Friday , June 14 2024

UP: राज्यसभा सदस्य बृजलाल बोले- मुलायम के पद चिन्हों पर चलते हुए अखिलेश दे रहे राजनीति में अपराधीकरण को बढ़ावा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य बृजलाल ने यहां पत्रकारों से बात करते हुए यह दावा किया है. मुलायम सिंह यादव का अपराधियों से प्रेम जगज़ाहिर रहा है. प्रदेश में शातिर माफिया अतीक अहमद, मुख्तार अंसारी, विजय मिश्रा, डीपी यादव, मदन भैया, अन्ना शुक्ला, रिजवान ज़हीर सहित कई शातिर अपराधियों को समाजवादी पार्टी (सपा) के टिकट पर माननीय बनाया.

सपा के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने योगी सरकार पर बोला हमला : भाजपा का श्रम विरोधी चेहरा बेनकाब

अब मुलायम के पुत्र अखिलेश यादव ने भी अपने पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए एक हत्यारे की बेटी को सपा के टिकट पर चुनाव मैदान में उतार कर राजनीति में अपराधीकरण को बढ़ावा दिया है.

व्यक्ति या संस्था का मूल चरित्र नहीं बदलता-बृजलाल

बृजलाल के अनुसार, व्यक्ति या संस्था का मूल चरित्र नहीं बदलता. सपा के साथ भी यही है. सपा के मुखिया अखिलेश यादव जनता के बीच चाहे जो दावा कर लें, मौका मिलते ही वह पहले की तरह माफिया एवं अपराधियों की रहनुमाई, दंगाइयों और आतंकियों की पैरोकारी करने से बाज नहीं आते. इसी क्रम में अखिलेश यादव चुन-चुन कर अपराधियों और दंगाइयों को टिकट दे रहे हैं.

उत्तराखंड चुनाव : समाजवादी पार्टी के ये 15 स्टार प्रचारक करेंगे प्रचार, देखें लिस्ट

कैराना में हिंदुओं के पलायन के ज़िम्मेदार नाहिद हसन (जेल में बंद) को उन्होंने टिकट दिया है. यहीं नहीं उन्होंने मुलायम सिंह के मित्र और पार्टी के संस्थापक सनक सिंह यादव के हत्यारे अशोक दीक्षित की बेटी रूपाली अशोक दीक्षित को आगरा के फतेहाबाद से टिकट दे दिया है.

अखिलेश भी राजनीति के अपराधीकरण को ही बढ़ावा दिया-बृजलाल

बृजलाल का कहना है कि माफिया और शातिर अपराधी अशोक दीक्षित ने सनक सिंह यादव के साथ उनके गनर श्रीनिवास यादव की भी हत्या वर्ष 1989 में की थी. उस केस के गवाह शंकर यादव की हत्या भी एक साल के अंदर वर्ष 1990 में कर दी गई. अशोक दीक्षित की माफियागीरी का विरोध करने वाले प्रवक्ता सुमन यादव की भी दिन- दहाड़े हत्या अशोक दीक्षित ने 12 अक्टूबर 2007 में की थी.  

स्वतंत्र देव सिंह का अखिलेश पर वार : कहा- भाजपा अपराधियों को जेल तो सपा विधानसभा भेजेगी

सुमन यादव हत्याकांड में अशोक दीक्षित को आजन्म कारावास की सजा मिली है और वह जेल करीब 15 वर्षों से जेल में बंद है. ऐसे हत्यारे की बेटी को सपा मुखिया अखिलेश यादव ने टिकट देकर राजनीति के अपराधीकरण को ही बढ़ावा दिया है. बृजलाल के मुताबिक़ अखिलेश यादव के पिता मुलायम सिंह यादव भी यही करते रहे हैं.

मुलायम सिंह ने उत्तर भारत के वीरप्पन कहे जाने वाले डाकू ददुआ के भाई बालकुमार को एमपी उनके पुत्र वीर सिंह और भतीजे राम सिंह को एमएलए बनाया था. ये लोग माननीय उस समय बने, जब ददुवा 32 साल से फरार था. उस पर यूपी और मध्य प्रदेश सरकार से सात लाख का इनाम घोषित था.

अखिलेश चुन चुन कर अपराधियों को टिकट दे रहे-बृजलाल

बृजलाल के अनुसार अखिलेश यादव तो पिता से भी चार कदम आगे बढ़ गये हैं. उन्होंने मुख्यमंत्री बनते ही आतंकवादियों के 15 मुक़दमे वापस लिए थे. जिस पर उच्च न्यायालय इलाहाबाद द्वारा कठोर टिप्पणी करते हुए मुकदमा वापसी पर रोक लगायी गयी थी. इसी के बाद रामपुर सीआरपीएफ हमले में दो पाकिस्तानी आतंकी इमरान शहजाद, मोहम्मद फारूक सहित लश्कर के इंडिया कमांडर सबा उद्दीन और सुहेल अंसारी को फांसी की सजा और बाबा खान को आजन्म कारावास की सजा दी गई.

अखिलेश यादव ने गणतंत्र दिवस पर देशवासियों को दी बधाई, सुख-समृद्धि की कामना

यूपी कचहरी ब्लास्ट में आतंकियों को आजन्म कारावास की सजा मिली। इसके बाद भी अखिलेश यादव अब विधानसभा चुनाव में चुन-चुन कर अपराधियों और दंगाइयों को टिकट दे रहे हैं. कैराना में हिंदुओं के पलायन के ज़िम्मेदार नाहिद हसन (जेल में बंद) और एक हत्यारे की बेटी को अखिलेश द्वारा दिया गया टिकट इसका प्रमाण है. बृजलाल कहते हैं कि अखिलेश यादव पहले की तरह माफिया एवं अपराधियों की रहनुमाई कर रहे हैं यूपी की जनता इसके लिए अखिलेश यादव को सबक सिखाएगी.

Check Also

गोरखपुर: जम्मू के आतंकी हमले की प्रशंसा करने वाला युवक गिरफ्तार

पुलिस ने शिकायत मिलते ही आरोपी पर संप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने, आईटी एक्ट की धाराओं में …