Saturday , June 22 2024

कलकत्ता HC का भवानीपुर उपचुनाव पर रोक लगाने से इनकार, 30 सितंबर को डाले जाएंगे वोट

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के भवानीपुर सीट पर उपचुनाव होना है. कलकत्ता हाई कोर्ट ने आज भवानीपुर पर सीट हो रहे उप चुनाव पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है.

30 सितंबर को भवानीपुर में डाले जाएंगे वोट

बता दें कि, 30 सितंबर को भवानीपुर में वोट डाले जाएंगे. हाई कोर्ट ने कहा है कि, वो 17 नवंबर को चुनाव पर होने वाले खर्च का आंकलन करेंगे. इसके साथ ही कोर्ट ने बंगाल के मुख्य सचिव के चुनाव की जरूरत वाले बयान को गैरजरूरी बताया है.

पंजाब की चन्नी सरकार में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, सुखजिंदर सिंह रंधावा बने गृह मंत्री

24 सितंबर को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल और न्यायमूर्ति राजर्षि भारद्वाज की पीठ ने मामले में सुनवाई पूरी की थी और इसपर फैसला सुरक्षित रख लिया था.

ममता बनर्जी और प्रियंका टिबरेवाल के बीच मुकाबला

इस सीट पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और बीजेपी की प्रियंका टिबरेवाल के बीच मुख्य मुकाबला है. ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री बने रहने के लिए यह चुनाव जीतना बेहद जरूरी है.

वृष, कन्या, धनु और कुंभ राशि वालों का चमकेगा भाग्य, जानें सभी राशियां अपना राशिफल

सुनवाई के दौरान कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल ने कड़ा रुख दिखाते हुए मुख्य सचिव के पत्र पर सवाल उठाया था और चुनाव आयोग की भूमिका पर भी फटकार लगायी थी.

ये भी सवाल किया था कि, जब किसी की जीत हो चुकी थी तो दोबारा चुनाव कराने पर जो खर्च आयेगा वो जनता के पैसों से क्यों हो?

वहीं याचिकाकर्ता ने दलील दी थी कि, चुनाव आयोग ने कहा था कि, यह फैसला लिया गया है कि, भवानीपुर निर्वाचन क्षेत्र पर उपचुनाव कराने का फैसला “पश्चिम बंगाल राज्य के विशेष आग्रह और संवैधानिक आवश्यकता पर विचार” करते हुए लिए गया है.

जलशक्ति मंत्री ने दिए निर्देश, किसानों को पर्याप्त पानी उपलब्ध कराए

उसने दलील दी कि, आयोग को ऐसा नहीं करना चाहिए था और इसलिए अदालत को मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए.

निर्वाचन आयोग ने अपनी दलील में कहा था कि, याचिकाकर्ता संवैधानिक आवश्यकता शब्द के अर्थ को गलत तरीके से वर्णित करने की कोशिश कर रहा है.

इसके साथ ही आयोग ने कहा कि, इसे मतदाताओं को प्रभावित करने की कोशिश के तौर पर नहीं देखा जा सकता है.

यूपी : 7 दिनों तक CBI की हिरासत में रहेंगे महंत नरेंद्र गिरि केस के तीनों आरोपी

विधानसभा में पार्टी सुप्रीमो के निर्वाचन को आसान बनाने के लिए टीएमसी विधायक सोभनदेब चट्टोपाध्याय के इस्तीफे के बाद भवानीपुर सीट पर उपचुनाव आवश्यक हो गया था. इस सीट का प्रतिनिधित्व 2011 और 2016 में बनर्जी ने किया था.

Check Also

पंजाब: कनाडा में विद्यार्थी अब 40 नहीं 20 घंटे प्रति सप्ताह ही कर पाएंगे काम

कनाडा गए छात्र अब फुल टाइम वर्क नहीं कर पाएंगे। कोरोना के कारण प्रति सप्ताह …