Thursday , May 23 2024

UP : अब जेलों में बंद कैदियों के लिए मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का इस्तेमाल करना होगा अपराध

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने अब जेलों के अंदर कैदियों द्वारा मोबाइल फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के इस्तेमाल को संज्ञेय गैर-जमानती अपराध बना दिया है।

होगी सजा और भरना पड़ेगा जुर्माना

नियम का उल्लंघन करने पर अपराधियों को तीन से पांच साल के कठोर कारावास और 20,000-50,000 रुपये के जुर्माने का सामना करना पड़ेगा।

इन 6 राशियों के लिए बहुत खास रहेगा एक अक्टूबर, बरसेगी भगवान की कृपा, जानिए अपना राशिफल

गृह विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि, प्रदेश की सभी जेलों में कैदी अनुशासन के लिए कारागार अधिनियम-1894 के प्रावधानों में संशोधन कर नया नियम लागू किया गया है।

आधिकारिक बयान के अनुसार, अगर राज्य की जेलों में कोई भी कैदी जेल परिसर के अंदर या बाहर किसी भी प्रकार के वायरलेस संचार उपकरण का उपयोग करते हुए पाया जाता है, तो दोषी मिलने पर उसे तीन से पांच साल के कठोर कारावास और 20,000-50,000 रुपये तक के जुर्माने से दंडित किया जा सकता है।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने की बैठक, आर्थिक अपराध करने वाले भगोड़े अपराधियों पर कसेगा शिकंजा

इस नियम के साथ, मोबाइल फोन, वाईफाई, ब्लूटूथ, नियर फील्ड कम्युनिकेशन (एनएफसी), टैबलेट, पर्सनल कंप्यूटर, लैपटॉप, पामटॉप, इंटरनेट, जीपीआरएस, ई-मेल, एमएमएस, या कोई अन्य डिवाइस जैसे मोबाइल सिम का उपयोग किसी भी तरह से जेल परिसर के अंदर या बाहर कैदियों द्वारा नहीं किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि सजा के प्रावधान से अब जेलों में इस प्रकार के इलेक्ट्रानिक्स उपकरणों के प्रयोग पर पर अंकुश लगेगा।

Farmers Protest: किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- किसी हाईवे को स्थायी रूप से बंद नहीं किया जा सकता

Check Also

काशी में 1200 छात्र-छात्राओं ने बनाई मानव श्रृंखला

लोकसभा चुनाव को लेकर छात्र- छात्राओं ने मतदाताओं को मतदान के लिए जागरूक करने के …