Saturday , June 22 2024

Rajasthan Politics : राहुल और प्रियंका ने सचिन पायलट के साथ की बैठक, सीएम अशोक गहलोत पर बनाया दबाव

नई दिल्ली। पंजाब में नेतृत्व बदलाव के बाद अब राजस्थान में नेतृत्व बदलाव के कयास लगाए जा रहे हैं. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के साथ शुक्रवार को लंबी चर्चा की।

डॉ. नवनीत सहगल ने अधिकारियों को दिए निर्देश, कहा- स्थानीय स्तर पर हो उद्यमियों-व्यापारियों की समस्याओं का निराकरण

समझा जाता है कि इस दौरान सूबे की सत्ता और संगठन में पायलट समर्थकों के समायोजन से लेकर उनकी भावी राजनीतिक भूमिका पर चर्चा हुई।

अशोक गहलोत पर बनाया दबाव

राहुल और प्रियंका के साथ सचिन की इस बैठक के बाद कांग्रेस के सियासी गलियारों में इस बात की चर्चा तेज हो गई है कि, पार्टी हाईकमान ने अब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर भी पायलट समर्थकों को सरकार में शामिल करने के लिए अपना दबाव बढ़ा दिया है।

उत्तराखंड में खुशनुमा हुआ मौसम, बदरीनाथ में बारिश के बाद ऊंची चोटियों पर हुई बर्फबारी

गहलोत पिछले करीब एक साल से पायलट गुट के विधायकों और हटाए गए मंत्रियों को अपनी कैबिनेट में लेने के मामले को टालते आ रहे हैं।

कांग्रेस हाईकमान ने बीते कुछ महीनों के दौरान गहलोत को साफ संदेश दे दिया था कि, वह पायलट को बगावत से वापस लाने के लिए किए गए अपने वादे को पूरा करेगा।

BSP के दो बड़े नेता लालजी वर्मा और राम अचल राजभर सइकिल की करेंगे सवारी!

इस बीच गहलोत को दिल का दौरा पड़ने और एंजियोप्लास्टी के चलते मामला पिछले डेढ़-दो महीने से लटक गया था। लेकिन पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह जैसे पुराने दिग्गज को हटाने का सियासी आपरेशन पूरा करने के बाद राहुल और प्रियंका राजस्थान में गहलोत और पायलट के बीच संतुलन के लिए जरूरी कदम उठाने को तैयार दिख रहे हैं।

पायलट की भविष्य की राजनीति पर निगाह

राहुल गांधी ने पिछले हफ्ते भी सचिन पायलट के साथ लंबी बातचीत की थी और समझा जाता है कि, उनको कांग्रेस का राष्ट्रीय महासचिव बनाकर गुजरात का प्रभार देने की पेशकश भी की गई। लेकिन पायलट फिलहाल भविष्य की राजनीति पर निगाह लगाते हुए राजस्थान की सियासत में ही अपनी उचित और सम्मानजक भूमिका पर जोर दे रहे हैं।

Gomti Nagar: सदगुरु श्री रितेश्वर महाप्रभु जी करेंगे प्रेसवार्ता, अध्यात्म के महत्व पर होगी बातचीत

बेशक पायलट अब गहलोत सरकार में डिप्टी सीएम बनने के इच्छुक नहीं हैं, मगर उनकी नजर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद फिर से हासिल करने पर लगी है।

पायलट की प्रदेश की सत्ता और संगठन में जल्द वापसी लगभग तय

पायलट के इन संकेतों से साफ है कि, वे राजस्थान में कांग्रेस संगठन की कमान थामे रखने में भविष्य के लिहाज ज्यादा फायदा देख रहे हैं। मुख्यमंत्री गहलोत के बेशक गांधी परिवार से अच्छे रिश्ते हैं, मगर सचिन पायलट भी राहुल और प्रियंका के करीबी नेताओं में गिने जाते रहे हैं।

डॉ. नवनीत सहगल ने अधिकारियों को दिए निर्देश, कहा- स्थानीय स्तर पर हो उद्यमियों-व्यापारियों की समस्याओं का निराकरण

ऐसे में राहुल-प्रियंका के साथ हुई ताजा बैठक के बाद पायलट व उनके समर्थकों की प्रदेश की सत्ता और संगठन में जल्द वापसी लगभग तय है।

एक हफ्ते में पायलट की राहुल गांधी से यह दूसरी मुलाकात

बता दें कि, शुक्रवार को कांग्रेस के नेता सचिन पायलट जब दिल्ली में राहुल गांधी से मिलने पहुंचे तो राजनीतिक गलियारों में ऐसी चर्चा होने लगीं. एक हफ्ते में सचिन पायलट की राहुल गांधी से यह दूसरी मुलाकात है. इस मुलाकात के दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी मौजूद रहीं.

राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, ट्वीट कर लिखा- ‘Mr 56’ चीन से डरता है

Check Also

21 जून का राशिफल

मेष दैनिक राशिफल (Aries Daily Horoscope) आज का दिन आपके लिए मूल्यवान रहने वाला है। …