September 20, 2017 2:43 PM
Breaking News

24 घंटे में अखिलेश-राहुल को पछाड़ दिया इस गुमनाम ‘सेलेब्रिटी’ ने…

हिन्द न्यूज़ डेस्क(SHIVENDRA SINGH BAGHEL)| एक बीएसफ का जवान जिसे देश में 24 घंटे पहले शायद कुछ ही लोग जानते होंगे . हो सकता है उसकी बटालियन के साथी भी उससे परिचित नहीं होंगें. उस जवान का नाम हो सकता है उसके अधिकारियों की जुबान पर भी न होगा. आज उस जवान के नाम से  देश का हर नागरिक जानने लगा है.

13245404_1753582584855249_908529935619907842_n

सबसे ख़ास बात तो यह रही कि इस जवान ने गूगल की ट्रेंडिंग में यूपी के सीएम अखिलेश यादव और कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी को कुछ घंटों के लिए पछाड़ दिया. साथ ही गूगल पर सबसे ज्यादा बार सर्च किये जाने वाले में शामिल हो गया.

यह भी पढ़ें- रा.वन और जग्गू थाम सकते है बीजेपी का दामन

यह भी पढ़े- अगर आपके भी जूते चोरी हुए हैं या फिर टूटे, तो यह ज़रूर पढ़ लें..

untitled10

untitled7

आइए जाने कुछ बातें तेज बहादुर यादव से जुड़ी-

  • तेज बहादुर यादव को  सोशल साइट फेसबुक पर 24 घंटे बाद 89235 लोग फॉलो करने लगे हैं.untitled
  • इस जवान ने 8 जनवरी 2017 को दोपहर 2 बजकर 30 मिनट पर विडियो को अपलोड किया है जिसे अभी तक 7.9मिलियन लोगों ने देखा है.
  • इस जवान ने अपने फेसबुक पर अपना मोबाइल नंबर भी डाल दिया जिसे 327 बार से ज्यादा शेयर किया जा चुका है.
  • इस जवान की सभी पोस्ट अभी तक लगभग 10 हजार बार से ज्यादा शेयर किया जा चुका है.
  • गूगल की ट्रेंडिंग  में अंतिम कुछ घंटों में सबसे ज्यादा बार तेज बहादुर यादव को ही सर्च किया गया है. तेज  बहादुर यादव को दिल्ली में सबसे ज्यादा बार सर्च किया गया साथ ही हरियाणा, कर्णाटक, राजस्थान के साथ ही यूपी में सर्च किया गया है.untitled2

यह भी पढ़े- खिलाड़ियों के Tweets में झलका BSF जवान का दर्द

क्या था पूरा मामला

सोमवार को एक बीएसएफ जवान का वीडियो सोशल मीडिया वायरल हुआ था जिसमें उसने आरोप लगाया था कि उनके अधिकारी जवानों के साथ कितना अन्याय करते हैं. उस वीडियों में दिखाया था कि उनको घटिया क्वालिटी का खाना दिया जाता था. बीएसएफ जवान ने अधिकारियों पर भ्रष्टाचार का गंभीर पर लगाया. आरोप लगाने वाले जवान का वीडियो वायरल होने के बाद बीएसएफ ने सफाई दी है. बीएसएफ ने आश्वासन दिया है कि जवान के आरोपों की पूरी जांच की जाएगी. हालांकि, यह भी कहा कि आरोप लगाने वाला जवान अनुशासनहीनता के मामले में दोषी रहा है. 2010 में उसका कोर्ट मार्शल होना था, लेकिन उसके परिवार को ध्यान में रखते हुए नरमी बरती गई और ऐसा कोई कदम नहीं उठाया गया.

बीएसएफ के आईजी डीके उपाध्याय ने कहा कि यह संवेदनशील मामला है और पूरे मामले की जांच करने के बाद उसके मुताबिक ही कदम उठाए जाएंगे. उपाध्याय ने कहा, ‘मैं सहमत हूं कि शायद खाने का स्वाद बहुत अच्छा न हो, लेकिन जवानों से इस बारे में कभी कोई शिकायत नहीं मिली.’उपाध्याय के मुताबिक, जाड़ों की वजह से कई बार खाने का स्वाद अच्छा नहीं होता, लेकिन जवान शिकायत नहीं करते. जवान तेज बहादुर यादव के आरोपों पर उन्होंने कहा कि जांच के आदेश दे दिए गए हैं. अगर कोई कमी पाई गई तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

 

loading...