Saturday , June 22 2024

एडीजी सुरक्षा बी.के. सिंह ने राष्ट्रपित महात्मा गांधी को किया याद, की एक बेहतरीन पहल

लखनऊ। महात्मा गांधी की महानता, उनके कार्यों और विचारों के कारण ही 2 अक्टूबर को स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस की तरह राष्ट्रीय पर्व का दर्जा दिया गया है। वहीं इस गांधी जयंती के मौके पर एडीजी सुरक्षा बी.के. सिंह ने एक पहल की है। पुलिस मुख्यालय पर लोगों को संबोधित किया और गांधी जी के विचारों और उनकी अहिंसा की लड़ाई के बारे में बताया।

जाने माने पत्रकार राजकुमार सिंह की ग़जल ‘ये किस्सा अधूरा है…’ को मिला दुष्यंत कुमार पुरस्कार

उन्होंने कहा कि, गांधी जी में एक आस्था है। सन 1915 से 1947 तक एक यात्रा के जरिए भारत को आजादी दिलाई। और इसके बाद अंग्रेजी हुकूमत से भारत को आजादी दिलवाने वाले और ‘राष्ट्रपिता’ की उपाधि से सम्मानित हुए।

स्वाधीनता आंदोलन में निभाई थी महत्वपूर्ण भूमिका

उन्होंने कहा कि, महात्मा गांधी ने न केवल भारत के स्वाधीनता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी बल्कि उन्होंने साउथ अफ्रीका में भी नस्लीय भेदभाव को लेकर अपनी आवाज बुलंद की थी। और इतना बड़ी लड़ाई उन्होंने अपने धैर्य और आत्मबल से लड़ी।

शिक्षाविद् डॉ. जगदीश गांधी ने ‘बापू’ को किया नमन, कहा- राष्ट्रपिता के विचारों को लगातार आगे बढ़ा रहा है CMS

दुनिया को सत्य, अहिंसा और शांति का पाठ पढ़ाया

वहीं उन्होंने बताया कि, सत्य और अहिंसा के पुजारी गांधी जी ने भारत को गुलामी की बेड़ियों से मुक्त करवाने में बड़ी भूमिका निभाई थी। उन्होंने पूरी दुनिया को सत्य, अहिंसा और शांति का पाठ पढ़ाया था।

2 अक्टबर 1869 को पोरबंदर में हुआ गांधी जी का जन्म

मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर में 2 अक्टबर 1869 को हुआ था। इसलिए हर साल 2 अक्टूबर को दुनियाभर में ‘गांधी जयंती’ मनाई जाती है, इस दिन को ‘विश्व अहिंसा दिवस’ के रूप में भी सेलिब्रेट किया जाता है।

राहुल गांधी ने ‘बापू’ को दी श्रद्धांजलि, मोदी सरकार पर कसा तंज, कही ये बात

Check Also

वाराणसी: सपा मुक्त हुई नगर निगम की कार्यकारिणी

वाराणसी नगर निगम की कार्यकारिणी से छह सदस्यों को बाहर किया गया है। इनमें लॉटरी …