Monday , May 27 2024

Ganga Expressway: पीएम मोदी ने गंगा एक्सप्रेस-वे का किया शिलान्यास

शाहजहांपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में गंगा एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी. करीब 594 किलोमीटर लंबा और छह लेन का यह एक्सप्रेस-वे 36 हजार 200 करोड़ रुपये से भी ज्यादा की लागत से बनाया जाएगा.

जानिए गंगा एक्सप्रेस वे की उपलब्धियां और फायदे ?

एक्सप्रेस वे के बारे में जानिए ?

यह एक्सप्रेस वे मेरठ के बिजौली गांव के पास से शुरू होकर प्रयागराज के जुदापुर दांडू गांव तक जाएगा. यह एक्सप्रेस-वे मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर के अलावा अमरोहा से होकर गुजरेगा. यह एक्सप्रेसवे संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली के रास्ते प्रतापगढ़ होते हुए प्रयागराज तक पहुंचेगा. एक्सप्रेसवे पूरी तरह से बन जाने के बाद यह राज्य के पश्चिमी और पूर्वी क्षेत्रों को जोड़ने वाला, उत्तर प्रदेश का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे बन जाएगा.

एक्सप्रेस-वे पर होगा लंबी हवाई पट्टी का निर्माण

गंगा एक्सप्रेस-वे पर शाहजहांपुर में करीब 3.5 किमी लंबी हवाई पट्टी का निर्माण किया जाएगा. यह हवाई पट्टी वायु सेना के विमानों को आपातकालीन उड़ान भरने और उतरने में सहायता देगी. इसके अलवा एक्सप्रेस-वे के साथ एक औद्योगिक गलियारा बनाने का भी प्रस्ताव है. यह एक्सप्रेसवे 76 से होकर गुजरेगा. ऐसे में भूमि अधिग्रहण का काम तेजी के साथ पूरा किया जा रहा है. प्रशासन का दावा है कि करीब 98 प्रतिशत भूमि को अधिग्रहीत कर लिया गया है.

UP Elections: लखनऊ में पीएम मोदी की मेगा रैली की तैयारी, 10 लाख लोगों की भीड़ जुटाने का प्लान

एक नजर में गंगा एक्सप्रेसवे

  • उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा एक्सप्रेसवे है गंगा एक्सप्रेसवे
  • मेरठ से प्रयागराज तक 594 किलोमीटर है इसकी लंबाई
  • एक्सप्रेसवे के बेहतर नेटवर्क और इंटरकनेक्टिविटी से उत्तर प्रदेश का हर छोर प्रदेश और देश की राजधानी से जुड़ेगा
  • सिक्स लेन के इस एक्सप्रेसवे की अनुमानित लागत 36230 करोड़ रुपये
  • गंगा एक्सप्रेसवे में सात रेलवे ओवरब्रिज, 14 बड़े पुल, 126 छोटे पुल, 375 अंडरपास, 9 जन सुविधा कांप्लेक्स, दो टोल प्लाजा और 15 रैंप टोल प्लाजा का होगा निर्माण एक्सप्रेस वे पर 17 स्थानों पर इंटरचेंज की मिलेगी सुविधा
  • शाहजहांपुर में साढ़े तीन किलोमीटर लंबी हवाई पट्टी का भी होगा निर्माण
  • एक्सप्रेसवे के किनारे 18 लाख 55 हजार पेड़ लगाए जाएंगे
  • रुहेलखंड और विंध्य इलाके के कम विकसित क्षेत्रों में कृषि, वाणिज्य, पर्यटन और उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा
  • उत्पादन इकाइयों, विकास केंद्रों और कृषि उत्पादन केंद्रों क्षेत्रों को राष्ट्रीय राजधानी से जोड़ने के लिए औद्योगिक कॉरिडोर के रूप में मददगार होगा
  • शिक्षण, प्रशिक्षण और मेडिकल संस्थान की स्थापना के लिए अवसर सुलभ होंगे
  • खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों, भंडारण, कृषि मंडी तथा दूध आधारित उद्योगों की स्थापना में एक्सप्रेसवे महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा

Check Also

कानपुर: पुलिस ने टॉप टेन माफियाओं समेत 50 शातिरों के घर दी दबिश

पुलिस की दबिश के दौरान कई अपराधी घरों में नहीं मिले, तो कई के जेल …