Saturday , April 20 2024

बिहार विधानसभा में बीजेपी पर घेरते दिखे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, कहा… 

बिहार में शराबबंदी पर सियासी घमासान जारी है। शुक्रवार को बिहार विधानसभा में बीजेपी पर घेरते हुए सीएम नीतीश कुमार ने कई सवाल उठाए। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जहरीली शराब से सबसे ज्यादा मौतें मध्य प्रदेश में होती हैं। उत्तर प्रदेश समेत भाजपा शासित अन्य राज्यों में भी बिहार से ज्यादा मौतें जहरीली शराब से होती हैं। लेकिन उन राज्यों की घटना पर कोई कुछ नहीं बोलता है। नीतीश ने सवाल उठाते हुए कहा कि भाजपा शासित राज्य गुजरात में भी शराबबंदी है, तो वहां क्यों जहरीली शराब से मौत हो रही है।
बिहार में मजबूती से शराबबंदी लागू- नीतीश सीएम नीतीश ने कहा कि अकेला राज्य बिहार है जो पूरी मजबूती के साथ शराबबंदी लागू करने की कोशिश कर रहा है। यहां पर बड़ी संख्या में लोग गिरफ्तार हो रहे हैं। सरकारी कर्मियों को भी बर्खास्त किया जा रहा है। हमने पदाधिकारियों को कहा है कि जो गड़बड़ करता है तो असली को पकड़िये। गरीब आदमी किसी के साथ काम में लग गया तो उसको समझाइए। सरकार पैसा देगी, दूसरा काम में लगिये। कृष्ण भगवान का भी आपलोगों को पता है? पता कर लीजिए। मुस्लिम समाज का भी देख लीजिएगा। हर जगह शराब को खराब बताया गया है। उन्होंने कहा कि हम कई जगहों पर गये तो विपक्ष के लोग भी वहां हमारे पक्ष में बोलते थे, आज उल्टा बोल रहे हैं। पीएम मोदी ने शराबबंदी की थी तारीफ  मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार आये थे, तो यहां की शराबबंदी की प्रशंसा की थी। भाजपा का भी शराबबंदी पर समर्थन था। आज-कल हमलोग उनसे अलग हो गये तो ये लोग हंगामा कर रहे हैं। विपक्ष आजकल जो बोल रहा है, इसका मतलब किसी न किसी को अपने साथ करने के चक्कर में है। कौन कहां जाएगा, यह उसकी अपनी इच्छा है। दुनिया का सब आदमी सही हो ही नहीं सकता है। यह संभव ही नहीं है। एक बार और हम हर जगह जाकर बोलेंगे कि अगर कोई शराब के पक्ष में बोल रहा है तो वह आपके हित में काम नहीं करेगा। ‘बीजेपी की B टीम है AIMIM’ सीएम ने भाजपा पर निशाना साधा कि वे लोग झगड़ा कराने में लगे हुए हैं। हिंदू-मुस्लिम सबमें तनाव पैदा कराते हैं। एआईएमआईएम प्रमुख ओवैशी का नाम लिये बगैर मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा अपने अधीन एक को रखे हुए हैं। उन्हें कहती है कि हमको गाली देना ताकि मुसलमानों का वोट बंटे। कहा कि केंद्र सरकार कहीं भी विकास का काम नहीं कर रही है। सिर्फ प्रचार में लगी है।  

Check Also

लखनऊ: शुक्रवार को गर्मी ने बनाया रिकॉर्ड, पारा 41 के पार

2024 में 19 अप्रैल सीजन का सबसे अधिक गर्म दिन रहा। लखनऊ का अधिकतम तापमान …