाती है। इसे मामूली समझने की गलती न करें, क्योंकि गंभीर स्थिति में इससे जान भी जा सकती है।

डिहाइड्रेशन के लक्षण

  • ज्यादा प्यास लगना
  • पानी पीते रहने के बावजूद पेशाब कम आना
  • स्किन ड्राईनेस
  • हर वक्त थकावट का एहसास
  • सिरदर्द और चक्कर आना
  • मुंह सूखना

डिहाइड्रेशन के प्रमुख कारण

जरूरी मात्रा में पानी न पीना

जब व्यक्ति दिनभर में जरूरी मात्रा में पानी नहीं पीता है, तो ऐसे में डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है।

जरूरत से ज्यादा पसीना निकलना

गर्मियों में बाहर धूप में काम करने या व्यायाम करने से जरूरत से ज्यादा पसीना निकलता है। ऐसे में जब पानी नहीं पीते, तो शरीर में पानी की कमी हो जाती है और इसके चलते डिहाइड्रेशन।

डायबिटीज

डायबिटीज पेशेंट्स भी डिहाइड्रेशन का शिकार हो सकते हैं। ज्यादा मात्रा में पेशाब आने की वजह से डिहाइड्रेशन की स्थिति हो सकती है।

उल्टी या दस्त

उल्टी या दस्त जैसी समस्या होने पर शरीर से ज्यादा मात्रा में पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स का नुकसान हो जाता है, जिससे डिहाइड्रेशन हो सकता है।

डिहाइड्रेशन दूर करने के उपाय

  1. हर उल्टी- दस्त के बाद जरूरी मात्रा में पानी, नींबू पानी, नारियल पानी पीना जरूरी है। प्यास न लगे, तो भी थोड़ी- थोड़ी मात्रा में पानी पीते रहें। व्यस्कों को रोजाना कम से कम 8 से 10 गलास पानी पीना चाहिए।
  2. गर्मियों में बाहर किसी एक्टिविटी या खेल के दौरान हर 15 से 20 मिनट में पानी पीते रहना चाहिए।
  3. पानी के अलावा तरबूज, खीरा, संतरा जैसे फलों को भी डाइट में शामिल करें। ये भी बॉडी को हाइड्रेट रखने में मदद करते हैं।
  4. इनके अलावा ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशन (ORS) का सेवन करें, जो डिहाइड्रेशन के दौरान खोए लिक्विड्स और इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी को पूरा करता है।
  5. खूले एवं सूती कपड़े पहने, आउटडोर एक्टीविटी सुबह 10 बजे से 4 बजे तक अवाईड करें।

(डॉ. सुशील सिंगला, डायरेक्टर, पीडियाट्रिक्स, सर्वोदय हॉस्पिटल, फरीदाबाद से बातचीत पर आधारित)

Check Also

सेहत पर कहर बरपा सकता है कॉर्टिसोल हार्मोन का बढ़ना

हमारे रोजमर्रा के जीवन का प्रभाव हमारी मानसिक सेहत पर भी पड़ता है और हम …