Friday , June 14 2024

बीजेपी का सियासी ‘बदलापुर’, एक विधायक के बदले अखिलेश के चार MLC तोड़ लिए

विधान सभा चुनाव से पहले माहौल बनाने के लिए दल बदल की सियासत तेज हो गई है। इसी कड़ी में आज बीजेपी ने एसपी के चार एमएलसी तोड़कर अखिलेश को तगड़ा झटका दे दिया।

बीते 30 अक्‍टूबर को ही अखिलेश यादव ने बीएसपी के छह बागी विधायकों के साथ सीतापुर भाजपा विधायक राकेश राठौर को भी समाजवादी पार्टी की सदस्‍यता दिलाई थी। आज भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और डा. दिनेश शर्मा रहे मौजूदगी में सपा नेताओं ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

चार सपा नेताओं के भाजपा में शामिल होने पर प्रदेश अध्‍यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि इससे भाजपा को और मजबूती मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि कई दशकों से सपा के वफादारी सिपाही,  उसे ताकतवर बनाने वाले लोकप्रिय नेता नरेंद्र भाटी सिंह भाजपा में जुड़े हैं। जनता इस बार सपा का सफाया कर देगी। उन्‍होंने कहा कि रविशंकर के आने से बलिया और आसपास के क्षेत्र में भाजपा मजबूत होगी। इसके साथ ही सीपी चंद ने भाजपा में वापसी की है। रमा निरंजन के आने से बुंदेलखंड में भाजपा मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि आज अखिलेश यादव को नींद नहीं आएगी। एसपी के जो चार एमएलसी बीजेपी में शामिल हुए हैं, उनमें नरेन्द्र सिंह भाटी, सीपी चंद्र, रविशंकर सिंह और रमा निरंजन का अपने क्षेत्रों में मजबूत आधार है। रविशंकर सिंह पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पोते हैं।

नरेन्द्र सिंह भाटी के पार्टी छोड़ने को लेकर पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश की गुर्जर राजनीति में नए समीकरण बनने की उम्‍मीद जताई जा रही है। नरेन्‍द्र सिंह, सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के करीबी रहे हैं। कई बार चुनाव हारने के बाद भी मुलायम ने नरेन्द्र सिंह भाटी को टिकट देना नहीं बन्द नहीं किया था। रविविशंकर सिंह के आने से सपा को बलिया में झटका लगेगा। सीपी चंद के आने से पार्टी का कद बढ़ेगा। रमा निरंजन के आने से बुंदेलखंड क्षेत्र में पार्टी मजबूत होगी। डिप्टी सीएम मौर्य बोले- आज शामिल हुए सदस्य सपा से चुन-चुन कर लोगों को भाजपा से जोड़ने की चिंता करेंगे। अखिलेश जैसे कोरोना के समय आराम कर रहे थे, वैसे ही अभी भी आराम करें। जनता की सेवा करने आए हैं तो मेहनत करनी होगी।

Check Also

गोरखपुर: जम्मू के आतंकी हमले की प्रशंसा करने वाला युवक गिरफ्तार

पुलिस ने शिकायत मिलते ही आरोपी पर संप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने, आईटी एक्ट की धाराओं में …