Thursday , April 18 2024

भूमि विवाद को लेकर हुई गोलीबारी में चार लोग जख्मी, एक की हालत नाजुक…

गोपालपुर के जदयू विधायक नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल के पुत्र के होटल बिग डैडी परिसर में भूमि विवाद के दौरान गोलीबारी में चार लोग जख्मी हुए हैं। हमलावरों की तरफ से चली गोली में एक की स्थिति नाजुक है, जबकि तीन लोग लाठी-डंडे के प्रहार में गम्भीर रूप से जख्मी हुए हैं। घायलों को जवाहरलाल नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हमले के निशाने पर प्रापर्टी डीलर और पशुपालक लालबहादुर सिंह उर्फ लड्डू शास्त्री थे। हमला जमीन पर नवनिर्मित चारदीवारी को तोड़ने के बाद हुई है। दीवार तोड़ने के विरोध में विधायक पुत्र समेत अन्य लोगों ने गोलीबारी करनी शुरू कर दी।
शास्त्री पर चली गोली वहां मौजूद रवि कुमार को लगी है। उसे दो गोली लगी है। उनके साथ पत्नी माधुरी प्रसाद, पुत्र शरद कुमार और उसका दोस्त रवि भी था। शास्त्री को सुरक्षित देख हमलावरों ने बेरहमी से लाठी से मारकर जख्मी कर दिया। बचाव में पत्नी और पुत्र के आगे आने पर उन्हें भी बेरहमी से मारपीट कर लहूलुहान कर दिया। शास्त्री के बाएं हाथ की हड्डी टूट गई है। चेहरे पर भी जख्म लगे हैं। पत्नी और पुत्र भी जख्मी हुए हैं। जबकि रवि जवाहरलाल नेहरू अस्पताल के गहन चिकित्सा कक्ष में भर्ती कराया गया है। हमलावरों को शास्त्री पहचान रहे हैं। बरारी थानाध्यक्ष संजय सत्यार्थी को शास्त्री ने बताया कि हमलावरों में हाउसिंग बोर्ड कालोनी के धनंजय यादव, विधायक के छोटे पुत्र आशीष मंडल उर्फ टिंकू, दिलीप मंडल समेत 20 से अधिक लोग शामिल थे। हमलावरों ने मोबाइल भी छीन ली।

विधायक जबरन कब्जा करना चाहते हैं मेरी जमीन- शास्त्री

जख्मी शास्त्री ने बताया कि विधायक के पुत्र ने जिस जमीन पर होटल बनाया है वह भी मेरी जमीन थी। 43 कट्ठा जमीन में 24 कट्ठा जमीन जयप्रकाश यादव को बेच दी थी। उस जमीन पर विधायक ने कब्जा कर होटल बनवा दिया। मेरी शेष बची जमीन पर वो बिना मेरी सहमति के ट्रांसपोर्ट खोलवा दिया। तीन दिन पूर्व जब वहां गए और ट्रांसपोर्ट खोलने पर आपत्ति जताई तो हमे विधायक धमकी दे भगा दिया था। आज मैं, पत्नी, पुत्र और उसके दोस्त वहां अपनी जमीन पर गए तो वहां हमलोगों पर हमला कर जान लेने की कोशिश की।

विधायक ने कहा- जबरन दीवार तोड़ने दारोगा को लेकर पहुंचे थे लोग

विधायक गोपाल मंडल ने कहा कि शास्त्री की जमीन नहीं वो प्रवीण झा दारोगा की जमीन थी जिसपर दी गई दीवार को तोड़ने शास्त्री पहुंचा था अपने परिवार और हसेड़ी के साथ। वहां उस दौरान मारपीट हुई। मेरा बेटा होटल चलाता है अपनी जमीन पर। वहां दारोगा पक्ष और शास्त्री पक्ष में मारपीट हुई है।

Check Also

उत्तराखंड: 35-40 साल की सेवा के बाद बिना पदोन्नति रिटायर हो रहे शिक्षक

शिक्षा विभाग में शिक्षक 35 से 40 साल की सेवा के बाद बिना पदोन्नति सेवानिवृत्त …