Tuesday , July 16 2024

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के ‘एयर स्ट्रीप’ पर भी उतर सकते हैं लड़ाकू विमान, जानिए सेना के किस काम आती हैं ये हवाई पट्टी

पीएम नरेन्द्र मोदी आज जिस पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का उद्घाटन करने जा रहे हैं, उसमें एक एयर स्ट्रीप भी बनाई गई है। इस हवाई पट्टी के ज़रिए कहीं न कहीं देश के दुश्मनों को अपनी ताकत भी दिखाई जा रही है। आइये समझते हैं कि एक्सप्रेस वे पर एयर स्ट्रीप बनाने से देश की क्षमता कैसे बढ़ेगी ?

अगर आपने कुछ समय पहले आई अजय देवगन स्टारर भुज- द प्राइड फिल्म देखी होगी, तो आपको याद होगा कि कैसे पाकिस्तान ने भुज का एयर बेस बर्बाद कर दिया था और तब रातों रात गांव वालों की मदद से एयर बेस तैयार कर दिया गया था। अगर उस समय आज के जैसे एक्सप्रेस वे पर एयर स्ट्रीप होती तो दुश्मन की हिम्मत ही न पड़ती।

सितंबर 2021 में राजस्थान के बाड़मेर में नेशनल हाईवे 925 पर इमरजेंसी एयर स्ट्रीप का उद्घाटन किया गया था। यह एयर स्ट्रीप भारत-पाकिस्तान सीमा से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। उत्तर प्रदेश के आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर भी एयर स्ट्रीप है। देश में करीब 20 हाईवे पर एयर स्ट्रीप बनाए जा रहे हैं।

आज पूर्वांचल एक्सप्रेस वे में पीएम मोदी के सामने एक एयर शो भी होगा। इस एयर शो में भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमान जगुआर, सुखोई-30 एमकेआई और मिराज 2000 अपनी ताकत दिखाएंगे। एयर शो का मकसद सिर्फ अपनी क्षमता दिखाना नहीं है। इसका लक्ष्य दुश्मनों को यह संदेश देना भी है कि भारत हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। 

हाईवे पर बने ये एयर स्ट्रीप भारतीय वायु सेना के लिए काफी महत्वपूर्ण हैं। जंग के वक्त ये काफी काम आ सकते हैं। देशों के बीच लड़ाई की स्थिति में पहला निशाना वायु सेना के अड्डे होते हैं। कोशिश होती है कि दुश्मन देश के महत्वपूर्ण हवाई अड्डों और रन वे को तबाह कर दिया जाए ताकि उसके लड़ाकू विमान उड़ न सकें और जंग में बढ़त मिले। इसके चलते सीमा के करीब स्थित एयरफोर्स के अड्डे और रन वे पर हमला होने का खतरा सबसे अधिक होता है। 

हाईवे पर बने एयर स्ट्रीप वायुसेना के लिए विकल्प के रूप में काम आते हैं। वायु सेना के अड्डे पर हमला होने और रनवे काम लायक नहीं रहने की स्थिति में इन एयर स्ट्रीप का इस्तेमाल किया जा सकता है। एयर स्ट्रीप से लड़ाकू विमान उड़कर सीमा की रक्षा करने या फिर दुश्मन देश पर हमला करने जा सकते हैं। इसका इस्तेमाल सीमा पर जंग लड़ रहे सैनिकों तक सैन्य साजो सामान पहुंचाने में भी हो सकता है। एयर स्ट्रीप से वायुसेना के माल वाहक विमान उड़ान भर सकते हैं। 

Check Also

पंजाब: कनाडा में विद्यार्थी अब 40 नहीं 20 घंटे प्रति सप्ताह ही कर पाएंगे काम

कनाडा गए छात्र अब फुल टाइम वर्क नहीं कर पाएंगे। कोरोना के कारण प्रति सप्ताह …