Saturday , May 25 2024

मशहूर हिन्दी साहित्यकार मन्नू भंडारी का निधन, सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि देने वालों का तांता

हिंदी की सुप्रसिद्ध लेखिका और कथाकार मन्नू भंडारी का 90 साल की उम्र में आज निधन हो गया है। 3 अप्रैल 1931 को मध्य प्रदेश के मंदसौर में जन्मी मन्नू भंडारी सुप्रसिद्ध साहित्यकार और चर्चित संपादक राजेंद्र यादव की पत्नी थीं। अपने लेखन में पुरुषवादी समाज पर चोट करने वाली मन्नू भंडारी के निधन पर सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा हुआ है।

मन्नू भंडारी ने कई बेहतरीन कहानियां और उपन्यास हिंदी साहित्य को दिए। उनकी लिखी एक कहानी ‘यही सच है’ पर बासु चैटर्जी ने 1974 में ‘रजनीगंधा’ फिल्म भी बनाई थी। ‘आपका बंटी’ एक कालजयी उपन्यास है। इसे हिंदी साहित्य की एक मूल्यवान उपलब्धि के रूप में देखा जाता है।

मन्नू भंडारी के बचपन का नाम महेंद्र कुमारी था, मगर लेखन के लिए उन्होंने मन्नू नाम चुना। मन्नू नाम चुनने की वजह थी कि बचपन में सब उन्हें इसी नाम से पुकारते थे और आजीवन वह मन्नू भंडारी के नाम से ही मशहूर रहीं। दिल्ली के प्रतिष्ठित मिरांडा हाउस कॉलेज में वह लंबे समय तक पढ़ाती रहीं।  

धर्मयुग में धारावाहिक रूप से प्रकाशित उपन्यास ‘आपका बंटी’ से लोकप्रियता प्राप्त करने वाली मन्नू भंडारी विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में प्रेमचंद सृजनपीठ की अध्यक्षा भी रहीं। लेखन का संस्कार उन्हें विरासत में मिला। उनके पिता सुख सम्पतराय भी जाने माने लेखक थे।

मन्नू भंडारी  को सबसे ज़्यादा शोहरत मिली ‘आपका बंटी’ से, जिसमें प्रेम, विवाह, तलाक़ और वैवाहिक रिश्ते के टूटने-बिखरने की कहानी है। इसे हिन्दी साहित्य का मील का पत्थर माना जाता है। इस पर ‘समय की धारा’ नामक फ़िल्म बनी थी। इस किताब का अनुवाद बांग्ला, अंग्रेजी और फ्रांसीसी में हुआ।

Check Also

25 मई का राशिफल: कर्क, सिंह और कुंभ राशि वाले समस्याओं से घिरे रह सकते हैं

मेष आज विद्यार्थियों के लिए दिन शुभ रहेगा। आय के नए-नए स्रोतों से आय प्राप्त …