Wednesday , June 19 2024

शिक्षाविद् डॉ. जगदीश गांधी ने ‘बापू’ को किया नमन, कहा- राष्ट्रपिता के विचारों को लगातार आगे बढ़ा रहा है CMS

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल के लगभग 3000 शिक्षक और कार्यकर्ता ने बड़े ही भव्य स्तर पर ऑनलाइन ‘गांधी जयन्ती समारोह’ मनाया। इस भव्य समारोह में सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डॉ. जगदीश गांधी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के चित्र पर माल्यार्पण कर बापू के विचारों और आदर्शों की अलख जगाई।

राहुल गांधी ने ‘बापू’ को दी श्रद्धांजलि, मोदी सरकार पर कसा तंज, कही ये बात

बापू के व्यक्तित्व के बारे में बताया गया

वहीं विभिन्न शिक्षात्मक-सांस्कृतिक कार्यक्रमों द्वारा एकता, शान्ति, सत्य, अहिंसा के विचारों को विश्व के कोने-कोने में प्रवाहित करने का आह्वान किया और साथ ही बापू के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डाला गाया।

राष्ट्रपिता के विचारों को लगातार आगे बढ़ा रहा है CMS

डॉ. गांधी ने कहा कि, महात्मा गांधी सकारात्मकता में विश्वास करते थे और सकारात्मकता से ही सफलता मिलती है। सच्चाई, कार्य की पवित्रता एवं दृढ़ निश्चय, यही सफलता के सूत्र हैं। उन्होंने कहा कि, सी.एम.एस. राष्ट्रपिता के विचारों को लगातार आगे बढ़ा रहा है और आने वाली पीढ़ियों में अच्छे विचार भरने का पूर्ण प्रयास कर रहा है और यही वक्त की जरूरत है।

गांधी जयंती: राजघाट पहुंचकर पीएम मोदी ने बापू को दी श्रद्धांजलि

गांधी के आदर्शों पर चलकर ही विश्व एकता की मंजिल मिलेगी

इस अवसर पर आयोजित एक ऑनलाइन प्रेस कान्फ्रेन्स में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए सी.एम.एस. संस्थापक और प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गांधी ने कहा कि. महात्मा गांधी के आदर्शों पर चलकर ही विश्व एकता की मंजिल मिलेगी।

विश्व फेडरेशन के सपने को साकार करने का आया समय

महात्मा गांधी ने कहा था कि, आधुनिक विश्व की समस्याओं को सुलझाने के लिए विश्व शान्ति की यह मांग है कि सभी सम्प्रभु देशों को एकजुट होकर एक वर्ल्ड फेडरेशन की स्थापना करनी चाहिए। डॉ. गाँधी ने जोर देते हुए कहा कि, अब समय आ गया है कि महात्मा गांधी द्वारा सोचे गये विश्व फेडरेशन (विश्व संसद) के सपने को साकार किया जाए।

आज का पंचांग और राशिफल : ये राशि वाले रहे सावधान, जानिए कैसा बीतेगा शनिवार ?

इस अवसर पर डॉ. जगदीश गांधी ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से भी विश्व के 2.5 अरब बच्चों की ओर से अपील की कि, वे पूरे विश्व के नेताओं की एक ग्लोबल ऑनलाइन कान्फ्रेन्स बुलाकर वैश्विक आतंकवाद और जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक समस्याओं पर परिचर्चा करें और इन्हें सुलझाएं। 

इस मीटिंग का मुख्य ऐजेन्डा हो कि, हम विश्व संसद स्थापित करके विश्व में एक नई राजनीतिक व आर्थिक व्यवस्था बनाएं, जिसके द्वारा हम विश्व के 2.5 अरब बच्चों व आगे आने वाली पीढ़ियों का भविष्य सुन्दर व सुरक्षित बना सकें।

गर्व का दिन: गांधी जयंती पर लेह में दुनिया के सबसे बड़े खादी के तिरंगे का अनावरण

विश्व को पीएम मोदी जैसा सुदृढ़ व समर्पित नेता चाहिए

डा. गांधी ने आगे कहा कि, विश्व को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जैसा सुदृढ़ व समर्पित नेता चाहिए जिसने विश्व के सभी बड़े नेताओं के साथ अच्छे व गहरे सम्बन्ध स्थापित कर लिए हैं व अपने आप में वे एक ग्लोबल लीडर बनकर उभरे हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी एक आकर्षक व प्रभावशाली व्यक्तित्व के धनी हैं और उनके आग्रह पर दुनिया के सभी नेता एकजुट हो सकते हैं।

डा. गांधी ने स्वच्छ भारत 2.0 की प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के आह्वान पर सी.एम.एस. के 3000 शिक्षकों ने भारत को स्वच्छ व हरा-भरा रखने की प्रतिज्ञा की है और अपने दैनिक जीवन में निरन्तर स्वच्छता की ओर अग्रसर हैं। डॉ. गाँधी ने कहा कि सी.एम.एस. ने स्वच्छ भारत अभियान को अपना एक बड़ा मिशन बनाया है।

Corona Virus: देश में एक्टिव केसों की संख्या घटी, पिछले 24 घंटों में 24 हजार 354 नए मामले

अहिंसा की भावना को सारे विश्व में प्रवाहित प्रचारित किया

इससे पहले, गांधी जयन्ती एवं अन्तर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित भव्य समारोह में सी.एम.एस. शिक्षकों ने विश्व एकता व विश्व शान्ति का संदेश देते अनेक शिक्षात्मक-सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर अहिंसा की भावना को सारे विश्व में प्रवाहित प्रचारित किया।

गांधीजी की शिक्षाएं आज भी प्रासंगिक हैं और सदैव रहेंगी

सी.एम.एस. की मैनेजिंग डायरेक्टर प्रो. गीता गांधी किंगडन ने समारोह में ऑनलाइन उपस्थित गणमान्य अतिथियों, सी.एम.एस. प्रधानाचार्याओं, शिक्षकों व कार्यकर्ताओं का हार्दिक स्वागत करते हुए कहा कि, महात्मा गांधी की शिक्षाएं आज भी प्रासंगिक हैं और सदैव रहेंगी।

भारती गांधी ने  सभी का जताया आभार

समारोह के अन्त में विद्यालय की संस्थापिका-निदेशिका डॉ. भारती गांधी ने कार्यक्रम के अत्यन्त सफल आयोजन के लिए सभी के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त करते हुए कहा कि, आध्यात्मिक शिक्षा का आज के परिप्रेक्ष्य में विशेष महत्व है क्योंकि इसी के माध्यम से भावी पीढ़ी का चरित्र निर्माण संभव है। ये जानकारी सी.एम.एस. के इंटरनेशनल रिलेशन्स विभाग के हेड डॉ शिशिर श्रीवास्तव ने दी।
 

Check Also

यूपी: उपचुनाव के लिए मजबूत प्रत्याशी तलाश रही बसपा

बसपा के लिए उपचुनाव में अपने प्रत्याशी उतारना मजबूरी बन चुका है, क्योंकि आजाद समाज …