Thursday , April 18 2024

छोटे-छोटे मस्से देते हैं इन बीमारियों के संकेत

गलत खान-पान, दूषित वातावरण और आसपास की गंदगी के कारण कई बैक्टीरिया और वायरस पैदा हो जाते हैं। जी हाँ और इन बैक्टीरिया और वायरस की वजह से कई बीमारियां और समस्याएं होने लगती हैं। इनमे से कुछ तो ठीक हो जाती हैं, लेकिन कुछ लंबे समय के लिए शरीर में घर कर जाती हैं। जी हाँ और इन्हीं समस्याओं में से एक है मस्से की समस्या, जो आपकी खूबसूरती पर दाग के समान होते हैं।

मस्सा के लक्षण – 
त्वचा के ऊपर गांठ जैसा दिखाई देना।
त्वचा के ऊपर गहरे रंग के धब्बे या तिल जैसे निशान बनना।
त्वचा पर अलग-अलग प्रकार के रंग का होना।
मस्से पर काले धब्बों की उपस्थिति, रक्त वाहिकाओं को बंद कर सकती है।
त्वचा पर बनी हुई गांठ मुलायम या फिर खुरदरी होना भी मस्से के लक्षण हो सकते हैं

मस्सा बीमारियों के संकेत- अगर कालेपन के साथ ही छोटे-छोटे से मस्‍से यानी टैग्‍स (Tags) की संख्‍या बढ़ रही तो अपने ब्‍लड शुगर (Blood Sugar) की जांच जरूर करा लें. जी हाँ क्योंकि ये दोनों ही लक्षण तब नजर आते हैं जब शरीर में ब्‍लड शुगर हाई होता है. इसके अलावा गर्दन की स्किन पर टैग और कालापन यानी झाइयों का इंसुलिन रेजिस्‍टेंटस से सीधा संबंध है. ये दोनों ही संकेत बताते हैं कि आप डायबिटीज की ओर जा रहे हैं. आपको बता दें कि स्किन पर बनने वाले ये टैग्‍स गर्दन के साथ ही आंखों के आसपास भी नजर आने लगें तो ये हाई कोलेस्‍ट्रॉल का भी संकेत देते हैं. इसी के साथ गर्दन के पीछे और अंडरआर्म्स पर दाग धब्‍बे या पिग्मेंटेशन इंसुलिन रेजिस्टेंस की वजह से होते हैं इसका मतलब है कि इंसुलिन रेजिस्‍टेंटस या हाइपरट्राइग्लिसराइडिमिया है.

 

Check Also

बच्चों को फूड एलर्जी से बचाने के लिए नई गाइडलाइन

शिशुओं और छोटे बच्चों में Food Allergy होना आम है। अगर आपकी फैमिली में फूड …