Thursday , May 23 2024

UP Election : सूबे की सत्ता में वापसी के लिए चेहरों के जरिए जातियों को साधेगी भाजपा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में अगले साल यानि 2022 में विधानसभा चुनाव होने है। जिसको लेकर सभी पार्टियां जोरों शोरों से जुट गई है।

परमबीर सिंह वसूली मामले में आरोपी की तलाश कर रही मुंबई क्राइम ब्रांच

भाजपा ने जातीय क्षत्रपों को साधने का किया फैसला

बता दें कि, इस बार सबकी नजरें यूपी चुनाव पर टिकी हुई है। सूबे की सत्ता में वापसी के लिए भारतीय जनता पार्टी ने अब जातीय क्षत्रपों को साधने का फैसला किया है। इसे अमजीलामा पहनाने को पूरी कवायद भी कर ली है।

सभी जातियों के अलग-अलग सम्मेलन करेगी भाजपा

भाजपा 17 अक्तूबर से प्रदेश में पिछड़ी, अति पिछड़ी और दलित जातियों के अलग-अलग सम्मेलन करने जा रही है। इनमें अपनी जातियों में प्रभाव रखने वाले चेहरों पर फोकस किया जा रहा है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ता नारायण जी ‘भुलई भाई’ से की मुलाकात

2017 में पिछड़ों ने भाजपा की नैया लगाई थी पार

वर्ष 2017 के रण में अगड़ों के साथ-साथ पिछड़ों ने भाजपा की नैया पार लगाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। भाजपा अब फिर इन्हीं पिछड़ों और अति पिछड़ों को साधने में जुटी है।

जातीय सम्मेलनों को सामाजिक सम्मेलन का नाम दिया

जातीय सम्मेलनों को कराने का जिम्मा ओबीसी मोर्चा को सौंपा गया है। पार्टी ने इन जातीय सम्मेलनों को सामाजिक सम्मेलन का नाम दिया है।

विजय रथ यात्रा : अखिलेश यादव ने की 2022 में होने वाले चुनावों की निर्णायक शुरूआत, BJP पर बोला हमला

भाजपा ने 32 सम्मेलन करने का निर्णय लिया

पार्टी सूत्रों की मानें तो भाजपा ने 32 सम्मेलन करने का निर्णय लिया है। इन सम्मेलनों की रूपरेखा तय हो चुकी है।

यहां होगा कार्यक्रमों का आयोजन

यह प्रदेश स्तरीय सम्मेलन इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान, गन्ना संस्थान, पंचायती राज संस्थान और विश्वेसरैया भवन के सभागार में होंगे।

विजयदशमी के अवसर पर गोरक्षपीठ में सीएम योगी ने की पूजा अर्चना, तस्वीरों में देखिए

जिस जाति का सम्मेलन होगा, उसके एक से लेकर दो हजार तक लोगों की उपस्थिति का लक्ष्य रखा गया है।

हर चेहरे को भुनाने की कवायद

इन सम्मेलनों के जरिए पार्टी की योजना पिछड़ी और अति पिछड़ी जाति के बुद्धिजीवी लोगों को जोड़ने की है। ताकि इनके जरिए उनके गांव-गली, इलाके के लोगों का साथ मिल सके।

प्रभावशाली चेहरों को आमंत्रित किया जाएगा

इन जातीय सम्मेलन में पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, प्रधान, पूर्व प्रधान, मौजूदा और पूर्व जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायतों के सदस्य, सामाजिक और जातीय संगठनों के मुखिया सहित संबंधित जाति के अन्य प्रभावशाली चेहरों को आमंत्रित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विजयादशमी की प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

इन जातीय सम्मेलनों में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यंमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह, प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल सहित अन्य प्रमुख चेहरे शामिल होंगे।

Check Also

काशी में 1200 छात्र-छात्राओं ने बनाई मानव श्रृंखला

लोकसभा चुनाव को लेकर छात्र- छात्राओं ने मतदाताओं को मतदान के लिए जागरूक करने के …