Thursday , May 23 2024

Ambedkar Jayanti: सीएम योगी ने डॉ. भीमराव आम्बेडकर को किया नमन, बोले- सदैव कृतज्ञ रहेंगे देशवाशी

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाबासाहेब डाक्टर भीमराव आम्बेडकर की 131वीं जयंती पर उनको नमन किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के हजरतगंज में डा आम्बेडकर प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित किया।

प्रधानमंत्री संग्रहालय का पीएम मोदी किया उद्घाटन : यहां मिलेगी देश के हर प्रधानमंत्री से जुड़ी खास जानकारी

उनके साथ डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक के साथ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष/कैबिनेट मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह, राजय मंत्री स्वतंत्र प्रभार असीम अरुण, पूर्व मंत्री डा महेन्द्र सिंह, पूर्व राज्यसभा सदस्य जुगुल किशोर तथा लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया भी मौजूद थीं।

बाबा साहेब के योगदान के लिए देशवासी उनके प्रति कृतज्ञ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर कहा कि, बाबा साहब डा. आम्बेडकर ने सामाजिक असमानता को दूर करने और वंचित वर्गों को सामाजिक न्याय दिलाने के उद्देश्य से भारत के संविधान में अनेक प्रविधान किए। भारतीय संविधान के निर्माण में बाबा साहेब के योगदान के लिए देशवासी सदैव उनके प्रति कृतज्ञ रहेंगे।

योगी मंत्रिमंडल का राजभवन में रात्रिभोज आज, 7 बजे से शुरू हो जाएगा मंत्रियों के पहुंचने का सिलसिला

उन्होंने आजीवन अनुसूचित जाति वर्ग सहित सभी उपेक्षित वर्गों के अधिकारों के लिए संघर्ष किया। समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के सशक्तीकरण के प्रयास हम सभी को प्रेरणा देते रहेंगे। भेदभावरहित एवं समरस समाज का निर्माण ही हम सभी की डा. आम्बेडकर के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

समाज के उत्थान में बाबा साहेब की भूमिका अहम

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके बाद डा.आम्बेडकर महासभा के कार्यक्रम में भी उसके कार्य पर प्रकाश डाला और समाज के उत्थान में उनकी भूमिका के योगदान को सभी को बताया।

उत्तर प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष सतीश महाना ने बाबा साहेब डा. भीमराव आंबेडकर के जन्म दिवस के अवसर पर उन्हें याद करते हुये प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामना दी।

अग्नि सुरक्षा सप्ताह : सीएम योगी को अग्नि सुरक्षा विभाग के अधिकारियों ने किया फिन फ्लैग

विधानसभा अध्यक्ष ने अपने संदेश में कहा है कि, भारतीय विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक बाबा साहेब ने सामाजिक भेद-भाव के विरुद्ध अभियान चलाकर श्रमिकों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन किया। वे स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री एवं भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार थे। 1990 में डा. आंबेडकर को मरणोपरांत सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया।

Check Also

काशी में 1200 छात्र-छात्राओं ने बनाई मानव श्रृंखला

लोकसभा चुनाव को लेकर छात्र- छात्राओं ने मतदाताओं को मतदान के लिए जागरूक करने के …