Thursday , February 29 2024

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के बयान से राज्य की सियासत गरमाई

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रचार जोरों पर है। इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने एक ऐसा बयान दिया है, जिससे कर्नाटक की राजनीति गरमा गई है। दरअसल सिद्धारमैया ने लिंगायतों को लेकर ऐसा कुछ कहा है, जिस पर विवाद हो गया है। भाजपा ने इसे लिंगायत समुदाय से जोड़ दिया है और इसे पूरे समुदाय का अपमान बताया है। सिद्धारमैया ने लिंगायत समुदाय को लेकर क्या कहा? केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा कि जिस बयान में सिद्धारमैया ने कहा कि लिंगायत मुख्यमंत्री भ्रष्ट हैं, वह निंदनीय है। यह कर्नाटक का अपमान है। सिद्धारमैया को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अब टिप्पणी करने के बाद वे स्पष्टीकरण देने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन हम सभी जानते हैं कि उनके दिल में क्या है, इसलिए वह बाहर आ रहा है। प्रल्हाद जोशी ने यह भी कहा कि कांग्रेस पार्टी लिंगायत समुदाय के साथ दु‌र्व्यवहार करने के लिए भाजपा की झूठी छवि बनाने में लगी हुई है। दरअसल, एक निजी टीवी चैनल के पत्रकार ने सिद्धारमैया से पूछा था कि क्या लिंगायत समुदाय के नेता को मुख्यमंत्री बनना चाहिए। इस पर सिद्धारमैया ने कहा कि पहले से ही लिंगायत मुख्यमंत्री है, लेकिन वह सारे भ्रष्टाचार की जड़ है। सिद्धारमैया के इस बयान पर कर्नाटक भाजपा ने उन्हें घेर लिया।

सिद्धारमैया ने अपने बयान पर दी सफाई

बयान पर विवाद होने और भाजपा द्वारा उसे चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश पर सिद्धारमैया ने अपने बयान पर सफाई दी है। उन्होंने कहा कि वह मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई को भ्रष्ट बता रहे थे, जो भ्रष्टाचार में विश्वास रखते हैं। मेरे मन में वीरशैव लिंगायत के लिए बहुत सम्मान है और हमने लिगायतों को 50 से ज्यादा टिकट दिए हैं।

खरगे के बयान को जोशी ने बताया मजाक

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के बयान को मजाक बताते हुए केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा कि उन्हें सपने देखने और खुश रहने दें। खरगे ने कहा था कि कांग्रेस कर्नाटक चुनाव जीतेगी और देश में राजनीतिक स्थिति बदल देगी।

कांग्रेस और भ्रष्टाचार एक ही सिक्के के दो पहलू

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वे सपने देख रहे हैं। क्या हम किसी को सपने देखने से रोक सकते हैं? नहीं। जहां तक भ्रष्टाचार की बात है तो कांग्रेस और भ्रष्टाचार एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। जवाहरलाल नेहरू के समय से भ्रष्टाचार का अस्तित्व है। भ्रष्टाचार का बीज अगर किसी ने बोया है तो वह कांग्रेस है। जोशी ने कहा कि 1975 में लोकतंत्र का दमन करने वाले अब लोकतंत्र की बात करते हैं, यह हास्यास्पद है।

Check Also

भाजपा फरवरी के अंतिम दिन 100 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर सकती है

पार्टी सूत्रों के मुताबिक इस बार नेतृत्व अयोध्या में उम्मीदवारी के मामले में सबको चौंका …