Sunday , April 21 2024

बिहार -नई शिक्षा नीति के टास्क 60 के तहत विद्यालय से बाहर के सभी बच्चों का घर-घर सर्वेक्षण किया जाएगा

बिहार सरकार उन बच्चों की पहचान कर उन्हें स्कूल में लाएगी जो किसी कारण से पढ़ाई से दूर हो चुके हैं। राज्यभर में पढ़ने-लिखने की उम्र में कॉपी-किताब से किसी भी वजह से दूरी बनाए बच्चों की पहचान की जाएगी। आर्थिक तंगी, अभिभावक के नहीं होने, पढ़ाई में मन नहीं लगने या अन्य तमाम कारणों से स्कूल से बाहर रहने वाले या बीच में अपनी पढ़ाई छोड़ चुके 6 से 18 साल के बच्चों की खोज की जाएगी। राज्य सरकार के शिक्षा विभाग का यह अभियान नवम्बर के पहले ही सप्ताह से आरंभ हो जाएगा और तकरीबन तीन सप्ताह चलेगा। अभियान को संयोजित करने का जिम्मा बिहार शिक्षा परियोजना परिषद को मिला है जबकि इसमें हेडमास्टर, शिक्षक से लेकर जिला और प्रखंडों के तमाम शिक्षा अधिकारी काम करेंगे। साथ ही समाज की भी मदद ली जाएगी। नई शिक्षा नीति के टास्क 60 का पालन नई शिक्षा नीति के टास्क 60 के तहत विद्यालय से बाहर के सभी बच्चों का घर-घर सर्वेक्षण किया जाएगा। बिहार शिक्षा परियोजना परिषद ने विद्यालय से बाहर के बच्चों की पहचान के लिए गृहवार सर्वेक्षण का पूरा कार्यक्रम बना लिया है। सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को आउट ऑफ स्कूल बच्चों की पहचान के लिए 5 से 25 नवम्बर तक विशेष अभियान चलाने का आदेश दिया गया है। शिक्षा विभाग के सचिव तथा बीईपी के एसपीडी असंगबा चुबा आओ ने सभी जिलों को इसी माह बीईओ की अध्यक्षता में गुरु गोष्ठी आयोजित करने को कहा है, जिसके माध्यम से हेल्प डेस्क के लिए नामित शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। मिले बच्चों का होगा नामांकन, विशेष प्रशिक्षण घर-घर सर्वे के दौरान स्कूल से बाहर रह रहे जो भी बच्चे मिलेंगे, उनका नजदीक के विद्यालय में नामांकन कराया जाएगा। दाखिला बच्चे की उम्र सापेक्ष कक्षा में होगी। मसलन 10 साल का बच्चा मिला तो कक्षा चार में दाखिला होगा। ऐसे सभी बच्चों की समझ के स्तर को आंका जाएगा तथा उन्हें विशेष प्रशिक्षण के जरिए उम्र सापेक्ष कक्षा के लायक बनाया जाएगा। हर स्कूल में बनेगा हेल्प डेस्क पढ़ने की उम्र में इससे दूर रहने वाले बच्चों की घर-घर पहचान करने के लिए हर स्कूल में हेल्प डेस्क बनेगा। विद्यालय प्रधान अपने स्कूल के सबसे युवा शिक्षक को इस डेस्क का नोडल नामित करेंगे। यहां समाज का कोई भी व्यक्ति आकर ऐसे बच्चों की सूचना दे सकते हैं। विद्यालय शिक्षा समिति के माध्यम से भी हर स्कूल के पोषक क्षेत्र की जानकारी जुटायी जाएगी। सर्वेक्षण में भरे जाएंगे 24 कॉलम स्कूल से बाहर के बच्चों की खोज में कोई हवाबाजी नहीं चलेगी। सर्वे के दौरान कुल 24 कॉलम का प्रपत्र भरना होगा। प्रखंड, पंचायत, गांव-टोले, विद्यालय का नाम, छीजित बालक-बालिका का नाम, पिता-माता का नाम, मोबाइल नम्बर तथा बच्चे के आधार नम्बर के साथ दर्ज करना होगा। रणनीति के तहत एक-एक घर जायेंगे शिक्षक हेडमास्टर घर-घर सर्वेक्षण की रणनीति बनाकर शिक्षकों की टीम को पोषक क्षेत्र में इलाका बांटकर उतारेंगे। हर शिक्षक के हाथ में निर्धारित प्रपत्र रहेगा, जिसमें सूचनाएं अंकित होंगी। शहरी क्षेत्रों में सर्वे की अलग तैयारी रहेगी। यहां शिक्षकों के अलावा सामाजिक संगठनों, पीटीईसी, डायट के प्रशिक्षुओं की भी मदद ली जाएगी।  

Check Also

उत्तराखंड: नैनीताल सीट पर 15 साल में सबसे कम मतदान

नैनीताल सीट पर 61.75 प्रतिशत मतदान हुआ। वर्ष-2019 लोकसभा चुनाव से तुलना करें तो इस …