Sunday , June 16 2024

बाबा रामदेव की महिलाओं को लेकर की गई इस टिप्पणी से खड़ा हुआ राजनीतिक बवाल, पढ़े पूरी ख़बर

योग गुरु बाबा रामदेव की ओर से महिलाओं को लेकर की गई एक टिप्पणी पर बवाल खड़ा हो गया है। बाबा रामदेव ने महाराष्ट्र के पुणे में एक योग शिविर में बोलते हुए कहा कि महिलाएं साड़ी, सलवार और सूट में भी अच्छी लगती हैं, मेरी तरह कुछ ना भी पहने तो भी अच्छी लगती हैं। रामदेव जब यह बात बोल रहे थे तब मंच पर उनके बगल में महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता भी मौजूद थीं।

रामदेव की टिप्पणी का वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने टिप्पणी की निंदा करते हुए वीडियो साझा किया। स्वाति मालीवाल ने ट्वीट किया, ‘महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री जी की पत्नी के सामने स्वामी रामदेव द्वारा महिलाओं पर की गई टिप्पणी अमर्यादित और निंदनीय है। इस बयान से सभी महिलाएं आहत हुई हैं, बाबा रामदेव जी को इस बयान पर देश से माफ़ी मांगनी चाहिए!’ बाबा रामदेव के साथ मंच पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के बेटे सांसद श्रीकांत शिंदे भी मौजूद थे।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में बाबा रामदेव कहते हैं, ‘बहुत खुशनसीब है आप, बहुत अच्छी लग रही हैं। सामने के लोगों को साड़ी पहनने का मौका मिल गया, पीछे वालों को मिला ही नहीं।’ इसके बाद आगे कहते हैं, ‘आप साड़ी पहन के भी अच्छी लगती हैं, सलवार सूट में भी अमृती जी की तरह अच्छी लगती हैं और मेरी तरह कोई ना भी पहने तो भी अच्छी लगती हैं। अब तो लोग लोक लज्जा के लिए पहन लेते हैं। बच्चों को कौन कपड़े पहनाता था पहले। हम तो आठ दस साल तक तो ऐसे ही नंगे घुमते रहते थे। ये तो अब जाकर पांच-लेयर बच्चों के कपड़ो पर आ गई हैं।’

राउत ने पूछा अमृता फडणवीस ने विरोध क्यों नहीं किया?

वीडियो वायरल होते ही राजनीतिक पार्टियां बाबा रामदेव पर हमलावर हो गईं। इसके साथ-साथ लोग अमृता फडणवीस से भी सवाल कर रहे हैं कि उन्होंने मंच से टिप्पणियों का विरोध क्यों नहीं किया। उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली शिवसेना के नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने पूछा कि अमृता फडणवीस ने टिप्पणियों का विरोध क्यों नहीं किया?

जुबान दिल्ली के पास गिरवी रख रखी है?

संजय राउत ने मीडिया से बात करते हुए कहा, जब राज्यपाल शिवाजी पर अपमानजनक टिप्पणी करते हैं, कर्नाटक के सीएम महाराष्ट्र के गांवों को अपनी राज्य की सीमा में मिलने की धमकी देते हैं, अब जब बीजेपी प्रचारक रामदेव महिलाओँ का अपमान करते हैं तो सरकार चुप रहती है। क्या सरकार ने अपनी जुबान दिल्ली के पास गिरवी रख रखी है?

 

Check Also

NEET पेपर लीक की सीबीआई जांच की अर्जी पर क्या बोला सुप्रीम कोर्ट?

न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति संदीप मेहता की अवकाश पीठ हितेन सिंह कश्यप की तरफ …