Saturday , May 25 2024

SC से सुपरटेक को बड़ा झटका, नोएडा में 40 मंजिला 2 टावर गिराने का आदेश

नई दिल्ली। रियल स्टेट कंपनी सुपरटेक (real estate company supertech) को मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme court)से बड़ा झटका लगा।

UP: निजी सचिव की आत्महत्या के मामले में इंस्पेक्टर और दारोगा निलंबित, सुसाइड नोट में इस बात का जिक्र

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक के नोएडा एक्सप्रेस स्थित एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट के अपैक्स एंड स्यान यावे-16 और 17 को अवैध ठहराया है और दोनों 40 मंजिला टावरों को ढहाने का आदेश दिया है।

दो महीने के भीतर तोड़ें अवैध टावर: सुप्रीम कोर्ट

अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि, नोएडा में सुपरटेक ने एमराल्ड कोर्ट में लगभग 1,000 फ्लैटों वाले ट्विन टावरों के निर्माण में नियमों का उल्लंघन किया है और कंपनी को अपनी लागत से ही दो महीने की अवधि के भीतर इन्हें तोड़ना होगा।

पहली बार सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में 9 जजों ने एक साथ ली शपथ

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय भवन अनुसंधान संस्थान (सीबीआरआई) को टावरों को गिराने का आदेश दिया है जिससे कि सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जा सके।

फ्लैट मालिकों को ब्याज के साथ पैसे वापस करना होगा

सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक का आदेश देते हुए कहा कि नोएडा में ट्विन टावरों के सभी फ्लैट मालिकों को 12 फीसदी ब्याज के साथ पैसे वापस किए जाएं। कोर्ट ने बिल्डर को रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन को दो करोड़ रुपए का भुगतान करने का भी निर्देश दिया है।

CM योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट ‘फिल्म सिटी’ का सपना जल्द होगा पूरा, इन तीन चरणों में होगा निर्माण

पीठ ने पाया कि, मानदंडों के उल्लंघन में नोएडा अथॉरिटी और बिल्डर में मिलीभगत थी। पीठ ने फैसले में कहा है कि अवैध निर्माण से सख्ती से निपटा जाना चाहिए।

अन्य भवनों को नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए: सुप्रीम कोर्ट

फैसले में कहा गया है कि टॉवर्स को तोड़ते वक्त अन्य भवनों को नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस एमआर शाह ने इस मामले की सुनवाई की।

तीन अगस्त को भी हुई थी सुनवाई

बता दें कि शीर्ष अदालत ने तीन अगस्त को पिछली सुनवाई में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। उस वक्त भी अदालत से नोएडा अथॉरिटी को खूब फटकार पड़ी थी।

मिशन 2022 : जनादेश यात्रा के जरिए जनता से संवाद करेगी सपा, इन जिलों में होंगे कार्यक्रम

अदालत ने कहा था कि अथॉरिटी को एक सरकारी नियामक संस्था की तरह व्यवहार करना चाहिए, ना कि किसी के हितों की रक्षा के लिए निजी संस्था की तरह।

2014 में इलाहाबाद HC ने भी दिया था टॉवर्स को गिराने का निर्देश

बता दें कि वर्ष 2014 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी इन टावर्स को गिराने का निर्देश दिया था, जिसे अब सुप्रीम कोर्ट ने भी सही माना है।

UP: भाजपा की कुनीतियों के खिलाफ सपा ने निकाली महानदल की आक्रोश यात्रा

Check Also

दिल्ली: प्रियंका गांधी के बेटे और बेटी ने लाइन में लगकर किया मतदान

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के बेटे रेहान राजीव वाड्रा और बेटी मिराया वाड्रा ने …