Saturday , May 25 2024

लखनऊ में मुलायम से मिलकर शिवपाल ने दी जन्मदिन की बधाई, सैफई में दंगल कराकर मनाया जन्मदिन का जश्न, बोले- हमारी प्राथमिकता अखिलेश के साथ एकता करना

सपा संस्थापक और संरक्षक मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने इटावा में मनाया। इसके बाद शाम को लखनऊ में मुलायम सिंह को उनके घर जाकर बधाई दी। इस बीच खबर आ गई कि दोनों दलों के बीच एकता की बात आगे बढ़ी। अखिलेश की पार्टी से भी संकेत अच्छे मिलने लगे। लेकिन इससे पहले इटावा में शिवपाल ने अपना दर्द ज़ाहिर किया। बोले- हमारी प्राथमिकता है दोनों दलों में एकता हो जाए।

इटावा में शिवपाल ने कहा सपा प्रमुख अखिलेश यादव को एक हफ्ते का समय दिया है। कहा कि वह हमें व छोटे दलों को कम से कम 100 सीटें गठबंधन में दें। हमने तो 2019 में ही कहा था कि चलो हम ही झुक जाएंगे। आज दो साल हो गए, पर कोई बात नही बनी है। मालूम हो कि पिछले दिनों सैफई में अखिलेश यादव ने कहा कि मुलायम सिंह के जन्मदिन पर चाचा को तोहफा देंगे। उन्होंने चाचा शिवपाल को साथ लेकर चलने की बात भी कही थी पर जन्मदिन पर ऐसा कोई एलान न होने से शिवपाल के हावभाव अलग दिख रहे थे।

सैफई के चंदगीराम स्टेडियम में मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन प्रसपा ने धूमधाम से मनाया। प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल ने अपने बेटे आदित्य यादव व मुलायम के भाई अभयराम यादव के साथ मिलकर केक काटा। इस मौके पर उन्होंने कहा भी कि आज यहां तेजप्रताप और अंशुल को तो होना ही चाहिए था। अंशुल को जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव हराने के लिए जबरदस्त ताकतें लगी थीं। हमारी ताकत पर अंशुल निर्विरोध निर्वाचित हो गए। उन्होंने साफ कहा कि अखिलेश की तरफ से यह बातें चली थीं कि 22 तारीख को एक हो जाएंगे, लेकिन वह यहां नहीं आए।  शिवपाल ने कहा कि हमने सोचा था कि यह दंगल ऐतिहासिक दंगल होगा, पर नहीं हुआ। हमने हमेशा त्याग किया। हम चाहते तो 2003 में ही मुख्यमंत्री बन सकते थे। नेता जी को दिल्ली से बुलाकर सीएम बनाया था। दूसरे दलों के 40 विधायक एक किए थे। उस समय पच्चीस विधायक भाजपा और सपा के 143 विधायक हमारे साथ थे। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि हमारे साथ पार्टीजनों और महिलाओं ने बहुत संघर्ष किया, जब लाठी चलती थी तब महिलाएं आगे आ जाती थीं। 

शिवपाल ने साफ किया कि अब फैसला हो जाना चाहिए, अगर नहीं होता है, तो हम एक हफ्ते के अंदर लखनऊ में बड़ा सम्मेलन करेंगे। 2022 में प्रसपा को सत्ता में रहना है। हम चाहते हैं, एका हो जाए, हमारी प्राथमिकता है समाजवादी पार्टी। आज के दिन के लिए लोग बहुत आस लगाए थे लेकिन अब जो भी हो जल्दी हो जाए। मुलायम के जन्मदिन पर आयोजित अखिल भारतीय दंगल में खुद शिवपाल सिंह यादव और उनके पुत्र आदित्य यादव पहलवानों को नगद व इनाम देकर हौसला अफजाई कर रहे थे। मुलायम के भाई अभयराम सिंह यादव बराबर मौजूद रहे।

Check Also

मुरादाबाद: किशोरी को घर में अकेली देख ले गए साथ, एक ने किया दुष्कर्म, दूसरे ने बनाई वीडियो…

मझोला थाना क्षेत्र में किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना सामने आ रही है। …