February 20, 2017 2:43 PM
Breaking News

पैसेंजर ट्रेन बनी भूसागाड़ी, जान हथेली पर रख चलते हैं लोग

हिन्द न्यूज़ डेस्क : हे भगवान् कब इस भीड़ से निजात मिलेगा टिकट लेते है तब भी लटक के जाना पड़ता है हद है रेलवे वालों की टिकट लो फिर भी भूषे की भर के जाते है  | ये  कहना है प्रतिदिन ट्रेन से चलने वाले यात्रियों का | आपको बता दें कि ये हाल है सुबह 8 बजे फर्रुखाबाद से कानपुर को आने वाली पैसेंजेर ट्रेन का | कभी लटक कर तो कभी भीषण भीड़ में फंस कर लोगों को आये दिन किसी न किसी समस्या का सामना करना पड़ता है |

commuters-hang-onto-crowded-local-passenger-train-eastern-indian-city-patna-reuters-file

गर्मियों में तो इसका हाल और भी बुरा हो जाता है खास तौर पर लड़कियों और हार्ट पेशेंट मरीजों की हालत बाद से बत्तर हो जाती है | हर रोज लोग इतनी सारी मुशीबतों को झेलते हुए अपनी रोजी रोटी के लिए घर से निकलते है, पर ये किसी को नहीं पता होता है कि वो वापस घर आएंगे भी की नहीं | ट्रेन हादसे के मामले में यह पैसेंजेर ट्रेन पीछे नहीं है | जीआरपी वाले तो कभी कबार अपनी शक्ल दिखने आ भी जाते है पर टीटीआई का तो जवाब ही नहीं | टिकट चेक करने तो आ जाते है पर लोगों की समस्या को नजर अंदाज कर देते है | शिकायत करने पर दो तीन दिनों के लिए तो आराम हो जाति है,

passenger-train

इसके बाद फिर से वही रोना हो जाता है |