Wednesday , June 26 2024

अलर्ट- कोरोना की तरह ही डेंगू के मरीज़ों को भी ख़तरा, जानलेवा फंगस बना सकता है निशाना

कुछ महीने पहले कोरोना से ठीक हुए कुछ मरीज़ों के जानलेवा फंगस के चपेट में आने के कई केस सामने आए थे। इन मामलों में कई लोगों की आंखें चली गई थीं। कुछ ऐसे ही मामले अब डेंगू से ठीक हो चुके लोगों में भी सामने आने लगे हैं। देश में पहली बार दिल्ली के एक अस्पताल में ऐसा ही मामला सामने आया है, जिसमें डेंगू से ठीक होने के 15 दिन बाद मरीज की एक आंख की नजर ही चली गई। मरीज को डायबिटीज़ की शिकायत नहीं थी। इसलिए अगर आप भी अगर डेंगू से हाल ही में ठीक हुए हैं तो साफी सचेत रहें।

डॉक्टरों के अनुसार ग्रेटर नोएडा के निवासी 49 वर्षीय मोहम्मद तालिब कुछ समय पहले डेंगू संक्रमित हुए थे। एक लंबे उपचार के बाद वह डेंगू से ठीक भी हो गए लेकिन उसके बाद फंगस यानी म्यूकर माइकोसिस का संक्रमण उन्हें हो गया। मरीज को एक आंख से दिखाई देना पूरी तरह से बंद हो गया जिसके बाद वह नई दिल्ली स्थित अपोलो अस्पताल में भर्ती हुआ। 

डॉ. अतुल आहूजा ने बताया कि डेंगू से ठीक होने के बाद मरीज में राइनोऑर्बिटल म्युकरमायकोसिस बीमारी का भी निदान किया गया। इस बीमारी में नाक और आंख पर असर पड़ता है। अस्पताल आने से पहले मरीज को नाक से खून आया। ऐसा डेंगू ठीक होने के 15 दिनों बाद हुआ। डेंगू के दौरान मरीज के प्लेटलेट्स कम हो गए थे, हालांकि उसे प्लेटलेट्स चढ़ाने की जरूरत नहीं पड़ी थी। डेंगू के कारण मरीज की इम्यूनिटी कम होने की वजह से उसे म्युकरमायकोसिस हो गया। फिलहाल मरीज की हालत स्थिर है। कुछ दिन अस्पताल में रखने के बाद उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया लेकिन मरीज की आंख की रोशनी वापस नहीं दिला सके। 

अपोलो अस्पताल के वरिष्ठ डॉ. सुरेश नरूका ने बताया कि यह ब्लैक फंगस यानि म्यूकर माइकोसिस का एक दुर्लभ मामला है। इस तरह के मामले अक्सर डायबिटीज़ या किसी अन्य संक्रमण के रोगियों में पाए जाते रहे हैं या फिर जिनकी इम्युनिटी कम हो। ब्लैक फंगस में भी एक घातक फंगस म्यूकर से जुड़ा है। यह फंगस नाक, साइनस, आंखों और दिमाग के टिश्यूज को तेजी से नुकसान पहुंचाता है। इसके निदान एंव इलाज में थोड़ी सी भी देरी गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकती है।

डॉक्टरों के अनुसार हाल ही में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देश भर में ब्लैक फंगस के मामले बड़ी संख्या में दर्ज हुए थे। ऐसे मामलों में खासतौर पर मधुमेह रोगी ब्लैक फंगस का शिकार हो रहे थे लेकिन डेंगू के बाद म्यूकर माइकोसिस एक नया मामला है। ऐसे में वे मरीज जो अभी हाल ही में डेंगू से ठीक हुए हैं, अगर उन्हें कोई भी नए लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Check Also

असम राइफल्स और मणिपुर पुलिस की बड़ी कार्रवाई, थौबल जिले में चलाया संयुक्त अभियान

असम राइफल्स और मणिपुर पुलिस द्वारा मणिपुर के थौबल जिले में चलाए गए संयुक्त अभियान …