Wednesday , June 19 2024

चश्मदीद का दावा- पीयूष के घर पर मिले दो अंडरग्राउंड बंकर, जानिए कानपुर कैश कांड में अबतक क्या-क्या हुआ ?

कानपुर। इत्र कारोबारी पीयूष जैन पर शिकंजा कसता जा रहा है. देश की 5 एजेंसियां इस कारोबारी का पूरा बही-खाता खंगाल रही हैं. लेकिन इसी के साथ अब कुछ और कारोबारियों पर जांच एजेंसियों की नजर है जिनके यहां छापेमारी जारी है. इस बीच पीयूष जैन के घर पर दो अंडरग्राउंड बंकर मिले हैं.

Kanpur : पीएम मोदी और सीएम योगी का विरोध, सपा कार्यकर्ताओं ने गाड़ियों में की तोड़फोड़

अंडरग्राउंड बंकर से बड़ी मुश्किल से कैश निकाला गया

छापेमारी करने वाली DGGI की टीम के साथ मौजूद एक चश्मदीद ने ये दावा किया है. अमित दुबे नाम के चश्मदीद का दावा है किस दोनों अंडरग्राउंड बंकर से बड़ी मुश्किल से कैश निकाला गया. उसका ये भी दावा है कि परिवार को इस पैसे के बारे में कोई जानकारी नहीं थी.

कानपुर कैश कांड में अबतक क्या-क्या हुआ ?

23 दिसंबर- कानपुर में इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर रेड
24 दिसंबर- कन्नौज के घर पर भी छापेमारी शुरू
25 दिसंबर- छापेमारी के दौरान 194 करोड़ नकद और ज्वैलरी बरामद
26 दिसंबर- देर रात पीयूष जैन गिरफ्तार
28 दिसंबर- छापेमारी खत्म, 5 केंद्रीय जांच एजेंसी जांच करेगी

ओमिक्रोन का बढ़ा खतरा : पिछले 24 घंटे के अंदर ओमिक्रोन के 128 नए मरीज

कानपुर के 2 और कारोबारी निशाने पर

कानपुर में अभी इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर में नोटों के बंडल को लेकर ही लोग हैरान थे कि अब कानपुर के 2 और कारोबारी निशाने पर आ गए हैं. कानपुर में गणपति ट्रांसपोर्ट के मालिक के घर पर DGGI यानि डायरेक्टरेट जनरल ऑफ GST इंटेलिजेंस और इनकम टैक्स की टीम ने छापा मारा.

सुनील गुप्ता के घर और ऑफिस में भी छापा

छापेमारी के लिए आए अधिकारी वहां से कुछ जरूरी कागजात भी ले गए हैं. वहीं, कानपुर में ही मयूर वनस्पति के मालिक सुनील गुप्ता के घर और ऑफिस में भी DGGI की टीम ने छापा मारा है. सुनील गुप्ता का घर सिविल लाइन्स इलाके में है जबकि ऑफिस ग्रीन पार्क के सामने है.

नोएडा : एडीसीपी रणविजय सिंह ने घायल को पहुंचाया अस्पताल

पीयूष जैन केस की जांच में जुटी बड़ी एजेंसीज़

उधर, कन्नौज के गिरफ्तार कारोबारी पीयूष जैन के घर से मिले करोड़ों रुपए की पहेली सुलझने की बजाए उलझती जा रही है. देश की 5 सबसे बड़ी एजेंसीज़ पीयूष जैन केस की जांच में जुट गयी हैं क्योंकि बात सिर्फ टैक्स चोरी या फिर ब्लैक मनी की नहीं रह गई है बल्कि इससे भी आगे बढ़ गई है. 194 करोड़ कैश के अलावा सोने की तस्करी केस की भी जांच की जा रही है.

Check Also

यूपी: उपचुनाव के लिए मजबूत प्रत्याशी तलाश रही बसपा

बसपा के लिए उपचुनाव में अपने प्रत्याशी उतारना मजबूरी बन चुका है, क्योंकि आजाद समाज …