Tuesday , May 30 2023

चार धाम यात्रा-2023 पर तीर्थ यात्रियों की मुसीबतें बढ़ सकतीं हैं, पढ़ें पूरी खबर ..

चार धाम यात्रा-2023 को जाने वाले तीर्थ यात्रियों की मुसीबतें बढ़ सकतीं हैं। तय समय पर धाम या फिर अपने गंतव्य पर नहीं पहुंचने पर उनकी परेशानी भी दोगुना होगी। ऐसे में चिंता इस बात की बनी रहती है कि बदरीनाथ-केदारनाथ सहित चार धाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं की सड़कों पर रात बितेगी, इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। चार धाम यात्रा सीजन शुरू होने पर यूपी, एमपी, राजस्थान समेत देश के कई राज्यों से तीर्थ यात्री उत्तराखंड में चारों धामों में दर्शन को आते हैं। यात्रा सीजन शुरू होने से पहले ही दिल्ली-हरिद्वार नेशनल हाईवे सहित हरिद्वार-ऋषिकेश हाईवे पर घंटों ट्रैफिक जाम लगा रहता है, जिसकी वजह से ट्रैफिक को भी कई मौकों पर डायवर्ट किया जाता है। चार धाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों को हरिद्वार में इस बार जाम का सामना करना पड़ेगा। भूपतवाला हाईवे पर करीब तीन किलोमीटर तक यात्रियों को दिक्कत उठानी पड़ेगी। वाहन रुक-रुक कर चलेंगे, क्योंकि हाईवे पर बन रहे फ्लाईओवर का काम अधूरा है। इस कारण सर्विस रोड पर यातायात चल रहा है। 22 अप्रैल से शुरू होने वाली चारधाम यात्रा के साथ ही हरिद्वार में भी यात्री सीजन शुरू हो रहा है। वीकेंड पर हजारों की संख्या में वाहन हरिद्वार और ऋषिकेश पहुंचते हैं। लेकिन इस सीजन में यात्रियों और पर्यटकों को हरिद्वार में जाम का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि सप्तऋषि से लेकर सर्वानंद घाट तक हाईवे पर फ्लाईओवर का निर्माण चल रहा है। जिस कारण आए दिन यहां ट्रैफिक रेंग-रेंग कर चल रहा है। यात्रा सीजन में जाम लगना तय है। सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने जुलाई तक काम पूरा करने के निर्देश दिए हैं, जबकि फ्लाईओवर का निर्माण कर रहे एनएचएआई के अधिकारियों का कहना है कि नवंबर दिसंबर तक काम पूरा होने की उम्मीद है। डायवर्ट करके भी नहीं मिल रही राहत: ऋषिकेश से हरिद्वार आने वाले वाहनों को सप्तऋषि चौकी से पहले भारत माता मंदिर की ओर डायवर्ट करके पावन धाम चौक से हाईवे पर वाहनों को भेजा जा सकता है, लेकिन इस वैकल्पिक मार्ग से भी पुलिस को राहत नहीं मिल पा रही है। हालांकि पुलिस अन्य वैकल्पिक मार्गों पर विचार विमर्श कर रही है। बीते रविवार को भी वाहनों को इस मार्ग से भेजा गया था, लेकिन उसके बाद भी हाईवे पर जाम लगा हुआ था। यहां फंसेंगे वाहन हरिद्वार की ओर से ऋषिकेश या फिर देहरादून को जाने वाले वाहन पुराना आरटीओ चौक, दूधाधारी चौक, जैन मंदिर होते हुए सप्तऋषि चौकी के पास तक जाम में फंसेंगे। इसके बाद फ्लाईओवर के बाद वाहन आसानी से निकल जाएंगे। जबकि ऋषिकेश से हरिद्वार की ओर आने वाले वाहन भी इसी इलाके में फंसेंगे। क्षेत्र में हाईवे पर फ्लाईओवर का निर्माण कार्य चल रहा है। वीकेंड पर ट्रैफिक का दबाव बढ़ने के कारण जाम की स्थिति बन जाती है। ट्रैफिक का संचालन सर्विस रोड से किया जा रहा है। विकास पुंडीर, टीआई हरिद्वार फ्लाईओवर का निर्माण कार्य तेज गति से चल रहा है। नवंबर, दिसंबर माह तक कार्य पूरा होने की उम्मीद है। कुछ विलंब हुआ तो अगले साल जनवरी, फरवरी माह तक कार्य पूरा कर लिया जाएगा। अन्य विकल्प न होने के कारण क्षेत्र में जाम की स्थिति बन जाती है। अतुल, लैंड सर्वेयर, एनएचएआई  हरिद्वार में वीकेंड पर भीड़ से जाम, राहगीर रहे परेशान  वीकेंड पर बाहरी राज्यों से काफी संख्या में यात्रियों के हरिद्वार पहुंचने पर हाईवे पर कई बार जाम की स्थिति बन गई। रविवार को हाईवे से लेकर शहर की अंदरुनी सड़कों पर जाम ने लोगों को परेशान किए रखा। हाईवे, सर्विस लेन और शहर के अंदर लगे जाम के कारण वाहन रेंग-रेंगकर चलने के कारण राहगीरों को परेशानी उठानी पड़ी। काफी संख्या में हरियाणा, दिल्ली, पंजाब के वाहनों का जमावड़ा हरिद्वार में लगने लगा। यात्री वाहनों का दबाव बढ़ने से हाईवे पर जाम की स्थिति बन गई। सीसीआर के सामने हाईवे के पुल से लेकर पंतद्वीप पार्किंग तक वाहनों की लम्बी कतार हाईवे पर लग गयी। वहीं, चंडीघाट चौक से सीसीआर को आने वाली सर्विस लेन पर भी वाहनों की दो दो कतार लगी गई। पंडित दीनदयाल पार्किंग फुल होने के कारण पार्किंग की ओर जाने वाली सर्विस लेन पर भी वाहनों की कतार रह रहकर लगती रही। अंदरुनी सड़कों पर भी लगा लम्बा जाम: वीकेंड पर हाईवे के साथ ही अंदरुनी सड़कों पर भी जाम की स्थिति बनी रही। चंडीघाट की ओर से बिरला घाट को आने वाले मार्ग पर वाहनों की लम्बी कतार सुबह से ही लगती रही। मौके पर पुलिस कर्मी जाम को खुलवाने की कोशिश करता दिखा। व्यापारी बोले, अभी से ये हाल तो आगे क्या होगा व्यापारी विकास शर्मा, राजेंद्र भटट, रवि, आशुतोष, रामेश्वर, अमित, प्रकाश, गोपाल, भुवनेश, योगेश, अतुल, संजीव, नीशु आदि व्यापारियों का कहना है कि चारधाम यात्रा से पहले वीकेंड पर जाम को झेलना पड़ रहा है, जिससे बाजार का करोबार प्रभावित होता है। चारधाम यात्रा से पहले ही यह हाल है तो चारधाम यात्रा के शुरू होने पर यातायात व्यवस्था कैसे ठीक होगी? वीकेंड के चलते यातायात का दबाव बना हुआ था। पुलिस फोर्स दिनभर यातायात व्यवस्था को ठीक करने के लिए मुस्तैद रही। वीआईपी मूवमेंट ज्यादा होने के कारण भी पुलिस बल की कमी के चलते भी यह दिक्कत बनी। राकेश रावत, सीओ यातायात  हरिद्वार-ऋषिकेश हाईवे और बाईपास मार्ग पर रहा लंबा जाम तीर्थनगरी ऋषिकेश में राफ्टिंग और कैंपिंग का आनंद उठाने के लिए दिल्ली, हरियाणा, एनसीआर आदि स्थानों से पर्यटक पहुंचे। बड़ी संख्या में पर्यटकों के आने से यहां ट्रैफिक व्यवस्था पटरी से उतर गई। हरिद्वार-ऋषिकेश हाईवे पर कोयलघाटी तिराहे से तपोवन और बाईपास मार्ग पर तहसील चौक से ढालवाला तक वाहनों का लंबा जाम रहा। लड़खड़ाती यातायात व्यवस्था को सुचारु बनाने के लिए पुलिस और होमगार्ड के जवान मशक्कत करते नजर आए। तीर्थनगरी ऋषिकेश में लगातार दूसरे  दिन ऋषिकेश-हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग और हरिद्वार बाईपास मार्ग पर ट्रैफिक व्यवस्था बेहाल रही। मनसा देवी तिराहे से तहसील चौक, नटराज चौक, ढालवाला से लेकर भद्रकाली तक वाहनों का लंबा जाम रहा। दिल्ली, हरियाणा, एनसीआर से सुबह से ही सैलानियों के तीर्थनगरी ऋषिकेश का रुख करने से हाईवे पर पर्यटकों के वाहनों का दबाव रहा।  एक के पीछे एक दिल्ली, हरियाणा और यूपी नंबर के वाहन सरक सरककर आगे बढ़ते दिखायी दिए। हाईवे पर कोयलघाटी तिराहे, घाट चौक, चंद्रभागा पुल तिराहे, कैलास गेट, मुनिकीरेती से लेकर तपोवन तक लंबा जाम रहा। बाधित यातायात को सुचारु करने में पुलिस को खूब मशक्कत करनी पड़ी।  देर शाम तक स्थिति सामान्य नहीं हो सकी। सीओ आरके चमोली ने बताया कि वीकेंड पर  शहर के चौराहों और तिराहों पर ट्रैफिक सिपाहियों के साथ होमगार्ड जवानों की डयूटी रहती है। कई बार अचानक वाहनों का दबाव बढ़ने से अव्यवस्था होती है।

Check Also

धामी सरकार ने देश को वर्ष 2047 तक विकसित राष्ट्र बनाने के संकल्प में उत्तराखंड के योगदान का खाका नीति आयोग के समक्ष किया पेश

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देश को वर्ष 2047 तक विकसित राष्ट्र बनाने के संकल्प …