Wednesday , June 19 2024

अवैध धर्मांतरण मामला: यूपी एटीएस ने 6 आरोपियों के खिलाफ दायर की चार्जशीट

लखनऊ। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अवैध धर्मांतरण मामले (illegal conversion cases) में गुरुवार को यूपी एटीएस (UP ATS) ने 6 आरोपियों के खिलाफ स्पेशल कोर्ट (special court) में चार्जशीट दाखिल कर दी है.

SC का बड़ा फैसला, अब लड़कियां भी दे सकेंगी NDA की परीक्षा

60 दिन बाद इन लोगों पर कार्रवाई

करीब 60 दिन की जांच के बाद एटीएस ने उमर गौतम, जहांगीर आलम, मन्नू यादव उर्फ अब्दुल मन्नान, राहुल भोला उर्फ राहुल अहमद, इरफान शेख और सलाउद्दीन पर अवैध धर्म परिवर्तन एक्ट के तहत कार्रवाई की है.

बड़े स्तर पर हुआ धर्मांतरण

चार्जशीट में कहा गया कि, इन अभियुक्तों के खिलाफ देशभर में बड़े स्तर पर अवैध धर्म स्थानांतरण कराए जाने के पर्यापत सबूत मिले हैं, जिसके तार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी जुड़े हुए हैं.

बहला फुसलाकर कराते थे लोगों से धर्म परिवर्तन

ये आर्थिक रूप से कमजोर लोगों, महिलाओं, दिव्यांग (विशेष कर मुक-बधिरों) को बहला-फुसलाकर या उनकी इच्छा के खिलाफ धर्म परिवर्तन करवा देते थे.

प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग ग्रुप की बैठक, मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी ने की समीक्षा

चार्जशीट में उमर गौतम, काजी जहांगीर पर अवैध धर्म परिवर्तन का इंटरनेशनल गिरोह चलाने का आरोप लगाया गया है. साथ ही कहा गया है कि, ये लोग धर्मांतरित लोगों को रेडिक्लाइज करते थे.

विदेश से आते थे करोड़ों रुपये

इस्लामिक दावा सेंटर, गाजियाबाद (IDC) और नोएडा डेफ सोसायटी को अवैध धर्म परिवर्तन का केंद्र बनाया गया था.

मिशन 2022: सपा ने जूही सिंह को नियुक्त किया महिला सभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष

एटीएस के अनुसार, देश का जनसंख्या संतुलन बिगाड़कर लोक अशांति फैलाने के भी सबूत मिले हैं. विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट कस्टम की कोर्ट में ये चार्जशीट दाखिल की गई है.

इसमें कहा गया है कि, अवैध धर्म परिवर्तन के लिए विदेशों में बैठे इनके सहयोगियों द्वारा भारी मात्रा में हवाला के माध्यम से उमर गौतम को पैसा भेजा जा रहा था.

उमर गौतम इन पैसों को अपने गिरोह के सदस्यों को भेजता था और उसके बाद इसका इस्तेमाल अवैध धर्म परिवर्तन कराने में होता था.

योगी सरकार ने पेश किया 7301.52 करोड़ रुपये का अनुपूरक बजट, जानें क्या है खास ?

आईडीसी ऐसा संस्थान है, जहां धर्मांतरण के शिकार लोगों का अपने अवैध नेटवर्क का प्रयोग करके झूठी सूचनाओं के आधार पर धर्मांतरण संबंधी कागजात तैयार कराए जाते थे.

बता दें कि, 20 जून को यूपी एटीएस ने अवैध धर्मांतरण मामले में पहली बार खुलासा करते हुए 2 लोगों को  गिरफ्तार किया था।

कनाडा में भारतीयों ने मनाया स्वतंत्रता दिवस, एक दूसरे को दी शुभकामनाएं

अवैध धर्मांतरण मामले में अब तक 10 आरोपी जेल में हैं। फिलहाल जांच जारी है। यूपी एटीएस ने 60 दिन में कारवाई करते हुए अरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की है।

Check Also

यूपी: उपचुनाव के लिए मजबूत प्रत्याशी तलाश रही बसपा

बसपा के लिए उपचुनाव में अपने प्रत्याशी उतारना मजबूरी बन चुका है, क्योंकि आजाद समाज …