Sunday , June 16 2024

हिमाचल के किन्नौर में महसूस किए गए भूकंप के हल्के झटके, भूकंप की तीव्रता 3.2 रही

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में शुक्रवार रात भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। अधिकारियों ने बताया कि रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.4 मापी की गई। भूकंप से अभी तक किसी भी तरह के जान-माल के नुकसान की सूचना नहीं है।
आपदा प्रबंधन विभाग के विशेष सचिव सुदेश मोक्ता ने बताया कि रात करीब 10 बजकर दो मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए और भूकंप का केंद्र किन्नौर में नाको के निकट चांगो निचला था। भूकंप के झटके कुछ सेकेंड तक रहे। भूकंप के चलते लोगों में अफरा-तफरी मच गई और लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। अधिकारियों ने कहा कि अब तक जान-माल के नुकसान के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। भूकंप आए तो क्या करें  अगर भूकंप के दौरान आप मकान, दफ्तर या किसी भी इमारत में मौजूद हैं तो वहां से बाहर निकलकर खुले में आ जाएं। इसके बाद खुले मैदान की ओर भागें। भूकंप के दौरान खुले मैदान से ज्यादा सुरक्षित जगह कोई नहीं होती। भूकंप आने की स्थिति में किसी बिल्डिंग के आसपास न खड़े हों। अगर आप ऐसी बिल्डिंग में हैं, जहां लिफ्ट हो तो लिफ्ट का इस्तेमाल बिल्कुल न करें। ऐसी स्थिति में सीढ़ियों का इस्तेमाल करना ही उचित होता है। भूकंप के दौरान घर के दरवाजे और खिड़की को खुला रखें। इसके अलावा घर की सभी बिजली स्विच को ऑफ कर दें। अगर बिल्डिंग बहुत ऊंची हो और तुरंत उतर पाना मुमकिन न हो तो बिल्डिंग में मौजूद किसी मेज, ऊंची चौकी या बेड के नीचे छिप जाएं। भूकंप के दौरान लोगों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वो पैनिक न करें और किसी भी तरह की अफवाह न फैलाएं, ऐसे में स्थिति और बुरी हो सकती है। क्यों आता है भूकंप गौरतलब है कि जब पृथ्वी की सतह के नीचे ज्यादा दबाव बनता है तो प्लेट्स टूटने लगती हैं। नीचे की ऊर्जा बाहर आने का रास्ता खोजती हैं और डिस्टर्बेंस के बाद भूकंप आता है। भूकंप का केंद्र उस स्थान को कहते हैं जिसके ठीक नीचे प्लेटों में हलचल से भूगर्भीय ऊर्जा निकलती है।

Check Also

NEET पेपर लीक की सीबीआई जांच की अर्जी पर क्या बोला सुप्रीम कोर्ट?

न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति संदीप मेहता की अवकाश पीठ हितेन सिंह कश्यप की तरफ …