Friday , June 14 2024

एशिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट का शिलान्यास करते समय मोदी ने क्या कहा, पीएम का पूरा भाषण पढ़ लीजिए

भारत माता की जय के साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जी का नाम लेते हुए देश के यशस्वी एवं लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने उत्तर प्रदेश के 24 करोड़ लोगों को नोयडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के भूमि पूजन की बधाई दी। उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट के भूमि पूजन के साथ ही दाऊजी मेले के लिए प्रसिद्द जेवर अब अंतरराष्ट्रीय मानचित्र पर नाम रोशन हो गया है। अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का लाभ पश्चिमी उत्तर प्रदेश समेत समूची दिल्ली-एनसीआर को मिलेगा। इक्कीसवीं सदी का भारत आज एक से बढ़कर एक बेहतरीन इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण कर रहा है। बेहतरीन नेटवर्क, इंटरनेशनल एयरपोर्ट, एक्सप्रेसवे पूरे क्षेत्र का कायाकल्प कर देते हैं। ये सभी परियोजनाएं पूरे क्षेत्र के लोगों का जीवन ही बदल देते हैं। गरीब, किसान, व्यापारी, मजदूर या उद्यमी हर किसी को इसका लाभ मिलता है। जब कनेक्टिविटी बेहतर हो तो इंफ्रास्ट्रक्चर की ताकत और भी बढ़ जाती है।

उन्होंने कहा कि जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट कनेक्टिविटी के मामले में बहुत ही बेहतर होगा। टैक्सी, मेट्रो, रेल, बस हर तरह से जेवर एयरपोर्ट से जुड़े हुए होंगे। यूपी, दिल्ली, हरियाणा कहीं भी जाना हो जरा सी देर में पहुंचाना आसान और सरल होगा। अब तो दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेस-वे भी तैयार हो रहा है। एक तरह से नोयडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट उत्तरी भारत का लाजेस्टिक गेट-वे बनेगा। आज देश में जितनी तेजी से एविएशन के क्षेत्र में वृद्धि हो रही है, भारतीय कंपनियां बड़ी तेजी से एविएशन खरीद रहीं हैं। उनमें नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की अहम भूमिका है। यहाँ 40 एकड़ में मेंटिनेंस, रिपेयरिंग, ओवरहॉलिंग की भी सुविधा होगी, जो देश-विदेश के विमानों को भी सुविधा देगी और स्थानीय व व्यापक पैमाने पर रोजगार भी उपलब्ध कराएगी। उन्होंने कहा कि हम 85 फीसद विमानों को एयरो सेवा के लिए विदेश भेजते हैं, जिस पर हर साल 15000 करोड़ का व्यय आता है। नोयडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की पूरी परियोजना ही 30000 करोड़ में तैयार हो रही है। इस प्रकार से जेवर एयरपोर्ट इस स्थिति को बदलने में भी मददगार साबित होगा, इससे भारत की मुद्रा भी बाहर नही जाएगी। नोयडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट कार्गो हब की भी कल्पना को साकार करेगा। इससे पूरे क्षेत्र के विकास को एक नई गति प्रदान होगी।

   उन्होंने कहा कि जिन राज्यों की सीमा समंदर से सटी हुई होती है उनके लिए बन्दरगाह, पोर्ट बहुत बड़ी परियोजनाएं और ऐसेट्स होते हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश जैसे भारी और व्यापक भूमि वाले प्रदेशों के लिए नोयडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट जैसे प्रोजेक्टस विकास के क्षेत्र के वरदान साबित होंगे। इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनने के बाद आसपास के क्षेत्रों की क्षमता में काफी बढोत्तरी देखने को मिलेगी। इस एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय बाजारों से भी सीधे जोड़ा जाएगा, जिसका सीधा लाभ यहाँ के स्थानीय लोगों, किसानों को होगा। किसान अपने फल, शब्जी, मछली आदि जल्दी खराब होने वाले उत्पादों को बाहर भेज कर अच्छे दामों में बेच सकेंगे। सहारनपुर, मुरादाबाद, आगरा, अलीगढ़ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एमएसएमई उत्पादों को विदेश पहुंचाने में आसानी होगी। हवाई अड्डे के निर्माण होने के दौरान स्थानीय स्तर पर रोजगार के अनेकों अवसर भी प्राप्त होंगे, इससे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के नागरिकों को व्यापक स्तर पर रोजगार प्राप्त होगा।*

    प्रधानमंत्री जी ने कहा कि हमने विकास की अवधारणा को  बदला है। सोच में परिवर्तन करते हुए हिंडन एयरपोर्ट को यात्री सुविधाओं से जोड़ा है, जिसका सीधा लाभ आम नागरिकों स्थानीय उद्यमियों व्यवसायियों को मिल रहा है। जब एयर कनेक्टिविटी बढ़ती है तो पर्यटन भी फलता-फूलता है। उन्होंने कहा कि माँ वैष्णों एवं केदारनाथ यात्रा में हैलीकॉप्टर सुविधा होने से टूरिज्म में कई गुना बढ़ोतरी हुयी है।*

  *प्रधानमंत्री जी ने कहा कि आजादी के चार दशक बाद पहली बार उत्तर प्रदेश को वह मिलना शुरू हुआ , जिसका वह हमेशा से हकदार रहा है। हमारी डबल इंजन की सरकार वह सब कुछ मुहैया करा रही है। देश प्रदेश में विकास के नए आयाम स्थापित करने के लिए लाखों करोड़ों की परियोजनाओं पर कार्य चल रहा है। आजादी के इतने वर्ष बाद उत्तर प्रदेश को ताने सुनने के लिए मजबूर किया गया। कभी खराब सड़कों के नाम पर, तो कभी खराब कानून व्यवस्था के नाम पर तो कभी इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध न होने के नाम पर। लोग सोचने लगे थे कि क्या यूपी में कभी सकारात्मक सरकार बन भी पाएगी या नहीं। पहले की सरकारों ने सदैव यूपी को झूठे सपने ही दिखाए, वही आज उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय ही नही अपितु अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना रहा है। आज यूपी में मेडिकल कालेज, चौड़े  हाइवे, एक्सप्रेस वे, रेल कनेक्टिविटी का मल्टीनेशनल हब बन रहा है। आज देश और दुनिया कहती है कि उत्तर प्रदेश यानी उत्तम सुविधा-निरन्तर निवेश। यूपी इस पहचान को एक नया आयाम दे रही है। आने वाले कुछ सालों में जब एयरपोर्ट कार्य करना शुरू करेगा तो उत्तर प्रदेश 5 अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट वाला राज्य बन जाएगा। पहले की सरकारों ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश को विकास के अध्याय को नजरअंदाज किया, जेवर एयरपोर्ट इस बात की कहानी बताता है। पहले की सरकार ने चिट्ठी लिखकर कह दिया था कि इस एयरपोर्ट के प्रोजेक्ट को बंद कर दिया जाए। हमारी डबल इंजन की सरकार के सार्थक और सकारात्मक प्रयास से आज हम सभी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के भूमि पूजन के साक्षी बन रहे हैं। पहले भी इंफ्रास्ट्रक्चर की घोषणाएं होती थीं, योजनाएं कैसे पूर्ण होंगी, इस पर चर्चा ही नहीं होती थी। ऐसे में परियोजनाओं की लागत बढ़ जाती थी और फिर देरी का रोना रोया जाता था। इंफ्रास्ट्रक्चर हमारे लिए राजनीति नहीं जिम्मेदारी है। हम सुनिश्चित करते हैं कि प्रोजेक्ट लटके नहीं, बल्कि तय समय में कार्य पूरा किया जाए। परियोजना में देरी होने पर जुर्माना का भी प्रावधान किया है। पहले परियोजनाओं की स्थापना के लिए किसानों की जमीन को लेकर गड़बड़ियां की जाती थीं, वह भी देरी का रोड़ा बनती थी। हमारी सरकार ने किसान हित में प्रभावी कदम उठाते हुए पहले उन अड़चनों को दूर किया, तब जाकर हम आज 30 हजार करोड़ की परियोजना पूर्ण करने आए हैं। देश का आम नागरिक हवाई सुविधा का लाभ ले रहा है। ये सब  हवाई कनेक्टिविटी ने आसान कर दिखाया है। अब आम नागरिक पूरे परिवार के साथ हवाई यात्रा करता है और वह महसूस करता है कि हमने विकास किया है। हमारी सरकार सबका साथ-सबका विकास एवं सबका प्रयास के नारे के साथ कार्य कर रही है। ओछी राजनीत के बाद भी भारत विकास के रास्ते से नहीं हटा है। अभी कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट की शुरुआत की गई। देश प्रदेश में चिकित्सा क्षेत्र में बुनियादी सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए मेडिकल कॉलेजों का निरन्तर निर्माण किया जा रहा है। डिफेंस कॉरिडोर के काम ने गति पकड़ी है। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे की शुरुआत की गई है। नेशनल हाईवे का शिलान्यास किया गया है और आज नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का भूमि पूजन किया गया है। आज देश में 21वीं सदी की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए कार्य किया जा रहा है।

Check Also

G7 की बैठक में जस्टिन ट्रूडो से पीएम मोदी की होगी मुलाकात

नरेंद्र मोदी आज जी 7 शिखर सम्मलेन में हिस्सा लेने के लिए इटली जाएंगे। भारत …