February 24, 2017 11:47 AM
Breaking News

झुमरी तलैया का एक अनोखा राज अनसुना अंजाना सा

हिन्द डेस्क : जिस जगह की हम बात करने जा रहे आप उस नाम से बखूब ही परिचित होंगे. पर शायद ही आप लोगो को उस जगह का राज पता हो. टीवी से लेकर रेडियो में उसका नाम आए बिना कोई भी डायलाग या बात कंप्लीट नही होती.

यही नहीं आप उस नाम को सबसे ज्यादा अगर सुना होगा तो वह है दिलों को जोड़ने वाला रेडियो. अब तो आप समझ ही गए होंगे कि एचएम किस जगह की बात कर रहें है. जी हां सही पहचाना यहां बात हो रही है झुमरी तलैया की.  रेडियो में आने वाले हर प्रोग्राम में सबसे ज्यादा सुनने वालों यहां की है. आइए जानते है इसकी हिस्ट्री के बारे में-

झुमरी तिलैया एक कस्बा है जो झारखंड के कोडरमा शहर की दामोदर घाटी में है. यहां की आबादी करीब 70 हजार है और यहां के स्थानीय निवासी मगही भाषा बोलते हैं. झुमरी तलैया कोडरमा जिला मुख्यालय से करीब 6 किमी की दूरी पर स्थित है. झुमरी तलैया में करीब दो दर्जन स्कूल और कॉलेज हैं.इनमें से एक तलैया सैनिक स्कूल भी है.

tilau

दामोदर नदी में आने वाली विनाशकारी बाढ़ को रोकने के लिए बनाए गए तलैया बांध के कारण इसके नाम के साथ तलैया जुड़ा है.इस बांध की ऊंचाई करीब 100 फीट और लंबाई 1200 फीट है.इस बांध का ऐतिहासिक महत्त्व भी है कि यह देश की आजादी के बाद भारत में बनाया गया पहला बांध है.
इसका रिजरवायर करीब 36 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है.काफी हरा-भरा क्षेत्र होने के कारण यह एक अच्छे पिकनिक स्पॉट के रूप में भी जाना जाता है.
झरना कुंड, तलैया बांध और ऊंचे पहाड़ों सहित यहां कई पर्यटन स्थल भी हैं.इसके अलावा राजगिर, नालंदा और हजारीबाग राष्ट्रीय पार्क यहां के अन्य नजदीकी पर्यटन स्थल हैं. झुमरी तलैया पहुंचने के लिए नजदीकी रेलवे स्टेशन कोडरमा है जो नई दिल्ली-कोलकाता रेलमार्ग पर स्थित है.

झुमरी तलैया का राज-

झुमरी तलैया को अक्सर एक काल्पनिक जगह समझने की भूल कर दी जाती है लेकिन इसकी ख्याति की प्रमुख वजह एक जमाने में यहां की अभ्रक खदानों के अलावा यहां के रेडियो प्रेमी की बड़ी संख्या भी है. इसका भी एक इतिहास है. उस दौर में टीवी देशभर में व्यापक रूप से नहीं फैला था, तब ‘विविध भारती’ था जो लोगों के बीच चर्चित था.

images-11

झुमरी तलैया के रेडियो प्रेमी विविध भारती के फरमाइशी कार्यक्रमों में सबसे ज्यादा चिट्ठियां लिखने के लिए जाने जाते थे. यह छोटा और खूबसूरत शहर पहले विविध भारती पर गानों के अनुरोध की वजह से चर्चा में आ गया था. जानकारी के मुताबिक, मूल रूप से झुमरी तिलैया एक खनन कस्बा था, जो कि 1957 में अपने विविध भारती से संबंध की वजह से मशहूर हुआ था.जबकि भारत में कई सारे टीवी चैनल और एफएम रेडियो स्टेशन शुरू ही नहीं हुए थे, विविध भारती के कार्यक्रम राष्ट्रीय आयोजन बन गए थे.विविध भारती के कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में अनुरोध झुमरी तलैया से आया करते थे.

download-7
इस कस्बे के युवा श्रोता आपस में एक प्रतियोगिता-सी किया करते थे कि एक दिन या महीने में कौन सबसे ज्यादा रेडियो पर अपनी पसंद के गाने चलवाता है. श्रोता, रामेश्वर बर्णवाल और नन्दलाल सिन्हा तो अपना नाम लगभग हर रोज इस कार्यक्रम में बुलवाने में सफल रहे. इस तरह से विविध भारती के श्रोता झुमरी तलैया कस्बे से परिचित हो गए.

‘झुमरी तलैया’ अपने अनूठे नाम की वजह से लोगों के रुझान का केंद्र बन गया और फिल्मों में इसे इस्तेमाल किया गया। इस शहर की ‘कलाकंद’ नाम की मिठाई भी खासी मशहूर है.

झुमरी तिलैया एक समय अपने अबरख के खदानों के लिये मशहूर था.1890 में कोडरमा के आसपास रेल की पटरी बिछाने के दौरान यहां अबरख की खानों का पता चला, इसके आसपास से उत्तम किस्म का अबरख निकाला जाता रहा है.
इस कस्बे का एक रेलवे स्टेशन है जिसका नाम कोडरमा रेलवे स्टेशन है. क्योंकि यह स्टेशन दिल्ली हावड़ा रोड पर पड़ता है यह बड़े शहरों जैसे दिल्ली, कलकत्ता, मुंबई, अहमदाबाद, लखनऊ, भुवनेश्वर से कई ट्रेनों के जरिए जुड़ा हुआ है, जिनमें राजधानी एक्सप्रेस भी है.भारी रेलवे यातायात के कारण इसे जंक्शन में बदला जा रहा है.