Sunday , April 21 2024

यमुना नदी का जलस्तर चेतावनी के निशान से ऊपर

दिल्ली में यमुना नदी का जलस्तर एक बार फिर डराने लगा है। नदी का जलस्तर चेतावनी के निशान से ऊपर चला गया है। ताजा जानकारी के मुताबिक, अभी यमुना का जलस्तर 204.98 मीटर पर पहुंच गया है। बताया जा रहा है कि हरियाणा के हथनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने बाद दिल्ली में यमुना नदी का जलस्तर अचानक बढ़ा है। बता दें कि चेतावनी का निशान 204.5 मीटर है लेकिन अभी यमुना का पानी उसके ऊपर जा चुका है। इससे पहले शुक्रवार को यमुना का जलस्तर खतरे के निशाना 205.33 मीटर से ऊपर चला गया था। भारी बारिश की वजह से नदी का जलस्तर बढ़ गया था। जिसके बाद एहतियात के तौर पर प्रशासन ने यहां निचले इलाके में रहने वाले करीब 7,000 लोगों को वहां से बाहर निकाला था। हालांकि, इसके बाद सोमवार को जलस्तर घटा और मंगलवार को यह 203.96 मीटर पर पहुंच गया था। हालांकि, एक बार फिर यमुना रा जलस्तर आधी रात के बाद बढ़ गया। अब यमुना का जलस्तर 204.98 मीटर पर पहुंच गया है। पिछले हफ्ते यमुना का जलस्तर बढ़ने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से अपील की थी कि वो यमुना नदी के तटीय इलाकों में जाने से परहेज करें। दिल्ली में बाढ़ को लेकर अलर्ट जारी किया गया था। हरियाणा के हथनीकुंड बैराज से 1 लाख क्यूसेक से ज्यादा मात्रा में पानी छोड़े जाने के बाद दिल्ली में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को वहां से हटाया गया था। दिल्ली बाढ़ कंट्रोल रूम ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि बुधवार की सुबह हथनीकुंड बैराज से करीब 14,000 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। मंगलवार को 19,745 क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। आम तौर पर हथनीकुंड बैराज का फ्लो रेट 352 क्यूसेक होता है। लेकिन अत्यधिक बारिश की वजह से यहां फ्लो रेट बढ़ जाता है। जब इस बैराज से पानी छोड़ा जाता है, तब अमूमन राष्ट्रीय राजधानी तक पहुंचने में इसे 2 या तीन दिन लगते हैं।

Check Also

उत्तराखंड: नैनीताल सीट पर 15 साल में सबसे कम मतदान

नैनीताल सीट पर 61.75 प्रतिशत मतदान हुआ। वर्ष-2019 लोकसभा चुनाव से तुलना करें तो इस …