Sunday , April 21 2024

रील भैरों सिंह राठौड़ ने रियल भैरों सिंह राठौड़ के निधन पर जताया दुःख

फिल्म अभिनेता सुनील शेट्टी ने 1971 में भारत-पाक युद्ध के लोगेंवाला पोस्ट के नायक राजस्थान के भैरों सिंह  राठौड़ के निधन पर गहरा दुख जताया है। सुनील शेट्टी ने ट्वीट कर निधन पर दुख जताया और कहा कि उनकी अनुकरणीय वीरता को भुलाया नहीं जा सकता। सीएम ने दिवंगत आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिजनों को यह आघात सहन करने की शक्ति प्रदान करने की भगवान से प्रार्थना की। भैरों सिंह का आज अंतिम संस्कार उनके जोधपुर स्थित पैतृक गांव  सोलंकियतला में राजकीय सम्मान से होगा। रास्ते में जगह-जगह लोग श्रद्धाजंलि देने के लिए उमड़ रहे है।  बीएसएफ की 14 वीं बटालियन में सेवाएं देने वाले भैरों सिंह राठौड़ ने विजय गाथा कुछ दिन पहले ही कैमरे के सामने दोहराई थी।  बीएसएफ ने आज उसे साझा किया है। अपने संस्मरण में उन्होंने  5 दिसंबर की रात से 6 दिसंबर 1971 की सुबह तक की दास्तान सुनाई थी। बता दें, सुनील शेट्टी ने जेपी दत्ता के निर्देशन में बनी फिल्म बाॅर्डर में भैरों सिंह का किरदार निभाया था। हालांकि, फिल्म में भैरो सिंह को मरते हुए दिखाया गया था।
पाक फौज को दिखाया था अपना दमखम  भैरों सिंह ने बताया कि 125 साथियों के साथ  मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी की अगुवाई में  पाकिस्तान की पूरी इंफेट्री के साथ मुकाबला किया था।  उन पलों को याद कर बताया कि पाकिस्तान की फौज भारतीय मुहाने पर पहुंच गई थी। भारत ने फायरिंग की थी। पाकिस्तान ने भी गोले बरसाने शुरू कर दिए।  इस दौरान आवाज सुनाई दी की डरना मत। मैं तुम्हारे साथ हूं। भैरों सिंह के मुताबिक वह अवाज तनोट माता की थी। उसके बाद भारत के जवानों ने अपना दमखम दिखाया और पाक फौज को आगे नहीं बढ़ने दिया।  भैरों सिंह उन जवानों में थे जिन्होंने अंतिम समय तक अपना मोर्चा संभाले रखा। भैरो सिंह 7 घंटे तक अपनी पोस्ट से फायरिंग करते रहे। बीएसएफ के जवान होते हुए भी उन्हें सेना के मेडल से सम्मानित किया गया था। वसुंधरा राजे ने दी श्रद्धाजंलि  राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने भैरों सिंह ने निधन पर गहरा दुख जताया है। वसुंधरा राजे आज जोधपुर पहुंची और सीधे बीएसएएफ के एसटीएफ सेंटर गई। जहां उन्होंने दिवंगत बीएसएफ के जवान भैरो सिंह को श्रद्धांजलि दी।  उसके बाद वह भूंगरा गांव के लिए रवाना हो गई। बता दें, भैरो सिंह का रविवार को निधन हो गया था। वह दो साल से बीमार चल रहे थे। उन्हें जोधपुर के एम्स में भर्ती कराया गया था।  सीेएम गहलोत ने भैरो सिंह के निधन पर दुख जताया है।  

Check Also

बंगाल सरकार ने चिड़ियाघर प्राधिकरण को सुझाए नाम

एक ही बाड़े में रखे शेर, शेरनी का नाम अकबर व सीता रखे जाने पर …