Saturday , July 13 2024

Uttarakhand: हरक सिंह रावत पर बड़ी कार्रवाई, BJP से 6 साल के लिए निष्कासित

देहरादून। भाजपा ने 2016 में कांग्रेस से बगावत कर आए हरक सिंह रावत को पार्टी की सदस्यता से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है। साथ ही उन्हें कैबिनेट से भी निकाल दिया गया है। आखिर ऐसा क्या हुआ कि जिस हरक सिंह रावत की बीजेपी में तूती बोलती थी, अब वो किनारे कर दिए गए हैं। जिन्हें मनाने के लिए बीजेपी हाईकमान तक पिछले कुछ दिनों पहले तक सक्रिय रहा था, उन्हें अब पार्टी से ही निकाल दिया गया है।

प्रदेश की सियासत में उठापटक के प्रतीक माने जाने वाले कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत इस बार भाजपा के लिए किरकिरी का सबब बने हैं। नौ कांग्रेसी विधायकों के साथ हरक सिंह रावत 2016 में हरीश रावत का साथ छोड़ भाजपा में आने की वजह से चर्चा में आए थे। भाजपा ने न सिर्फ उन्हें कोटद्वार से टिकट देकर उम्मीदवार बनाया बल्कि कैबिनेट मंत्री से भी नवाजा। पूर्व मुख्य मंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से उनके लगभग चार साल के कार्यकाल में हरक का छत्तीस का आंकड़ा बना रहा। 

कहां से शुरू हुई कहानी

अपने बगावती तेवर के लिए मशहूर हरक सिंह रावत की शुरू से ही भाजपा सरकार के इस कार्यकाल से नाराजगी रही है। पहले त्रिवेंद्र सिंह रावत के सीएम रहते हुए इन्हें मंत्रालय को ऐतराज था। फिर पुष्कर सिंह धामी जब मुख्यमंत्री बने तो कोटद्वार में मेडिकल कॉलेज को लेकर इस्तीफा तक दे आए थे।

जब हाईकमान ने मनाया

पिछले महीने, वन और पर्यावरण, श्रम, रोजगार और कौशल विकास मंत्री रावत ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक के दौरान ही पद से इस्तीफा देने की धमकी दी थी। रावत राज्य सरकार द्वारा कोटद्वार क्षेत्र में एक मेडिकल कॉलेज के लिए मंजूरी नहीं मिलने से नाराज थे, जहां से वह विधायक हैं। इस मीटिंग के बाद रावत के इस्तीफे की खबर जोरों से चलने लगी थी। जिसके बाद बीजेपी हाईकमान डैमेज कंट्रोल करने में जुटा और रावत को मना लिया गया।

भाजपा से छह साल के लिए निष्कासित

कभी राज्य में कांग्रेस की सरकार गिराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हरक सिंह रावत ऐसे तो मान चुके थे, लेकिन फिर भी कई मुद्दे थे, जिनपर बीजेपी की ओर से सकारात्मक पहल नहीं हुई थी। मेडिकल कॉलेज का मामला भी हल नहीं हुआ था। सूत्रों की मानें तो रावत अपने परिवार के एक सदस्य के लिए टिकट की मांग और अपनी सीट को भी बदलने की तैयारी कर रहे थे, जिसपर भी बीजेपी आलाकमान से हरी झंडी नहीं मिली थी। इन्हीं मुद्दों पर रावत खुद पार्टी छोड़कर कांग्रेस जाने की सोच रहे थे, इससे पहले वो घोषणा करते, बीजेपी ने उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में पार्टी से निलंबित कर दिया। साथ ही उनसे मंत्रीपद भी छिन लिया गया।

हरक सिंह रावत का राजनीतिक सफर

हरक सिंह रावत बीजेपी-बसपा-कांग्रेस से फिर बीजेपी में पहुंचे थे। जब उत्तराखंड अलग राज्य नहीं बना था, तब रावत बीजेपी में थे और कल्याण सिंह की सरकार में मंत्री भी बने थे। दो बार विधायक बनने के बाद जब तीसरी बार उन्हें बीजेपी से टिकट नहीं मिला तो उन्होंने बसपा का दामन थाम लिया। बसपा से लोकसभा चुनाव लड़े लेकिन हार गए। जिसके बाद उन्होंने कांग्रेस की ओर रुख कर लिया। उत्तराखंड के अलग राज्य बनने के बाद वो कांग्रेस से लगातार विधायक बनते रहे। हालांकि 2016 में उनका यहां से भी मोह भंग हुआ और हरीश रावत की सरकार को गिराकर बीजेपी में शामिल हो गए। जहां सत्ता में आने पर उन्हें मंत्रीपद दिया गया था।

Check Also

पंजाब: कनाडा में विद्यार्थी अब 40 नहीं 20 घंटे प्रति सप्ताह ही कर पाएंगे काम

कनाडा गए छात्र अब फुल टाइम वर्क नहीं कर पाएंगे। कोरोना के कारण प्रति सप्ताह …